Browsing Category

राजनीति

बिहार में राजनीतिक परिवर्तन और उसके मायने

बिहार में नीतीश कुमार की सरकार गिर गयी है और ये लेख लिखे जाने तक अगली सरकार के गठन की रूपरेखा सामने नहीं आयी है, लेकिन इतना तो साफ़ है कि…
Read More...

बिहार – अश्क आंखों में कब नहीं आता (डायरी, 10 अगस्त, 2022)

कल फिर बिहार की सियासत पर पूरे देश की नजर रही। इसकी वजह भी थी। अभी एकदम हाल ही में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा के राष्ट्रीय…
Read More...

क्या हमारे न्यायाधीश मानवीय कमजोरियों से सर्वथा मुक्त हो सकते हैं?

विगत दिनों सुप्रीम कोर्ट के अनेक फैसले नकारात्मक कारणों से चर्चा में रहे। इनमें कुछ फैसले जरा पुराने थे और कुछ एकदम हाल के। इन फैसलों के…
Read More...

तिरंगे के जज्बे को फिर से जगाना जरूरी

इस साल (2022) के 15 अगस्त को हम अंग्रेजों की गुलामी से हमारे देश की मुक्ति की 75वीं वर्षगांठ मनाएंगे। यह समय है आत्मचिंतन का और अपने आपको एक…
Read More...

अशोक स्तम्भ विवाद में जो कुछ हो रहा है वह अप्रत्याशित नहीं

सेंट्रल विस्टा की ऊपरी मंजिल पर स्थापित अशोक स्तंभ की प्रतिकृति के अनावरण के बाद से प्रारंभ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। देश के अनेक…
Read More...

क्या कांग्रेस भाजपा की विकल्प हो सकती है?

एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है जिसमें पुलिसवालों से घिरे हुए राहुल गाँधी ज़मीन पर बैठे हैं। राहुल एक राष्ट्रीय स्तर के नेता के साथ…
Read More...

द्रौपदी मुर्मू से पहले भारत में राष्ट्रपतियों की परम्परा को भी देखिए

आज द्रौपदी मुर्मू ने भारत की 15वीं राष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण कर लिया। इस अवसर पर उन्हें शुभकामनाएं। द्रौपदी मुर्मू ने विपक्ष के…
Read More...

क्या भारत सरकार बदले की भावना से काम कर रही है?

देश की जनता को अगर आप ध्यान से देखें तो इस वक़्त आप इन्हें चार भागों में बाँट सकते हैं। एक वो लोग जो लगातार शासक वर्ग के तमाम जनविरोधी कामों…
Read More...

क्या राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू भारत आदिवासियों के साथ होनेवाले अन्याय को ख़त्म करेंगीं

संविधान निर्माताओं समेत स्वाधीनता संग्राम से मंज-तपकर निकले सिद्धान्तनिष्ठ और खरे राजनेताओं की उस पुरानी पीढ़ी ने (जिसे यह पता था कि हमारा…
Read More...

आज का सबसे बड़ा मज़ाक, ‘लोकतंत्र ख़तरे में है’

'लोकतंत्र ख़तरे में है', क्या सचमुच! वैसे ये लोकतंत्र था कहाँ जो ख़तरे में आ गया! क़िताबों में जहाँ लोकतंत्र था, वहाँ तो आज भी है, जीवन में…
Read More...