Browsing Category

साहित्य

प्रेमचंद ने समाज की विसंगतियों से कलम के बल पर होड़ लिया – कृष्ण कुमार यादव

 वाराणसी। मुंशी प्रेमचंद एक साहित्यकार, पत्रकार और अध्यापक के साथ ही आदर्शोन्मुखी व्यक्तित्व के धनी थे। एक पत्रकार को कभी भी…
Read More...

छोटे किसान क्यों लगातार बनते जा रहे हैं मजदूर

शहरों में बैठे जिन लोगों को लगता है कि खेती करना बहुत आसान है, ऐसे लोगों को प्रेमचंद की कहानी पूस की रात जरूर पढ़नी चाहिए। किसान जाड़ा,…
Read More...

वर्ग तथा जातीय उत्पीड़न के बीच मजदूर वर्ग का पक्ष!

वर्ग के अंदर के अंतर्विरोध में जातीय उत्पीड़न उपेक्षा के रूप में आता है। वर्तमान में उत्तर प्रदेश के दलित मंत्री के इस्तीफा देना की घटना को…
Read More...

जन नाट्य मंच के 50 वर्ष

1973 में स्थापित जन नाट्य मंच (जनम), दिल्ली में स्थित एक प्रमुख नुक्कड़ नाटक समूह, इस वर्ष अपना स्वर्ण जयंती समारोह शुरू करने के लिए तैयार…
Read More...

सत्राची सम्मान- 2022 प्रो. चौथीराम यादव को

हिंदी के सुप्रसिद्ध आलोचक और धुरंधर वक्ता प्रोफ़ेसर चौथीराम यादव को 2022 का सत्राची सम्मान देने की घोषणा की गई है। प्रोफ़ेसर चौथीराम यादव…
Read More...

ओमप्रकाश वाल्मीकि हिन्दी दलित साहित्य के पुरोधा और शिखर लेखक हैं

ओमप्रकाश वाल्मीकि स्मृति साहित्य सम्मान समारोह- 2022 का आयोजन  30 जून 2022, शाम 5 बजे, साहित्य चेतना मंच, सहारनपुर (उत्तर प्रदेश) द्वारा…
Read More...

भाजपा शासनकाल में हुए खौफ़नाक बदलाव का आख्यान है किशन लाल का उपन्यास- चींटियों की वापसी

रायपुर। 26 जून रविवार को स्थानीय वृंदावन हाल में युवा लेखक किशन लाल के उपन्यास चींटियों की वापसी पर देश के नामचीन लेखकों और…
Read More...

तुम सत्ताधारी हो मैं सत्ताहीन

फर्क तुम्हारे और मेरे में फर्क क्या है। यही न जैविक रूप से तुम पुरुष हो मैं स्त्री। तुम सत्ताधारी हो मैं सत्ताहीन। लेकिन हैं तो हम…
Read More...

शिद्दत से याद किए गए कबीर और नागार्जुन

मंगलवार को कबीर एवं नागार्जुन जयंती के अवसर पर प्राक परीक्षा प्रशिक्षण केंद्र, दरभंगा पर जनसंस्कृति मंच दरभंगा के तत्वावधान में पूरी शिद्दत…
Read More...

सासाराम साहित्य फेस्टिवल संपन्न

भारतीय लेखक संघ के तत्वावधान में लालगंज (सासाराम) के मैत्री भवन में सासाराम साहित्य फेस्टिवल का आयोजन किया गया। मार्क्सवादी…
Read More...