Browsing Category

सिनेमा

भद्रजनों का खेल और सिनेमा

क्रिकेट भद्रजनों का खेल कहा जाता रहा है, अब यह कितना भद्र बचा है और कितने भद्र लोग इसके कर्ताधर्ता हैं यह विचारणीय विषय है। अंग्रेज इस खेल…
Read More...

प्यासा से राॅक स्टार तक स्वतंत्र लेखकों और कलाकारों का वजूद

लेखकों, कवियों, शायरों, संगीतकारों के जीवन संघर्ष को चित्रित करने वाली कुछ बेहतरीन फिल्में बाॅलीवुड और दुनिया भर के सिनेमा में समय-समय पर…
Read More...

एक ऐसा अभिनेता जो हिंदी सिनेमा की परम्परा को तोड़ता है

आयुष्मान खुराना बॉलीवुड के भरोसेमंद और प्रतिभाशाली अभिनेता हैं। वह फिल्मी दुनिया में बाहरी व्यक्ति हैं मतलब किसी जमे- जमाए परिवार से नहीं…
Read More...

साहब, बीवी और गुलाम : ढहते हुए सामन्तवाद की दास्तान

गुरुदत्त भारतीय सिनेमा के महानतम फ़िल्मकारों में से एक हैं। गुरुदत्त की जीवनी लेखिका ने सिनेमा जगत में उनके योगदान को लेकर एक महत्वपूर्ण…
Read More...

ऑस्कर में डोनाल्ड ट्रंप के दिए जख्मों पर मरहम लगाने का प्रयास

फिल्मों की दुनिया में नोबेल सरीखा महत्त्व रखने वाले एक और ऑस्कर अवार्ड्स की घोषणा 27 मार्च को हो गयी, जिसमें विविधता का रंग और चटखदार हुआ…
Read More...

मोहित करने के साथ ही असहमति की भी जगह बनाता है प्रकाश झा का सिनेमा

प्रकाश झा भारतीय सिनेमा के ऐसे महत्वपूर्ण निर्देशक हैं जो पर्दे पर बड़ी भव्यता के साथ भारतीय सामाजिक और राजनीतिक आख्यान रचने का बारीक कौशल…
Read More...

हॉलीवुड में महिला शक्ति की नयी प्रतीक बन गई हैं जेन कम्पियन

‘ऑस्कर अवॉर्ड’ फिल्मों का नोबेल पुरस्कार सरीखा सबसे प्रतिष्ठित अवॉर्ड है, जिसका हर साल सिनेमाप्रेमी  बड़ी बेसब्री से इंतजार करते हैं।  इस बार…
Read More...

एकतरफा राजनीतिक प्रोपेगंडा बन जाना इस फिल्म के फिल्म होने पर संदेह पैदा करता है

नस्लवाद और नरसंहार पर समय-समय पर फिल्में बनती रही हैं। यहूदियों के नरसंहार पर कई फिल्में बनें हैं। युवा फ़िल्मकार मनोज मौर्य के अनुसार पूरी…
Read More...

मीनाक्षी सुन्दरेश्वर अर्थात धोती खोलकर पगड़ी बांधना

मीनाक्षी सुन्दरेश्वर फिल्म अपनी पहचान को स्थापित करने के लिए रिश्तों यानी परिवार और दाम्पत्य जीवन को भेंट चढ़ाने और फिर से रिश्तों में…
Read More...

हिंदी सिनेमा में राजकपूर का आना एक नए दौर का आगाज़ था

हिन्दी सिनेमा के बहुमुखी प्रतिभा के धनी व्यक्तित्व जो मुझे बहुत पसंद हैं वे हैं राजकपूर, गुरुदत्त, गिरीश कर्नाड एवं अमोल पालेकर। चौदह साल की…
Read More...