Browsing Category

रोजगार

पेंटागन के बिल्ले यहीं शिवाले में बनते हैं

शिवाले की गली में घुसते ही एक पुरानी, सीलन भरी और पुराने सामानों से अंटी पड़ी कोठरी में दो कारचोब पर दो लोग झुके हुए बिल्ले पर कढ़ाई कर रहे…
Read More...

अर्थव्यवस्था के कुठाराघात ने बनारस में खिलौना बनानेवालों को तबाही के कगार पर ला खड़ा किया है

बनारस अपनी अनेक चीजों के लिए दुनियाभर में जाना जाता है। यहाँ की गलियाँ, गालियाँ, मिठाई, घाट, पंडे, पान, विश्वविद्यालय और भौकाल सबकुछ दूर-दूर…
Read More...

खिलौना रंगने वाली औरत की साठ रुपये रोज पर कैसे गुजर होती होगी?

बनारस के मुहल्लों में काम कर रहे श्रमिकों का कठिन जीवन - पहली किश्त  एक  छत पर पहुँचते ही रंग की तेज गंध नाक में घुसी। वहाँ तीन महिलाएँ और…
Read More...

बनारसी साड़ी के कारोबार का एक साहित्यिक आकलन

 बनारसी साड़ी का कारोबार कहते हैं कि बर्बाद हो चुका है। इस बर्बादी के बहुत से किस्से हैं और अनेक तो बहुत भयानक हैं। हाथ से बुनाई का युग…
Read More...

भविष्य के अंदेशों के बीच बम्बइया मिठाई

बहुत दिनों के बाद आज अचानक कालोनी में डमरू की आवाज सुनाई दी। तुरंत बाद गाने की आवाज आई ... छोटे-बड़े-बच्चों का ध्यान किधर है, बम्बइया मिठाई…
Read More...

छत्तीसगढ़ के बसोड़ जिनकी कला के आधे-अधूरे संरक्षण ने नई पीढ़ी की दिलचस्पी खत्म कर दी है

छत्तीसगढ़ में बांस की कलाकारी करनेवाले बड़े से बड़े लोक कलाकार और दस्तकार की तकलीफ यह है कि उसके बच्चे इस कला के प्रति उदासीन होते जा रहे हैं।…
Read More...

योगी का ठाकुरवाद ब्राम्हणवाद की ओट भर है

2020 के चुनाव का क्रमिक विश्लेषण - भाग 2  योगी आदित्यनाथ पर ठाकुरों को तरजीह देने का आरोप लगाया जाता रहा है और यह दावा किया गया था कि…
Read More...

अशोका इंस्टीट्यूट के 85 छात्रों ने लाखों के पैकेज पर पाई नौकरियां

वाराणसी के अशोका इंस्टीट्यूट आफ टेक्नालाजी एंड मैनेजमेंट कॉलेज, पहड़िया में आयोजित ऑन कैंपस और वर्चुवल प्लेसमेंट ड्राइव में…
Read More...

बनारस के उजड़ते बुनकरों के सामने आजीविका का संकट गहराता जा रहा है

बनारस की सबसे घनी और गंदी बस्तियों में से एक लल्लापुरा अपनी कहानी कहने के लिए किसी उपमान को खोजने की मोहलत नहीं देता। बड़ी आसानी से आप समझ…
Read More...

कोरोनाकाल और युवाओं के भविष्य पर अनिश्चितता की तलवार

 हमारे देश में किसी को परमानेंट सरकारी नौकरी मिलना ऐसा है जैसे हीरे की खान हाथ लग जाना । देश में बढ़ती जनसंख्या और बेरोजगारी से जूझ रहे युवा…
Read More...