Browsing Tag

कामख्या

हिंसा का उत्सव जायज नहीं (डायरी 12 अक्टूबर, 2021)

आडंबर और पाखंड से कोई धर्म नहीं बचा हुआ है। या कहिए कि हर धर्म में केवल और केवल आडंबर और पाखंड ही है। फिर चाहे वह कोई भी धर्म हो। अभी इसी…
Read More...