Browsing Tag

शाह शमस दी खाल लहायो

चल बुल्लेया चल ओथे चलिए जिथे सारे अन्ने

हद हद टपे सो औलिया बेहद टपे सो पीर। हद अनहद दोउ टपे सो वाको नाम फ़कीर।। जहां कहीं भी पीर और मुर्शिद का ज़िक़्र होगा, जहां मस्ती, खुमार,…
Read More...