Saturday, July 20, 2024
होमTags#बिश्वनाथ_घोष

TAG

#बिश्वनाथ_घोष

बिश्वनाथ की कविताओं में बनारस

इस शहर में धूल धीरे-धीरे उड़ती है धीरे-धीरे चलते हैं लोग धीरे-धीरे बजते हैं घंटे शाम धीरे-धीरे होती है। ...कभी आरती के आलोक में इसे अचानक देखो अद्भुत है इसकी बनावट यह...

ताज़ा ख़बरें