Tuesday, April 16, 2024

Lok Sabha Election : सोशलिस्ट पार्टी (इंडिया) ने नगीना में चंद्रशेखर आजाद को दिया समर्थन

सोशलिस्ट पार्टी (इंडिया) के अनुसार, 'वह न सिर्फ इस देश के गरीब, दलित, वंचित समाज के अधिकारों के लिए लड़ने वाले सबसे सशक्त उम्मीदवार हैं बल्कि भारत के लोकतंत्र व संविधान पर आए संकट के खिलाफ भी मजबूती से लड़ सकते हैं।'

लोकसभा चुनाव : मणिपुर में अमित शाह की रैली के बीच कुकी संगठनों ने किया चुनाव बहिष्कार का ऐलान, कांग्रेस ने पीएम मोदी को...

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की इम्फाल में रैली के दौरान आज ही मणिपुर के कुकी समुदायों से जुड़े संगठनों ने लोकसभा चुनाव के बहिष्कार का ऐलान कर दिया है।

Lok Sabha Election : भाजपा और कांग्रेस ने सिर्फ 13-14 फीसदी महिलाओं को ही टिकट दिया, महिला आरक्षण के दावे हवा-हवाई

लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर उम्मीदवारों की घोषणा जारी है। हैरान करने वाला तथ्य यह है कि भाजपा और कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव 2024 के लिए अभी तक मुस्लिम समुदाय की एक भी महिला को अपना उम्मीदवार नहीं बनाया है।

बस्तर लोकसभा : मोदी के जुमलों पर न्याय का हथौड़ा भारी

बस्तर लोकसभा में पांच साल पहले कांग्रेस से 4.27% वोटों से पीछे रहने वाली भाजपा आज 7.91% वोट से आगे है। निश्चित ही ये आंकड़ें प्रभावशाली हैं और भाजपा के पक्ष में हैं। इसके बावजूद भाजपा के चेहरे पर चिंता की लकीरें हैं और वह पूरी तरह आश्वस्त नहीं हैं।

ग्राउंड रिपोर्ट

देश

राज्य

हरियाणा : महेंद्रगढ़ में स्कूल बस पलटने से छह छात्रों की मौत व 20 घायल, ईद की छुट्टी के बावजूद खुला था स्कूल

दुर्घटनाग्रस्त बस एक निजी स्कूल की थी। चालक तेज गति से बस चला रहा था, जिससे उसने नियंत्रण खो दिया और बस एक पेड़ से टकराने के बाद पलट गयी।

उत्तर प्रदेश : आर्थिक तंगी से परेशान दो किसानों ने की आत्महत्या, प्रदेश में तेजी से बढ़ रहे हैं किसान आत्महत्या के मामले

उत्तर प्रदेश में 2021 की तुलना में 2022 के दौरान किसानों और खेतिहर मजदूरों की आत्महत्या के मामलों में 42.13 फीसदी की वृद्धि हुई है। 

गुजरात : किसान परिवार से इलेक्टोरल बॉन्ड खरीदवाकर भाजपा और शिवसेना को चंदा पहुंचाया गया ? मामले में पुलिस की जांच जारी

शुरू से ही सवालों और संदेहों के घेरे में रही, सुप्रीम कोर्ट द्वारा हाल ही में बंद कर दी गई इलेक्टोरल बॉन्ड योजना को लेकर गुजरात से चौंकाने वाला मामला सामने आया है।  

हरियाणा : चौधरी बीरेंद्र सिंह ने की कांग्रेस में घर वापसी, MSP के मुद्दे पर भाजपा को घेरा

हरियाणा के प्रमुख राजनीतिक चेहरे चौधरी बीरेंद्र सिंह 2014 में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे, आज करीब 10 साल बाद उन्होंने फिर से कांग्रेस में घर वापसी कर ली है। अपने सम्बोधन में उन्होंने भाजपा की नीतियों पर सवाल उठाते हुए भाजपा का बोरिया बिस्तर समेटने का आह्वान भी कर डाला।

यूपी : सुल्तानपुर के चर्चित घनश्याम तिवारी हत्याकांड मामले में जमानत पर बाहर आये विजय नारायण सिंह की गोली मार कर हत्या

सुल्तानपुर के चर्चित घनश्याम तिवारी हत्याकांड में आरोपी विजय नारायण सिंह की शाम में दरियापुर तिराहे पर गोली मार कर हत्या कर दी गई। लोग इसे घनश्याम तिवारी हत्याकांड के बदले के रूप में देख रहे हैं।

ग्राउंड रिपोर्ट : पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के बीरभानपुर गांव में कुएं का दूषित पानी पीने को मजबूर आदिवासी

तमाम सरकारी दावों के बीच प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में आदिवासी आज भी कुएं का दूषित पानी पीने को मजबूर हैं। पिछले तीन वर्षों से बीरभानपुर के वनवासी कुएं से पानी निकाल कर पी रहे हैं लेकिन जिला प्रशासन या गांव के प्रधान की ओर से हैंडपंप को बनवाने या नया हैंडपंप लगवाने की कोई जरूरत नहीं समझी गई।

काशी : अंतिम संस्कार के लिए परिजन अपनों की लाशें लेकर इधर से उधर क्यों भटक रहे हैं?

भारत देश में काशी नगरी पर आस्था रखने वालों की यह दिली तमन्ना होती है कि मरने के बाद उनका अंतिम संस्कार इसी नगरी में किया जाये। यहाँ अंतिम संस्कार के लिए आसपास के लोग आते भी हैं। लेकिन इधर प्रशासन ने शव ले जाने वाले मणिकर्णिका रास्ते में बदलाव कर भैंसासुर घाट से ले जाने का आदेश जारी कर जनता के लिए परेशानी खड़ी कर दी है।

जलवायु परिवर्तन : कश्मीर के खानाबदोश समुदायों के लिए मुसीबत बनीं वज्रपात की घटनाएं

भारतीय उष्णकटिबंधीय मौसम विज्ञान संस्थान के अनुसार, जम्मू और कश्मीर में बिजली की घटनाओं की संख्या 2019 में 65,666 से बढ़कर 2022 में 1,74,332 हो गई है। 3 वर्षों के भीतर ही 172% की वृद्धि दर्ज की गई है।

वाराणसी : पीएम मोदी ने जिस गांव को गोद लिया उस ‘जयापुर’ में गरीबों के राशन में हो रही घटतौली

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में भ्रष्टाचार और कोटेदारों की मनमानी आज भी जारी है। प्रधानमंत्री द्वारा गोद लिए गए गांव जयापुर की भी यही कहानी है, गरीबों की थाली से लूट जारी है।

झारखंडः हाथियों के हमले में मारे जा रहे आदिवासी और किसान, यह चुनावों में मुद्दा क्यों नहीं होता ?

झारखंड के अलग-अलग इलाकों के जंगलों-पहाड़ों से घिरे-सटे और तलहटी वाले गांवों में हाथी- मानव संघर्ष का अंतहीन सिलसिला जारी है। इसमें जान-माल की लगातार क्षति हो रही है। घरों को ढाह दिये जाने और अनाज खा जाने से संकट की तस्वीर पीड़ादायक होती है। हाथियों के हमले में मारे जाने वाले लोगों में अधिकतर आदिवासी, साधारण किसान, महिला और मजदूर होते हैं। सैकड़ों गांव भय के साये में रहते हैं, लेकिन अफसोस की बात है कि चुनावों में यह मुद्दा नहीं होता। पड़ताल करती एक ग्राउंड रिपोर्ट..

चुनाव मतगणना में VVPAT की सभी पर्चियों की गिनती होगी या नहीं ? संबंधित याचिका पर 16 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

एक अप्रैल को न्यायालय ने निर्वाचन आयोग और केंद्र से नागरिक अधिकार कार्यकर्ता अरुण कुमार अग्रवाल की एक याचिका पर जवाब मांगा था। याचिका में चुनावों में वीवीपैट की सभी पर्चियों की गिनती का निर्देश देने का अनुरोध किया गया था।

तृणमूल कांग्रेस के नेताओं ने निर्वाचन आयोग के दफ्तर के आगे किया प्रदर्शन, दिल्ली पुलिस ने लिया हिरासत में

तृणमूल कांग्रेस आरोप लगा रही है कि केंद्रीय जांच एजेंसियां भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत केंद्र सरकार के इशारे पर विपक्षी दलों को निशाना बना रही हैं।

क्लाइमेट ऐक्टिविस्ट सोनम वांगचुक ने वापस लिया पश्मीना मार्च का कॉल, लेह को वॉर जोन में बदलने का लगाया आरोप

सोनम वांगचुक कहते हैं, 'सरकार को सिर्फ एक ही चिंता है कि चीन द्वारा किए गए अतिक्रमण का असर सरकार और वोटों पर न पड़े, कॉर्पोरेट्स के हित प्रभावित न हों। सरकार को सिर्फ कॉर्पोरेट और वोटों की फिक्र है, लोगों की नहीं, सुरक्षा की नहीं।'   

एल्गार परिषद केस में शोमा सेन को जमानत, 6 साल से जेल में बंद थीं दलित एवं महिला अधिकार कार्यकर्ता

शोमा सेन को 6 जून, 2018 को गिरफ्तार किया गया। उनके ऊपर यूएपीए के तहत अपराध का मामला दर्ज किया गया। शोमा सेन पर माओवादियों से संबंध रखने का आरोप लगाया गया है।

महंगाई की मार : प्याज-टमाटर और आलू के बढ़े दाम, वेज थाली हुई 7 फीसदी महंगी

आवक कम होने और कम आधार दर के कारण प्याज का दाम सालाना आधार पर 40 प्रतिशत, टमाटर का दाम 36 प्रतिशत और आलू का दाम 22 प्रतिशत बढ़ने से शाकाहारी थाली महंगी हो गई है।

वाराणसी : सीवर सफाईकर्मी को सुरक्षा उपकरणों के बिना ही मेनहोल में उतारा, दम घुटने से हुई मौत

देश में 2018 से नवंबर 2023 तक 400 से अधिक सफाईकर्मियों की मौत हुई है। 2018 में 76 मौतें, 2019 में 133, 2020 में 35, 2021 में 66, 2022 में 84 और नवंबर 2023 तक 49 मौतें दर्ज की गई थीं।

यूपी : गेहूं की खड़ी फसल में लगी आग, सैकड़ों बीघा फसल हुई बर्बाद, अखिलेश ने उठाई मुआवज़े की मांग

यूपी के इटावा और हमीरपुर में गेहूं के खेत में आग लगने से बड़ी मात्रा में गेहूं की फसल बर्बाद होने की खबर आ रही है। अखिलेश यादव ने उठाई मुआवजे की मांग।

अतुल प्रधान नहीं हैं मेरठ से सपा के प्रत्याशी, बदायूं में भी प्रत्याशी शिवपाल यादव के बदले जाने की चर्चा

बदायूं लोकसभा से सपा ने शिवपाल यादव को प्रत्याशी घोषित किया था। बीते दिन शिवपाल यादव ने बदायूं लोकसभा से चुनाव न लड़ने का ऐलान कर दिया है।

छत्तीसगढ़ : आदिवासी नेता सुरजू टेकाम की गिरफ्तारी पर सवाल, भाजपा सरकार पर लोकतांत्रिक मूल्यों को कमजोर करने का आरोप

आदिवासी एवं सामाजिक संगठनों का आरोप है कि राज्य की भाजपा सरकार की बस्तर में अहिंसा और सहभागी लोकतंत्र को प्रोत्साहित करने में कोई दिलचस्पी नहीं है। संगठनों ने राज्य सरकार से मांग की है कि बस्तर में माओवादियों के नाम पर निर्दोष आदिवासियों का दमन और फर्जी गिरफ्तारी पर तत्काल रोक लगाई जाए।

मुख्तार अंसारी की मौत का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, पुलिस हिरासत में हुई मौतों की CBI जांच की मांग

अधिवक्ता विशाल तिवारी ने मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से सुप्रीम कोर्ट में कहा है, ‘पिछले सात सालों में उत्तर प्रदेश पुलिस की हिरासत में 10 गैंगस्टर की मौत हुई है। इन 10 में से भी 7 की मौत तब हुई जब उन्हें अदालत की सुनवाई या स्वास्थ्य जांच के लिए ले जाया जा रहा था।' 

बाबाओं के इलाज को खतरनाक बताया सुप्रीम कोर्ट ने

आज हमारे देश में तार्किक सोच और पद्धतियों से परे केवल आस्था पर आधारित ज्ञान का ढोल पीटा जा रहा है। अनेक बाबा इस काम को अंजाम दे रहे हैं लेकिन शैक्षणिक संस्थाओं में भी आस्था आधारित ज्ञान विद्यार्थियों के दिमाग में ठूँसने का काम किया जा रहा है।

EVM के खिलाफ मतपत्र (बैलेट पेपर) से मतदान के पक्ष में एक सत्याग्रह

चण्डीगढ़ के महापौर चुनाव में मतपत्र में की जा रही हेरा-फेरी पकड़ी गई। अगर यही हेराफेरी मशीन के अंदर हो रही होती तो कैमरे से न पकड़ी जाती, शायद वहां मौजूद चुनाव अधिकारी भी न जान पाते कि मशीन के अंदर हेरा-फेरी हो रही है।

इस्लामोफोबिया अन्य धर्मों के प्रति फोबिया से इतना अलग क्यों?

दुनिया भर में जितना इस्लामोफोबिया की चर्चा होती है, उतनी अन्य धर्मों के फोबिया की नहीं जबकि अलग-अलग देशों में प्रचलित और हावी धर्मों के फोबिया का सामना लोगों को करना पड़ता है। क्यों इस्लामोफोबिया अन्य धर्मों के फोबिया से इतना अलग है पढ़िये इस लेख में 

पाखंड को बढ़ावा देने वाली पार्टी है भाजपा, अवैज्ञानिक सोच और धार्मिक कट्टरता का कर रही प्रसार

केंद्र की राजनीति में भाजपा भले ही सबसे बड़े दल के रूप में स्थापित हो लेकिन जनता के लिए उसने केवल धार्मिक नेरेटिव गढ़ने के अलावा कोई काम नहीं किया। जिसके परिणामस्वरूप देश के हर धर्म में कट्टरता सिर चढ़कर बोल रही है।

Loksabha chunav : यूपी की सात सीटों पर समाजवादी पार्टी ने उम्मीदवारों की घोषणा की

समाजवादी पार्टी ने रविवार को उत्तर प्रदेश की सात लोकसभा सीट पर उम्मीदवारों की घोषणा की। सपा ने मायावती के करीबी रहे बाबू सिंह कुशवाहा को जौनपुर लोकसभा क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया है तो वहीं दूसरी ओर श्रावस्ती से मौजूदा बसपा सांसद राम शिरोमणि वर्मा भी सपा की साइकिल पर सवार हो चुके हैं।

Loksabha chunav : भाजपा के चुनावी घोषणा पत्र से किसान, नौजवान और महंगाई जैसे मुद्दे गायब

भाजपा ने आज अपना चुनावी घोषणा पत्र जारी किया। चुनावी घोषणा पत्र में कहीं भी किसानों या युवाओं की बात नहीं की गयी है।

Loksabha chunav : हिंसाग्रस्त मणिपुर में कुकी और मैतेई दोनों समुदाय लोकसभा चुनाव के पक्ष में नहीं

मणिपुर जातीय हिंसा में पिछले एक साल से जल रहा है, इसी बीच कुकी और मैतेई दोनों समुदायों ने मणिपुर में लोकसभा चुनाव के लिए सही समय न होने की बात कही है।

LokSabha Chunav : राजद ने घोषणापत्र किया जारी, एक करोड़ रोजगार एवं बिहार को विशेष राज्य दर्जे का वादा

तेजस्वी यादव ने लोकसभा चुनाव के लिए राष्ट्रीय जनता दल का घोषणापत्र जारी किया। घोषणा पत्र में एक करोड़ बेरोजगार युवाओं को सरकारी नौकरी देने के साथ ही गरीब महिलाओं को प्रतिवर्ष एक लाख रुपये देने का वादा भी किया गया है। पत्र की अन्य विशेषताओं को जानने के लिए पढ़िए पूरी ....

Lokasabha Chunav : सपा ने कौशांबी और कुशीनगर से लोकसभा उम्मीदवार घोषित किये

समाजवादी पार्टी ने लोकसभा चुनाव के लिए कौशाम्बी से पुष्पेन्द्र सरोज और और कुशीनगर से अजय प्रताप सिंह उर्फ पिंटू को अपना उम्मीदवार बनाया।

रासायनिक खेती के उदय और विकास में वैश्विक शक्तियों की भूमिका और लाभ की राजनीति

रासायनिक कंपनियों द्वारा उत्पादित रासायनिक खादों, दवाओं और आनुवंशिक रूप से संशोधित बीजों को कृषि में प्रयोग करने के इतिहास की गहराई से छानबीन करने से पता चल सकता है कि दुनिया भर की सरकारों ने जानबूझकर सोची समझी रणनीति के तहत रासायनिक कंपनियों को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से इसकी अनुमति दिया और अपनी कृषि नीतियों में बदलाव किया।

लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र सरकार की मनरेगा मजदूरी में आंशिक बढ़ोतरी पर विपक्षी नेताओं ने कसा तंज

जहां एक तरफ चुनाव से पहले मनरेगा मजदूरी में आंशिक बढोरती कर सरकार वाहवाही लूट रही है, वहीं इस बार वित्त वर्ष 2023-24 में सरकार मनरेगा के मद में लगभग 34 फीसदी की कटौती कर चुकी है।

Gender Pay Gap: पुरुषों के मुकाबले महिलाओं को कम वेतन, आधी आबादी आज भी असमानता की शिकार : रिपोर्ट

लैंगिक वेतन अंतर असमानता : 90 फीसदी से ज्यादा यानि 310 करोड़ महिलाएं ऐसे देशों में रह रही हैं जहां उन्हें अभी भी पुरुषों से कमतर आँका जाता है। इन देशों की सूची में भारत भी शामिल है।

रासायनिक खेती का सच : कारपोरेट खेती और जहरीले खाद्यान से कैसे मिलेगी निजात?

क्या वास्तविक रुप में दोबारा रासायनिक खेती छोड़ कर पारम्परिक खेती की ओर लौटा जा सकता है? यदि हाँ तो उसकी क्या रणनीति है?

पश्चिम बंगाल : केंद्र और राज्य सरकार के टकराव में मनरेगा मजदूरों की फजीहत

केंद्र सरकार द्वारा पश्चिम बंगाल को मनरेगा का बजट नहीं दिये जाने पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नाराजगी जाहिर करते हुए 21 लाख मनरेगा मजदूरों को भुगतान करने की प्रक्रिया शुरू कर दे है।

क्यू एस रैंकिंग : जेएनयू देश का नंबर 1 विश्वविद्यालय, भारत शोध क्षेत्र में चौथा सबसे बड़ा देश बना

भारत अब शोध क्षेत्र में दुनिया का चौथा सबसे बड़ा देश है और इस अवधि में 13 लाख अकादमिक शोध पत्र तैयार किए गए जो चीन के 45 लाख, अमेरिका के 44 लाख और ब्रिटेन के 14 लाख से पीछे है।

ग्रामीण भारत में स्कूली बच्चों के सीखने की उम्मीदें, सपने तथा आंकड़ों की प्रासंगिकता

असर 2023 में, जब 17-18 साल के युवाओं से पढ़ाई छोड़ने का कारण पूछा गया तो पता चला कि लगभग 19% युवाओं का पढ़ाई में मन नहीं था। 18% ने आर्थिक समस्या, 17% ने पारिवारिक समस्या, 8% ने व्यावसायिक प्रशिक्षण में स्थानांतरित होने की वजह से तथा 7% ने औपचारिक शिक्षा संस्थान घर से दूर होने के वजह से पढ़ाई छोड़ी। 

राजस्थान : पढ़ाई छोड़ चुकी किशोरियां, फिर से पढ़कर हो रहीं आत्मनिर्भर

बीकानेर (राजस्थान) के एक गाँव की किशोरियों के साथ महिलाएं भी स्वप्रेरित होकर शिक्षित हो आगे बढ़ने के लिए तत्पर हैं।

यूजीसी ने नेट परीक्षा को दो की जगह तीन श्रेणियों में बांटा, क्या अब पीएचडी में दाखिला लेना होगा सरल?

यूजीसी के नए नियमों के बाद पीएचडी में प्रवेश लेना सरल तो हो गया है लेकिन अभी भी कई आशंकाएं जाहिर की जा रही हैं।

जम्मू के पुंछ जिले के गांवों में डिजिटल कौशल से सशक्त बनती किशोरियां

ग्रामीण भारत की किशोरियां शिक्षा के क्षेत्र में मजबूती से अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हुए, डिजिटल माध्यमों का सहारा लेकर अपने सपनों को पूरा कर रही हैं।

महिलाएं मासिक धर्म के समय सैनिटरी पैड के उपयोग में सतर्कता रखें

माहवारी कोई बीमारी नहीं है यह तो प्राकृतिक प्रक्रिया है । इस समय उपयोग में आने पैड,कॉटन या सैनिटरी का उपयोग सावधानी से करें जो हर स्थिति में सुरक्षित हों।

कैंसर से बचने के लिए समय-समय पर स्वास्थ्य परीक्षण जरूरी

विशेषज्ञों का यह मानना है कि कैंसर के सभी रूपों का इलाज संभव है। लेकिन इसके लिए लोगों को स्वयं जागरूक होने की जरूरत है। उन्हें अपने शरीर में होने वाले किसी भी बदलाव को नज़रंदाज़ नहीं करनी चाहिए। समय-समय पर चेकअप इस बीमारी को गंभीर होने से पहले समाप्त कर सकता है। वहीं व्यायाम, पौष्टिक भोजन और तंबाकू उत्पादों के सेवन से परहेज इसके खतरे को कम करने में मददगार साबित होता है।

राजस्थान : लूणकरणसर गांव के लिए क्या अस्पताल ज़रूरी नहीं?

आगामी 01 फ़रवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 2024-25...

नव दलित लेखक संघ की ‘नव सृजन नव उल्लास’ मासिक गोष्ठी हुई संपन्न

कार्यक्रम में काव्य गोष्ठी का भी आयोजन किया गया था। काव्य गोष्ठी की शुरुआत राधेश्याम कांसोटिया के गीतों से होती है। राधेश्याम कांसोटिया ने गीतों के माध्यम से लोगों का मन मोह लिया

विघटनकारी नैरेटिव को मजबूती देते हुए, सच को तोड़-मरोड़ कर दिखाती फिल्म स्वातंत्र्यवीर सावरकर 

वर्ष 2014 के बाद, जब से लोगों के दिमाग में राष्ट्रवादी विचारधारा ज्यादा मजबूती से हावी हुई है, तब से समाज के सांस्कृतिक परिदृश्य में इसका प्रभाव भी बढ़ा है। जिसमें एक माध्यम सिनेमा भी है, जिसके माध्यम से जनता सबसे ज्यादा अपने ज्ञान को समृद्ध करने पर विश्वास करती है। अभी हाल में ही रणदीप हुड्डा की फिल्म स्वातंत्र्यवीर सावरकर रिलीज हुई है, जिसमें सावरकर को झूठे तथ्यों के साथ महान बताया गया है। 

क्या होली का त्योहार स्त्री हत्या का उल्लास-पर्व है?

होली उत्तर भारत का प्रमुख त्योहार है लेकिन इस त्योहार को मनाने के पीछे जो मान्यताएं हैं, वह हत्या के बाद खुश होने की है। सवाल यह उठता है कि स्त्री को जलाए जाने की खुशी में उत्सव मनाना कहां तक उचित है?

सिस्टम के डंके ने बजते ही पोल खोलने की दी गारंटी

मोदी सरकार की गारंटी का डंका इतना बज रहा है कि लगातार उन पर परोक्ष हमले जारी हैं, चाहे किसान आंदोलन हो, एलेक्टरोल बॉन्ड पर कोर्ट का फैसला हो, चंडीगढ़ का मेयर चुनाव के फैसले पर बाजी पलटी हो, या फिर गूगल के आर्टिफीशियल इंटेलीजेंस टूल जैमिनी हो, जिसने मोदी के फासीवादी होने के सवाल का जवाब दिया..सभी जगह उनकी पोल खोलते हुए डंका बज रहा है

मशहूर शायर मुनव्वर राणा के निधन से देश भर में शोक

उर्दू शायरी की दुनिया के प्रतिष्ठित और बड़े नाम मुनव्वर राणा के निधन से शायरी की दुनिया की एक जगह खाली हो गई।

विमर्श : सामाजिक न्याय के विरोधी आनंद शर्मा जैसे नेता कांग्रेस की समस्या बन चुके हैं

इंडिया गठबंधन एकजुट होकर चाहे तो बीजेपी को पस्त कर सकता है लेकिन वह असली मुद्दों से भटका हुआ नजर आ रहा है। बीजेपी की पोल खोलने के लिए उसके पास बहुत सारे मुद्दे पड़े हुए है। कांग्रेस नेतृत्व को आनंद शर्मा का आभारी होना चाहिए कि उन्होंने पार्टी नेतृत्व को पत्र लिखकर संगठन पर हावी प्रभुवर्ग के नेताओं के मंसूबों से आगाह कर दिया। आनंद शर्मा के पत्र के बाद राहुल गांधी को इस बात को अच्छी तरह से समझ लेना चाहिए कि कांग्रेस में छाए आनंद शर्मा जाति जनगणना और पाँच न्याय से खौफ़जदा होकर, इसे फेल करने में जुट गए हैं।

 चुनावी बॉण्ड का जाति शास्त्र

भारत में भ्रष्टाचार के खात्मे के लिए जाति की सही भागीदारी बहुत आवश्यक है। सवर्णों के हाथों में पाॅवर होने के कारण उनके अन्दर का भय खत्म हो गया है। ऐसे में शक्ति के स्रोतों में विविधता नीति लागू होने पर भ्रष्टाचार तो पूरी तरह खत्म नहीं होगा पर उसके प्रभाव क्षेत्र में 80-85 प्रतिशत की गिरावट आ जाएगी।

वर्तमान राजनीति को समझने के लिए जरूरी है कार्ल मार्क्स को याद करना

कार्ल मार्क्स अर्थशास्त्र का अध्ययन करने के लिए समय निकालने के लिए हमेशा आतुर रहते थे। उन्होंने अपने जीवन के कुल  पैंसठ साल के जीवन में से लगभग चालीस साल से भी ज्यादा समय समाजवाद के चिंतन और उसके अनुसार आदर्श समाज की स्थापना के लिए लगा दिया।

मध्य प्रदेश : लोकसभा चुनाव से पहले ही प्रदेश में कांग्रेस संगठन में मचा घमासान

लोकसभा चुनाव नजदीक है और कांग्रेस नेता लगातार पार्टी से इस्तीफा देते हुए भाजपा में शामिल हो रहे हैं। लोगों क कहना है, इससे 150 वर्ष पुरानी कांग्रेस पर आने वाले चुनाव में नकारात्मक असर दिखाई देगा ।

क्या कांग्रेस के जयचंदों के निकलने-उतरने से पार्टी की नाव भंवर से पार हो जाएगी?

कांग्रेस के प्रवक्ता मोदी को इस बात के लिए धन्यवाद दे रहे हैं कि वह कांग्रेस का कूड़ा-कचड़ा साफ कर रहे हैं। बहरहाल कांग्रेस के लोग भले ही अपने दल के प्रतिक्रियावादी नेताओं के पलायन को कूड़ा-कचड़ा मानकर संतोष कर लें, किन्तु खुद कांग्रेस समर्थक राजनीतिक विश्लेषकों में चिन्ता की लहर दौड़ गई है।