Friday, June 14, 2024

असद रिज़वी

उत्तर प्रदेश : सवाल करनेवाले पत्रकारों पर सत्ता और सत्ता पोषित गुंडों के बढ़ते हमले

विगत वर्षों के दौरान उत्तर प्रदेश में पत्रकारों के उत्पीड़न और जानलेवा हमलों के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। योगी आदित्यनाथ की सरकार के पहले कार्यकाल में राज्य में पत्रकारों के उत्पीड़न के 138 मामले दर्ज़ किए गए। दूसरे कार्यकाल में भी इसमें कमी नहीं आई है। विगत दिनों एक रैली की कवरेज के लिए गए पत्रकार पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने जानलेवा हमला किया और जौनपुर में सरे-बाज़ार एक पत्रकार को गोली मार दी गई।

किसानों ने फिर से आंदोलन और बंद का ऐलान क्यों किया है

लोकसभा चुनाव 2024 से पहले भाजपा को चुनौती देने के लिए किसान, मज़दूर, सरकारी कर्मचारी, महिलाएं और छात्र आदि एकजुट हो रहे हैं। इस...

’10 साल, 10 सवाल’: सांसदों को तो बाहर निकाल दिया, आक्रोशित छात्रों के अभियान से कैसे निपटेगी मोदी सरकार?

'मोदी सरकार के दस साल और यंग इंडिया के दस सवाल' के नाम से इन छात्रों ने एक अभियान शुरू किया है। इसमें उनके ऐसे शिक्षकों का भी बराबर योगदान है, जो नरेंद्र मोदी की सरकार से जवाबदेही सुनिश्चित करना चाहते हैं। सरकार से सवाल करने की कमान ऑल इंडिया स्‍टूडेंट्स असोसिएशन (आइसा) ने अपने हाथ में ले ली है।