Browsing Tag

पवन कुमार

एक हैं शायर वसीम एक हैं घरेलू वसीम !

पहला हिस्सा सामाजिक परिप्रेक्ष्य में एक जनवादी नारा है जिसमें संसाधनों की वाज़िब हिस्सेदारी की बात उठाई गई है। यह सच्चाई पूँजीवादी…
Read More...