Browsing Tag

samajik karykarta

लेखक समाज के आगे मशाल लेकर चलता है यह मुहावरा अब भ्रम पैदा करता है

बातचीत का तीसरा हिस्सा लेखक का एक्टिविज्म से जुड़ना कितना जरूरी है ? लेखक को हर उस चीज़ से जुड़ना चाहिए जो लोगों की ज़िन्दगी में सकारात्मक…
Read More...

आज ख़ामोश हो गई महिलाओं की मुखर आवाज़

कई महिलाओं की मुखर आवाज़ बनने वाली आज खामोश हो गई है। महिला वर्ग की विभिन्न लड़ाई लड़ने वाली जानी-मानी सामाजिक कर्याकर्ता कमला भसीन का…
Read More...