Browsing Tag

भूमिहार

भारत में कौन है जिसकी कहानी जाति से अलग है ….

लौटनराम निषाद का आत्मकथ्य  प्राथमिक शिक्षा काल में अपनी सोच बिल्कुल अबोध था।  जात-पाँत क्या होता है, यह मुझे नहीं मालूम था लेकिन धीरे-धीरे…
Read More...

‘सोलह आने’ का समाजवाद

जयप्रकाश कर्दम त्रिलोचन शास्त्री की ख्याति एक कवि के रूप में है। अन्य विधाओं की तुलना में पद्य में उन्होंने सर्वाधिक लेखन किया है, इसे…
Read More...