Browsing Tag

nawal ksihor kumar

संसदीय और असंसदीय शब्दों के बीचों-बीच (डायरी, 15 जुलाई, 2022) 

शब्द महत्वपूर्ण होते हैं। कितने महत्वपूर्ण होते हैं, यह एक सवाल हो सकता है। लेकिन इसका कोई पैमाना तय नहीं हो सकता। फिर चाहे वह कोई भी शब्द…
Read More...

आंदोलन नहीं, क्रांति कर रहे हैं भारतीय किसान डायरी (6 सितंबर,2021)

जाति व्यवस्था भारतीय समाज की कड़वी सच्चाई है और इसे कायम रखने में व्यापारी वर्ग के लोगों के साथ ही उच्च जातियों की बड़ी भूमिका है। ऐसा करने…
Read More...