Browsing Tag

सुल्तान अहमद

मुक्तिबोध को एक ग़ज़लकार की चिट्ठी -3

अगर इस कहानी में सिर्फ़ इतना ही होता कि बम गिराकर क्लॉड ईथरली को इतना पछतावा होता है कि वो अपने को सज़ा दिलाने के लिए तरह-तरह के जुर्म करने के…
Read More...

मुक्तिबोध को एक ग़ज़लकार की चिट्ठी – 2

आपके ज़माने में एक ऐसा तक़्क़ीपसंद नज़रिया भी राइज था, जिसमें इतनी भी ‘सहूलियत’ बर्दाश्त नहीं की जा पाती थी, जैसा कि नैरेटर बर्दाश्त नहीं कर…
Read More...

मुक्तिबोध को एक ग़ज़लकार की चिट्ठी-1

मोहतरम मुक्तिबोध जी ! कुल मिलाकर आपने जादू तो मुझपर यही कर रक्खा है कि आप कभी कोई कमज़ोर चीज़ रच ही नहीं सकते । इसीलिए आपकी पहली कहानी…
Read More...