Browsing Tag

dalit-bahujan

हिंदुत्व के खात्मे के लिए भूमि सुधार अनिवार्य  (डायरी 12 नवंबर, 2021)

मनुष्य होने की पहली शर्त यही है कि वह जड़ न रहे। जड़ता मनुष्य को पशुओं से भी अधिक हिंसक बना देती है। रही बात जड़ता की तो इसका संबंध धर्म से…
Read More...

बेपेंदी का लोटा बनते जा रहे हैं दलित-बहुजन डायरी (24 जुलाई, 2021)

हम मनुष्यों की एक सीमा होती है। मुमकिन है कि अन्य पशुओं में भी ऐसा होता होगा। अब चूंकि उनकी भाषा हमें समझ में नहीं आती है तो हम उनका आकलन…
Read More...