Browsing Tag

Panjab

और अब निशाने पर चरणजीत सिंह चन्नी(डायरी, 19 जनवरी 2022)

बिंब बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। हालांकि यह बात तब की है जब साहित्य से मेरा बस इतना ही लगाव था कि समय हुआ तो पढ़ लिया। तब तो मुझे साहित्य…
Read More...

चुनावों से पहले फिर एक बार ……

चुनावों से पहले फिर एक बार देश और हमारे प्रधानमंत्री की सुरक्षा संकट में है। हो सकता है चुनावों के बाद प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक का…
Read More...

जाम से निकले, केंद्र और राज्य के विवाद में फंसे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में  चूक के मुद्दे ने, डेल्टा प्लस वेरिएंट की याद ताजा कर दी है। कोरोना महामारी की दूसरी लहर में जब देश…
Read More...

बुल्ली बाई प्रकरण: संवेदनाओं और मूल्यों की नीलामी

निश्चित ही नफरत के पुजारियों ने इस बात का जश्न मनाया होगा कि वे बीस-इक्कीस वर्ष की आयु के तीन हिन्दू युवकों तथा अठारह वर्षीय हिन्दू युवती…
Read More...

मां की कविताएं उन किताबों में से गुम होती चली गईं जिन्हें छिपाकर दहेज के साथ ले आई थीं-1

पहला हिस्सा  मैं जब भी यहां, अपने मायके कलकत्ता आती हूं,  इस कमरे के बिस्तर के इस किनारे पर जरूर लेटती हूं- जहां मां लेटा करती थीं क्योंकि…
Read More...

यहाँ बिखरे थर्माकोल से विचरते हुये बगुलों का भ्रम होता है

महानंदा एक्सप्रेस 3 घंटे विलम्ब से चल रही थी, सुहाने मौसम के कारण झपकी आ गयी और नींद मोबाइल की रिंगटोन बजने से खुली, बनारस से रायसाहब का फोन…
Read More...