Wednesday, July 24, 2024
होमसंस्कृतिसाहित्यव्याकरण के प्रकांड विद्वान थे आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

व्याकरण के प्रकांड विद्वान थे आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी और आरसी प्रसाद सिंह की मनाई गई जयंती दरभंगा। आज विश्वविद्यालय हिंदी विभाग, ल.ना. मिथिला विश्वविद्यालय, दरभंगा में आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी और आरसी प्रसाद सिंह की जयंती मनाई गई। इस दौरान प्रो. उमेश कुमार उत्पल ने कहा कि कबीर पर काम करते हुए द्विवेदीजी स्वयं कबीर हो गए थे। बाणभट्ट […]

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी और आरसी प्रसाद सिंह की मनाई गई जयंती

दरभंगा। आज विश्वविद्यालय हिंदी विभाग, ल.ना. मिथिला विश्वविद्यालय, दरभंगा में आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी और आरसी प्रसाद सिंह की जयंती मनाई गई।

इस दौरान प्रो. उमेश कुमार उत्पल ने कहा कि कबीर पर काम करते हुए द्विवेदीजी स्वयं कबीर हो गए थे। बाणभट्ट की आत्मकथा की तत्समनिष्ठ भाषा की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा कि वे इतिहास में डूब कर रचना करने वाले साहित्यकार थे। रबिन्द्रनाथ ठाकुर ने द्विवेदीजी की प्रतिभा को जौहरी की भांति पहचान लिया था, इसीलिए उन्हें कबीर पर काम करने को कहा था। नाखून क्यों बढ़ते हैं निबंध में नाखून को पाशविकता का प्रतीक बताया गया है, लेकिन एक संस्मरण सुनाते हुए प्रो. उत्पल ने उसे प्रेम का प्रतीक बताया। हजारी प्रसाद द्विवेदी को उन्होंने हिंदी साहित्य का ऐतिहासिक व्यक्तित्व बताया। आरसी प्रसाद सिंह को उन्होंने दिनकर की बराबरी का कवि बताया। लहरियासराय में उन्होंने एक प्रेस की स्थापना की थी, जहाँ भारत के सभी सम्मानित साहित्यकार आया करते थे। अपनी वाणी को विराम देते हुए प्रो. उत्पल ने कहा कि आरसी प्रसाद सिंह की कई रचनाएं आज भी अप्रकाशित हैं और यह हिंदी साहित्य के विद्यार्थियों का दायित्व है कि उसे पुस्तकाकार स्वरूप प्रदान कर उनकी कृतियों को देश-विदेश तक पहुंचाएं। आरसी प्रसाद की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि वे मिथिला की ही माटी के हीरे थे और इस मिट्टी से कई हीरे निकले हैं,ऐसे में उनके जन्मस्थलों के भ्रमण हेतु हिंदी विभाग साहित्यिक यात्रा का आयोजन करेगा।

यह भी पढ़ें…

वंचना और गरीबी के दुष्चक्र में जी रहे दस्तकार बेलवंशी समाज के लोग

डॉ. सुरेंद्र प्रसाद सुमन ने कहा कि द्विवेदी से पहले किसी भी हिंदी साहित्यकार के पास वह वैज्ञानिक दृष्टिकोण था ही नहीं जो उन्होंने रबिन्द्रनाथ ठाकुर से प्राप्त किया था। डॉ. सुमन ने कहा कि कबीर के लिए हिंदी साहित्य वर्जित क्षेत्र था, लेकिन रबिन्द्रनाथ की प्रेरणा से द्विवेदीजी ने कबीर पर कार्य शुरू किया, जो हिंदी साहित्य में मील का पत्थर साबित हुआ। ललित निबंधकार के रूप में द्विवेदीजी ने बहुत ख्याति पायी। हिंदी साहित्य में दूसरी परम्परा की खोज करने वाले आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदीजी हैं। दूसरी परम्परा का अर्थ है लोक की परंपरा। बाद के सभी हिंदी साहित्यकारों ने द्विवेदीजी की लेखनी से प्रेरणा ग्रहण की।

इस अवसर पर बीज वक्ता के रूप में डॉ. आनन्द प्रकाश गुप्ता ने कहा कि उन्होंने अबाध गति से हिंदी साहित्य की सभी विधाओं में कलम चलाई। वे एक साथ इतिहासकार और व्याकरण के प्रकांड विद्वान थे। हिंदी साहित्य के इतिहास लेखन में उनका बहुमूल्य योगदान है। एक उपन्यासकार के रूप  में भी उन्होंने चार उपन्यासों की रचना की। इन उपन्यासों में नारी विमर्श के बीज दिखाई पड़ते हैं।

मौके पर सियाराम मुखिया, समीर कुमार, सुभद्रा कुमारी, कंचन रजक आदि ने भी अपने विचार रखे। मंच संचालन कृष्णा अनुराग ने किया। डॉ. मंजरी खरे, अनुराधा कुमारी समेत कई शिक्षक, शोधार्थी और छात्र इस अवसर पर उपस्थित रहे।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें