Browsing Tag

akhileshyadav

2022 के चुनावी नतीजे के बाद सामाजिक आंदोलनों का कार्यभार और भविष्य

उत्तर प्रदेश समेत चार अन्य राज्यों में हुए चुनाव ने सेकुलर और सामाजिक न्याय की राजनीति करनेवाले लोगों के सामने एक निराशाजनक माहौल पैदा कर…
Read More...

साधु-संत हिन्दुओं का सबसे बड़ा बहुजन विरोधी तबका !

 यदि कोई अपने विवेक को ठीक से सक्रिय रखते हुए यह जानने का प्रयास करे कि हिदुओं का सबसे बड़ा बहुजन विरोधी तबका कौन है तो उसे जवाब मिलेगा  साधु…
Read More...

उत्तर प्रदेश चुनाव में प्रियंका गांधी की बढ़ती लोकप्रियता  के मायने 

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में, जैसे-जैसे मतदान के चरण समाप्त हो रहे हैं वैस-वैसे चरण दर चरण कांग्रेस की राष्ट्रीय महामंत्री और उत्तर…
Read More...

‘लाभार्थी बनाम भाजपा’ के साथ ‘सत्ता बनाम भुक्तभोगी’ के मुद्दे पर पड़ताल

आज फिर से उत्तर प्रदेश का चुनावी पारा  घटता-बढ़ता दिखाई दे रहा है। कभी साइकिल तेज रफ़्तार पकड़ती दिखाई देती है, तो कभी भगवा रंग ज्यादा चढ़ता…
Read More...

संपूर्ण मोदी-मंडली के समानान्तर अधिक परिपक्व नेता साबित हुये हैं अखिलेश

भाजपा की स्थापना 6 अप्रैल 1980 में हुई थी। यह वही दौर था, जब मंडल कमीशन ने 27 प्रतिशत आरक्षण पिछड़े वर्ग यानि देश की लगभग आधी आबादी को…
Read More...

जुमलों के दौर में सपा का निराशाजनक घोषणापत्र, सामाजिक न्याय और डायवर्सिटी

मैंने 6 फ़रवरी को  समानुपातिक भागीदारी पर केन्द्रित हो सपा घोषणापत्र शीर्षक से एक लेख लिखकर बताया था कि आगामी एक- दो दिन में सत्ता की प्रमुख…
Read More...