Wednesday, May 22, 2024
होमवीडियोमैंने आम आदमी के संघर्षों में अपनी आवाज मिलाई

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

मैंने आम आदमी के संघर्षों में अपनी आवाज मिलाई

शिवकुमार पराग हिंदी के सुप्रसिद्ध गीतकार-कवि और ग़ज़लकार के साथ साथ एक चिन्तक रचनाकार हैं जो अपने दौर की घटनाओं-परिघटनाओं पर तीखी नज़र रखते हैं। उनके अब तक पाँच संकलन प्रकाशित हो चुके हैं। एक गाँव से निकलकर एक लंबी यात्रा करते हुये वे आज हिन्दी के प्रतिष्ठित कवि और शायर हैं। गाँव के लोग […]

शिवकुमार पराग हिंदी के सुप्रसिद्ध गीतकार-कवि और ग़ज़लकार के साथ साथ एक चिन्तक रचनाकार हैं जो अपने दौर की घटनाओं-परिघटनाओं पर तीखी नज़र रखते हैं। उनके अब तक पाँच संकलन प्रकाशित हो चुके हैं। एक गाँव से निकलकर एक लंबी यात्रा करते हुये वे आज हिन्दी के प्रतिष्ठित कवि और शायर हैं। गाँव के लोग के लिए पूजा ने उनसे उनके जीवन संघर्ष और रचनात्मक संघर्ष पर लंबी बातचीत की। देखिये और चैनल को सब्सक्राइब करते हुये इसे मजबूती प्रदान करें जिससे संघर्षशील जनता की आवाज़ सत्ता के कान के पर्दे तक पहुँच सके।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें