Browsing Tag

पाकिस्तान

सुप्रीम कोर्ट की नीयत में खोट- संदर्भ : बथानी टोला नरसंहार (डायरी 23 मई, 2022)

निस्संदेह देश जब विभाजत हुआ था तब बहुत कुछ हुआ। इस संबंध में खूब सारा साहित्य उपलब्ध है। दोनों तरफ के लोगों को परेशानियां हुईं और भयानक…
Read More...

 भारतीय अदालतों की दो खूबसूरत कहानियां (डायरी 30 अप्रैल, 2022)

सियासत में कहानियां गढ़ी जाती हैं। यही सियासत की खासियत है। इसे मैं अवगुण नहीं मानता। वजह यह कि सियासत में कभी कोई सीधी रेखा नहीं होती।…
Read More...

लैंगिक असमानता और आर्थिक व सामाजिक विषमता से पार पाने का एक अभिनव विचार!

आर्थिक और सामाजिक गैर-बराबरी मानव जाति की सबसे बड़ी समस्या है, जिसकी उत्पत्ति विभिन्न सामाजिक समूहों के पुरुषों और उनकी महिलाओं के मध्य शक्ति…
Read More...

यूक्रेन में युद्ध और शांति

यूक्रेन पर रूसी आक्रमण के परिणामस्वरूप व्लादिमीर पुतिन और उनके शासन के खिलाफ वैश्विक आक्रोश फैल गया है। रूस के खिलाफ विरोध और प्रतिबंध बढ़ गए…
Read More...

बांग्लादेश का मुक्ति संघर्ष : इंदिराजी ने हर मोर्चे पर सफलता हासिल की थी

जब सोवियत संघ के महान नेता स्टालिन की मृत्यु हुई थी तब तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए कहा था कि स्टालिन…
Read More...

मैं कभी किसी कहानी आंदोलन का हिस्सा नहीं रही

बातचीत का पहला हिस्सा आप अपने बचपन के बारे में कुछ बताएं! पुराने घर की कुछ स्मृतियां? कलकत्ता में बीते बचपन की पुरानी स्मृतियों में एक चार…
Read More...

राज्य पोषित हिंसा का सबसे खतरानाक नमूना है लखीमपुर खीरी की घटना

लखीमपुर खीरी की घटना एक चेतावनी है- हमारे लोकतंत्र का स्वास्थ्य अच्छा नहीं है। अजय कुमार मिश्र जिनके हिंसा भड़काने वाले बयान एवं गतिविधियां…
Read More...

बहुवादी समाज में नफरत से जंग : मुसलमानों पर हमले

भारत का विविधवर्णी चरित्र सचमुच अद्भुत है। भारतीय उपमहाद्वीप में विभिन्न संस्कृतियों, धर्मों और भाषायी व नस्लीय समूहों के लोग सदियों से एक…
Read More...

यह महज अफगानिस्तान का मसला नहीं है, डायरी (1 सितंबर, 2021)

मुझे सपनों को दर्ज करने की आदत रही है। वैसे तो रात में अनेक सपने आते हैं (कभी कभी नहीं भी आते हैं)। अधिकांश सपनों की उम्र केवल तभी तक होती…
Read More...