Sunday, July 21, 2024
होमTagsBirha gayak

TAG

birha gayak

बिरहा का मान बढ़ाने वाले गायक थे परशुराम यादव

बिरहा मूलत: मनोरंजन का एक साधन रहा है, लेकिन उसके ज़रिये दर्शकों को कोई न कोई सन्देश ज़रूर दिया जाता है। बिरहा के जानकर और उसके रसिक यह जानते हैं कि अधिकांश बिरहियों में मनोरंजन का तत्व अधिक रहता है। परशुराम यादव ने मनोरंजन और लालित्य तत्व में संतुलन स्थापित किया।

 बिरहा ही नहीं, चेतना का व्याकरण बदल देनेवाला बिरहा का आदिविद्रोही

बीसवीं शताब्दी के अंतिम चार दशक बिरहा गायन के स्वर्णकाल के रूप में जाने-जाते हैं जब बनारस और आसपास के जिलों में अनेक उद्भट बिरहिए सक्रिय थे। हीरालाल, बुल्लू यादव, रामदेव, पारस, रामकैलाश, हैदर अली जुगनू के अलावा सैकड़ों गायक इस लोकविधा को ऊंचाई दे रहे थे लेकिन ठीक इसी समय बनारस के एक गाँव से निकलनेवाले नसुड़ी यादव इन सबसे अलग और अद्भुत थे। वे बिरहा में कबीर बनकर उतरे थे और आजीवन अपने तेवर को बनाए रखा। पढ़िये विलक्षण बिरहा गायक नसुड़ी के जीवन-संघर्ष और सामाजिक योगदान के बारे में।

ताज़ा ख़बरें