बिरहा ही नहीं चेतना का व्याकरण बदल देनेवाला बिरहा का आदिविद्रोही

रामजी यादव

3 1,808

नसुड़ी यादव बिरहा गायन के इतिहास के सबसे अलग, विलक्षण और बोल्ड गायक थे। वे बिरहा के आदि विद्रोही थे और उन्होंने पूर्वांचल के समाज में व्याप्त सांस्कृतिक जड़ता, अज्ञानता, धार्मिक अंधविश्वासों और मिथकों पर इतना जोरदार प्रहार किया कि खुद मूर्तिभंजन के एक मिथक बन गए। अपने जीवनकाल में ही वे किम्वदंती हो गए थे। जितनी वास्तविकता और आंच उनकी आवाज में थी उससे अधिक उनके किस्से हवा में थे। आज वह कहाँ गानेवाले हैं और कल कहाँ गोली चलते-चलते रह गई थी। इसकी कहानियां हर कहीं उनके पहुँचने से पहले पहुँच जाती थीं। उनको सुनने वालों का एक विशाल हुजूम हमेशा उनका इंतजार करता था। वह हुजूम न केवल उन्हें रात-रात भर एकटक सुनता बल्कि अपना प्यार और पैसा भी उनके ऊपर ख़ुशी-ख़ुशी लुटाता। कंजूस से कंजूस व्यक्ति भी किसी न किसी मोड़ पर नसुड़ी की कला पर मुग्ध होकर अपने खलीते में हाथ डाल ही देता। बदले में नसुड़ी अपने श्रोताओं के हुजूम के भीतर एक असहजता, बेचैनी और तर्कशीलता बो देते। नसुड़ी जनता के गायक थे और किस्सागो थे। वे असाधारण और साहसी वक्ता थे। जो भी अतार्किक होता था वे उसके विरुद्ध बोलते और गाते थे। उनका मकसद लोगों का मनोरंजन करना नहीं बल्कि उनके भीतर इंसानियत और बराबरी की भावना भरना था। वे चातुर्वर्ण्य की थियरी के संहारक थे और ब्राह्मणों के तथाकथित ज्ञान और क्षत्रियों की नकली वीरता के मिथकों को नोचकर फेंक देते थे। सही मायने में वे किसानों के गायक थे। मजदूरों और चरवाहों के गायक थे।  वे ‘बेद’ की धज्जियाँ उड़ाने वाले गायक थे इसलिए जनता उन्हें ‘लबेद’ का महान गायक मानती थी। जिस तरह बनारस में कबीर का मान था उसी तरह नसुड़ी का मान था। उनके जाने के बरसों बाद भी उनकी जगह भरी नहीं जा सकी है।  और अभी बिरहा विधा की जो गति है उसको देखते हुए उस जगह के भरने का भी कोई आसार नहीं दीखता। नसुड़ी सदियों में एकाध पैदा होते हैं।

कुरौना गांव बाजार

 नसुड़ी का जन्म सन 1948 में वाराणसी-भदोही राजमार्ग पर स्थित कुरौना गाँव के एक किसान परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम कटारी और माता का नाम मनभावती देवी था। उनसे छोटे दो भाई हैं और उनकी कुल चार बहनें हैं जिनमें से बड़ी बहन अब नहीं रहीं। उनके छोटे भाई बन्सू यादव किसान थे और रामधनी फ़ौज में थे। नसुड़ी ने ईंट भट्ठा चलाया और वे लोकप्रिय गायक के साथ ही कुशल कारोबारी भी थे। उनका गाँव कुरौना मिश्रित आबादी वाला गाँव है। इसमें यादव, राजभर, मिसरा, मुसलमान जुलाहे आदि रहते हैं और उन दिनों अधिकांश लोग खेतीबारी अथवा दस्तकारी पर निर्भर थे। गाँव मेन बनारसी साड़ी और गलीचे बुने जाते थे। नसुड़ी एक संपन्न परिवार में पैदा हुए थे। घर में अनाज और दूध-घी की कमी नहीं थी। वे चाहते तो पढ़-लिखकर कहीं बड़ी नौकरी कर सकते थे लेकिन उन दिनों अहिराने में  स्कूल की जगह अखाड़े को ज्यादा तरजीह दी जाती थी। नसुड़ी के परिवार की जो सांस्कृतिक विरासत थी उसमें पढ़ाई का कोई ख़ास माहौल नहीं था। किसानी और अहिरऊ हनक ही बड़ी चीज थी। दूसरे दूर-दूर तक कोई सलाह देनेवाला नहीं था। पिता मानते थे कि कौन सी नौकरी करनी है जो स्कूल के बिना कोई काम अटका है। खाओ-पियो और अखाड़े की धूल देह में लगाओ। नसुड़ी के चचेरे भाई गुंगई पहलवान थे। लिहाज़ा किशोर नसुड़ी उन्हीं के साथ कुश्ती लड़ने का अभ्यास करते, गायें चराते और खेती करते। हालाँकि उन्होंने अपने छोटे भाइयों को स्कूल भेजा और उन दोनों ने मन लगाकर पढ़ाई की।

बनारस में वरुणा नादी के किनारे स्थित ग्राम चमाँव में नसुड़ी का बहिनियाउर था। सरजू चौधरी से उनकी बड़ी बहन ब्याही थीं। नसुड़ी के भांजे घमेंद्र यादव ने नसुड़ी से मेरा भी परिचय कराया था। और मैं भी उनका भांजा हो गया। घमेन्द्र जी सीपीआई के पुराने कार्यकर्ता हैं और लगभग पूरा जीवन उन्होंने इसी में लगाया। वे नसुड़ी की स्मृतियों को साझा करते हुये बताते हैं कि नसुड़ी बचपन से ही बड़े उखमजी थे। किसी से जौ भर न दबते थे।

बचपन से ही विद्रोही स्वभाव के थे नसुड़ी

नसुड़ी के जीवन में क्रांतिकारी बदलाव भी गुंगई पहलवान के कारण हुये। यह बहुत रोचक कहानी है और वास्तव में यह बताती है कि जिसे बात की कोर लगती है वही बतकहा भी होता है। जिसने सबकुछ सुन लिया और सुम्हा बना रहा वह क्या कर सकता है। वह बुरी से बुरी स्थितियों को बर्दाश्त कर सकता है और आपदा में अवसर के अलावा क्या तलाश सकता है। ऐसे कफ़नखसोट अपने आप में चाहे जितना भी मौज मना लें लेकिन समाज और मानवता का कभी कोई भला नहीं कर सकते।

बनारस में वरुणा नादी के किनारे स्थित ग्राम चमाँव में नसुड़ी का बहिनियाउर था। सरजू चौधरी से उनकी बड़ी बहन ब्याही थीं। नसुड़ी के भांजे घमेंद्र यादव ने नसुड़ी से मेरा भी परिचय कराया था। और मैं भी उनका भांजा हो गया। घमेन्द्र जी सीपीआई के पुराने कार्यकर्ता हैं और लगभग पूरा जीवन उन्होंने इसी में लगाया। वे नसुड़ी की स्मृतियों को साझा करते हुये बताते हैं कि नसुड़ी बचपन से ही बड़े उखमजी थे। किसी से जौ भर न दबते थे। गुंगई उनके समौरिया थे और दोनों में प्रतिदिन और कभी भी किसी न किसी बात पर पटकी-पटका, मार-मरौझा साधारण बात थी। उन दिनों परिवार संयुक्त था। गुंगई से बड़े तीन भाई रामकेला, मुड़ील और मेवा थे। उनके ताऊ पुरुषोत्तम घर के मालिक थे। दोनों बच्चों में रोज के कपरफोरव्वल से तंग आकर उपाय यह निकला कि नसुड़ी को उनकी बड़ी बहन के यहाँ भेज दिया। लिहाजा वे चमाँव आए और यहीं तीन-चार साल तक रहे। गुंगई को गोरू-भैंस में लगा दिया गया।

घमेन्द्र यादव

इतने दिनों के बाद लोगों को लगा कि अब बच्चा सुधर गया होगा। अब उसे घर बुला लेना चाहिए। ज्यादा दिन मेहमानी करना ठीक नहीं है। लेकिन घर के लोग गलत साबित हुये। नसुड़ी के मन में इस बात का गुस्सा था कि मारपीट तो गुंगई ने भी किया लेकिन गाँवबदर सिर्फ उनको किया गया। इसलिए कि उनके बाप घर के मालिक हैं। लिहाजा नसुड़ी और बात-बेबात गुंगई को और बलपूर्वक पीटना शुरू किया। फिर वही हाय-तौबा मची। लेकिन अब कहाँ छोड़ा सकता है। अंत में तय हुआ कि नसुड़ी इतने उद्दंड और अयोग्य हैं कि वे कुछ नहीं कर सकते। इसलिए इनको डोरा उठाने में लगा दिया जाय। डोरा उठाना बुनकरी का सबसे छोटा काम माना जाता है। अनस्किल्ड। अंततः उनको गाँव में भरौटी में डोरा उठाने पर लगा दिया गया। यह घर वालों द्वारा नसुड़ी को दी गई दूसरी सज़ा थी।

नसुड़ी ने भरौटी में काम तो शुरू कर दिया लेकिन उनके मन में इस बात को लेकर बहुत गहरा गुस्सा था। वे वहीं रहने और खाने-पीने लगे। जैसे ही यह खबर घर में पहुंची कि वे भरों-चमारों के साथ खाने-पीने लगे हैं वैसे ही घर में भूचाल आ गया। फरमान जारी हुआ कि अब इसे न घर में घुसने दिया जाय और न ही अपने बर्तन में खाना-पानी ही दिया जाय। लिहाजा जब नसुड़ी घर आते तो उन्हें खपड़ी में खाना दिया जाता और चारपाई पर भी बैठने न दिया जाता। नसुड़ी एक मन में अपने घर और समाज के विरुद्ध विद्रोह की ज्वाला धधक उठी। वे इस बात पर लड़ने लगे कि यह घर मेरा है। क्या मैं अपने घर में अपने बर्तन में खा नहीं सकता। कौन रोकेगा। बहुत तनावपूर्ण माहौल था। उनके मन में यहीं से जाति-व्यवस्था और ब्राह्मणवाद के खिलाफ विस्फोट हुआ और उन्होंने इसके खिलाफ मोर्चाबंदी शुरू की।

बिरहिया नसुड़ी एक आग थे और जहाँ भी पहुँचते वहां मिथकों और कर्मकांडों का धुर्रा उखाड़ देते। बिरहा का सबसे रूढ़ और पोंगा पक्ष यह था कि बाकी अखाड़े भले ही भक्ति, सौंदर्य और वीरता की गायकी की अपनी विशेषताओं से चारों ओर चमक बिखेर रहे हों लेकिन उनका मूल चरित्र एक था। तीनों ही बनी-बनाई सांस्कृतिक मान्यताओं और धारणाओं को कोई चुनौती नहीं देते थे।

 

बिरहा को अपना हथियार बनाया 

लेकिन इसके लिए कोई माध्यम जरूरी था। उनके पास एक कड़ियल आवाज थी और वह माध्यम बना बिरहा। युवा होते नसुड़ी के मन में गाने की ललक पैदा होने लगी।  पहले तो यूँ ही गुनगुनाते रहे लेकिन ललक थी कि थमने की बजाय बढती ही चली जाती थी। नसुड़ी की आवाज तो दमदार थी लेकिन गायकी का कोई खास शऊर नहीं था। लोगों ने कहा कि बिरहा गाना कोई खेल नहीं है, गाने के लिए दम चाहिए । बात लग गई और यही से उनकी गायकी की यात्रा प्रारंभ हुई।

उनके साथ लम्बे समय तक ड्योड़िहा रहे भरथरा गाँव के रामभजन मौर्या बताते हैं कि नसुड़ी बचपन से ही जुनूनी व्यक्ति थे। उन्हें पिनक थी कि मुझे बिरहा सीखना है और सबसे अलग सीखना है।  इस पिनक में वे पास के ही सजोई गाँव में स्थित तालाब के पास आश्रम बनाकर रह रहे खट्टू बाबा के पास गए। खट्टू बाबा औघड़ थे लेकिन उनकी बातें बहुत रोचक होती थीं। वे वेद विरोधी और लोकपक्ष के प्रशंसक थे। उनकी बातें निर्गुण परम्परा को लेकर होती थीं। आश्रम में एक अखाड़ा भी था। नसुड़ी वहीं रियाज मारते थे और बाबाजी का सत्संग सुनते थे। धीरे-धीरे उनका एक मानस बनने लगा।

रामभजन मौर्या

 इसके बावजूद गाने की नियमित और बेहतर स्थिति नहीं बन रही थी। उन दिनों सजोई गाँव के ही रामधार मौर्या नटखट बिरहा गाते थे। नाटे कद के नटखट जी अहमदाबाद के गायक के नाम से मशहूर थे। नसुड़ी उनके पास गए। उनसे कुछ दिनों तक सीखा लेकिन नटखट अपने इस नए शिष्य की जिज्ञासाओं से ऊब गए और उन्हें लेकर अपने गुरु सरजू खलीफ़ा के यहाँ सारनाथ के पास गंज गाँव गए। सरजू खलीफ़ा गुरु बिहारी के चार शिष्यों में से एक थे जिनकी गायकी का अखाड़ा था। नसुड़ी ने उन्हीं से गंडा बंधवाया और गाने लगे।

रामभजन मौर्य बताते हैं कि सरजू खलीफ़ा गुरु बिहारी के चार शिष्यों में थे। उनके अनुसार बिहारी के चार शिष्यों में रम्मन यादव, पत्तू यादव, गणेश यादव और सरजू राजभर थे। इन लोगों ने अपने नाम से अखाड़े चलाये और खलीफ़ा कहलाये। लेकिन जामिया मिलिया इस्लामिया में हिंदी भाषा और लोक साहित्य के मर्मज्ञ प्रोफ़ेसर चंद्रदेव यादव दूसरी बात कहते हैं। उनके अनुसार भी बिहारी के चार शिष्य थे लेकिन चौथे का नाम सरजू राजभर नहीं मूसे यादव था। प्रोफ़ेसर यादव सरजू के अखाड़े को इन चारों से अलग स्वतंत्र अखाड़ा कहते हैं जिसमें नसुड़ी यादव और हैदर अली जुगनू अपने दौर के दो नामी गायक थे। सरजू खलीफ़ा प्रगतिशील विचारों के कवि थे और सामाजिक बुराइयों के खिलाफ चेतना फ़ैलाने वाले बिरहे को बढ़ावा देते थे। नसुड़ी ने इस चीज की महत्ता को न केवल अच्छी तरह समझा बल्कि जीवन भर इसको आगे बढ़ाने के लिए समर्पित रहे।

अडिग चरित्र के व्यक्ति 

नसुड़ी के बारे में अनेक दिलचस्प बातें प्रचलित हैं जो न सिर्फ उनकी दृढ़ता बल्कि उनके साहस और प्रगतिशीलता को भी दर्शाती हैं। जैसे-जैसे उनकी प्रसिद्धि बढ़ी वैसे-वैसे तीनों अखाड़ों में से उनको अपने यहाँ आने के निमंत्रण मिलने लगा। कहा जाने लगा वे यादव हैं और उन्हें राजभर नहीं बल्कि यादवों के अखाड़े में आना चाहिए। उन्हें अनेक प्रकार से घेरने की कोशिश की गई। तीनों अखाड़ों की एक सामूहिक पंचायत जुटी और इस बात पर गरेरा बांधा कि नसुड़ी अहीर हैं तो उनको अहीरों के अखाड़े में गाना चाहिए। लेकिन नसुड़ी किसी और धातु के बने हुए थे। कोई भी भावुकता उन्हें टस से मस नहीं कर सकी और उन्होंने सरजू खलीफ़ा को छोड़ने से इंकार कर दिया। और अंत तक वहीं बने रहे।

मुकाबला जितने बड़े कलाकार से होता उतना ही नसुड़ी का जलवा अधिक होता क्योंकि उधर किसी चमत्कार का तूमार बांधा जाता और इधर नसुड़ी बेरहमी से उसे तोड़ देते। कहाँ ब्रह्मा मुँह से बच्चा पैदा करता कहाँ नसुड़ी अपने देसी अंदाज में पूछ रहे होते कि हम तो बच्चा पैदा होने का एक ही रास्ता जानते-सुनते हैं भिया।

 

बिरहिया नसुड़ी एक आग थे और जहाँ भी पहुँचते वहां मिथकों और कर्मकांडों का धुर्रा उखाड़ देते। बिरहा का सबसे रूढ़ और पोंगा पक्ष यह था कि बाकी अखाड़े भले ही भक्ति, सौंदर्य और वीरता की गायकी की अपनी विशेषताओं से चारों ओर चमक बिखेर रहे हों लेकिन उनका मूल चरित्र एक था। तीनों ही बनी-बनाई सांस्कृतिक मान्यताओं और धारणाओं को कोई चुनौती नहीं देते थे। बेशक उनमें शैलियों का फर्क नज़र आता था और जिन कथाओं को वे उठाते थे उनमें भी विविधता होती थी, मसलन अगर एक अखाड़ा भीष्म के अविवाहित होने और आत्मसंयम पर दृढ़ रहने को अपने कथानक का सूत्र बनाता था तो दूसरा एक ऐसी कथा खोज ले आता जिसमें भीष्म की दमित प्रेम भावना का कोई सिरा दिखलाया जाता। तीसरा अखाड़ा भी क्यों पीछे रहने लगा। वह एक ऐसा सिरा निकालता जिसमें भीष्म भीषण और दुर्दमनीय वीर होते। गुस्से में वे एक ही बाण में पूरी सेना जलाकर राख कर देते क्योंकि आत्मसंयम से वे अपनी काम वासना को जलाकर राख कर चुके थे। गरज यह कि भीष्म वही लेकिन उन्हें अलग-अलग तरीके से परिभाषित किया जाता। इस कौशल से भीष्म की गढ़ी गई छवि भी बरक़रार रह जाती और अखाड़ों की विशेषता भी बनी रह जाती। लेकिन नसुड़ी ऐसे न थे। वे तर्क से भीष्म का एक अवैध विवाह खोज लाते और महाभारत की कई संतानें भीष्म का खून लिए रेंगती रहतीं। मतलब नसुड़ी भीष्म जैसे अतिमानवीय व्यक्तित्व का साधारणीकरण कर देते और लोक की निगाह में उनका मुलम्मा उतार देते।

नसूड़ी के गांव की पगडंडी

सबसे ज्यादा भीड़ नसुड़ी के लिए जुटती थी 

इन बातों को सुनने के लिए इतने लोग जुटते कि बिरहास्थल अररा जाता। बीच में जगह न मिलती और भीड़ चारों ओर फैलती जाती। मुकाबला जितने बड़े कलाकार से होता उतना ही नसुड़ी का जलवा अधिक होता क्योंकि उधर किसी चमत्कार का तूमार बांधा जाता और इधर नसुड़ी बेरहमी से उसे तोड़ देते। कहाँ ब्रह्मा मुँह से बच्चा पैदा करता कहाँ नसुड़ी अपने देसी अंदाज में पूछ रहे होते कि हम तो बच्चा पैदा होने का एक ही रास्ता जानते-सुनते हैं भिया। का इहाँ बैठे लोग किसी और रस्ते के बारे में जानते हैं क्या? जनता के बीच से शोर उठता – नाहीं! तब? नसुड़ी फिर उस बिरहिया से पूछते – तब तू कवन दूसर रस्ता देख लेहला कनचोदऊ। बताव।  बताव जल्दी नाहीं त रम्मा लाल हौ। इतने पर तो जनसमूह नसुड़ी पर अपने को लुटा देता और बाजी ही पलट चुकी होती। ‘रम्मा लाल हौ’ नसुड़ी का तकिया कलाम था। हालाँकि यह केवल एक मज़ाकिया जुमला भर था लेकिन इसका अर्थ बहुत व्यापक और चिंतनीय है। लाल रम्मा यानी आग में तपाया गया सब्बल जिसको छूकर कोई भी अपने साहस और सफाई का परिचय दे सकता है। जलता हुआ सब्बल किसी को जला देने के लिए है। यहाँ इसका अर्थ अग्नि परीक्षा है यानी नसुड़ी अपने मुकाबले में खड़े गायक से कहते हैं कि जो तुम बात कह रहे हो वह झूठ है। तर्क से उसे साबित करो अन्यथा अग्नि परीक्षा दो। किसी गायक ने एक बार एक नयी तर्ज बनाई थी – कहवां क टिकुली, लिलरवा मारेला जान। कहवाँ क टिकुली। नसुड़ी की नज़र में यह स्त्री का अपमान था। वे इस तर्ज की हँसी उड़ाते हुए कहने लगे–कनऊँ, लिलरवा तोहार जान मारत हौ। कोई के बहिन-बिटिया अइसहीं देखबे रे तैं। आंय। पेड़वा के टिकुली लगा देबे त उहो जान मारी का रे। बोल नाहीं त रम्मा लाल हौ …

यह भी पढ़े..

अकेले ही बीना सिंह ने रौशन किया सैकड़ों का जीवन

सामाजिक कुरीतियों पर निर्ममता से प्रहार करते थे 

नसुड़ी का अंदाज जितना निराला था उनका सरोकार और भी व्यापक था। वे पहले ऐसे गायक थे जो समाजवादी विचारों और अपने दौर के प्रगतिशील विचारों को गाते थे। उन्नीस सौ सत्तर के आसपास वे मंडुआडीह के पास रहनेवाले कवि स्वरूप मास्टर से जुड़े। स्वरूप मास्टर अन्धविश्वास विरोधी थे और सामाजिक जागृति फैलाने में जी-जान से लगे थे। नसुड़ी के जीवन में इस परिचय से एक नया आयाम जुड़ा। वे सड़ी-गली सामाजिक मान्यताओं और पाखंडों के खिलाफ जमकर गाने लगे। स्वरूप मास्टर और नसुड़ी की जोड़ी लम्बे समय तक चली। नसुड़ी इतने लोकप्रिय हो गए कि सबसे ज्यादा भीड़ उन्हीं को सुनने के लिए जुटने लगी। उन्होंने पेरियार और ललई सिंह यादव के विचारों को गाया। वे जब सच्ची रामायण की चाबी गाते तो अक्सर गोली चलने और मारपीट हो जाने की नौबत आ जाती। लेकिन नसुड़ी निडर अपने उद्देश्य में लगे रहे।

उन्होंने देशभर में गाया और अपने दौर के सभी बड़े गायकों के मुकाबले में गाया। पारसनाथ यादव, रामकैलाश यादव, रामदेव यादव, दुर्जन यादव, मोहम्मद मुस्तफा, मोहन यादव, बल्ली यादव, श्रीराम यादव, दीपक सिंह, विजयलाल यादव, चंद्रकिशोर पांडे, हैदर अली जुगनू, बद्री और मन्नूलाल यादव आदि सभी के साथ उनका मुकाबला ही नहीं रहा बल्कि वाद-विवाद और झगडा भी होता रहा। उनके प्रसिद्ध झगड़ों में नई सड़क वाराणसी में रामदेव के साथ हुआ झगड़ा, मुस्तफा से पुष्पराज सिनेमा के सामने शिवपुर, वाराणसी में ऐसा झगड़ा और मारपीट शुरू हुई कि लोग बताते हैं वहां मची भगदड़ के बाद कम से कम एक ट्राली जूते-चप्पल बरामद हुए थे। शिवपुर थाने के तत्कालीन दरोगा ने नसुड़ी को धमकी दी लेकिन वे दबे नहीं। गाने आये और जमकर गाया। इलाहबाद के गायक रामकैलाश यादव से उनका सुरियावां में और हैदर अली जुगनू से चौरी बाजार में हुआ मुकाबला आज भी किम्वदंतियों में है। किसी से दबना नसुड़ी के खून में नहीं था। और सारी लड़ाई मिथकों, पोंगापंथ और ब्राह्मणवाद पर उनके जोरदार प्रहार के बाद ही शुरू होती थी।

नसूड़ी यादव कटरा

अभी भी अकेले गूँजते हैं उनके बिरहे 

नसुड़ी प्रसिद्ध बिरहे बड़ी संख्या में हैं जिनमें ‘मरकहवा दूल्हा’, ‘नौ दिन की महाभारत’, ‘कृष्ण का पाप’, ‘बनारस में चुंगी’, ‘मकरध्वज की सच्चाई’, ‘भीष्म पितामह की शादी’, ‘बांग्लादेश की उत्पत्ति’, ‘बचऊबीर’, ‘चार गिलास चार बेवकूफ’, ‘गाजी मियाँ’, ‘राजा बन्नार का अंतिम’, ‘दालमंडी काण्ड’ और ‘ज्ञानवापी काण्ड’ प्रमुख हैं। अपनी शैली में अनूठे गायन के लिए 1984 में तत्कालीन राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह के हाथों उन्हें सम्मानित किया गया था। इसके अतिरिक्त जिला और प्रदेश स्तर के दर्जनों सम्मान उन्हें मिले थे। अम्बेडकर जयंती और रविदास जयंती के मौकों पर वे नियमित गाते थे और चुनाव के दिनों में लालू प्रसाद यादव के प्रचार के लिए बराबर जाते थे। नसुड़ी की सामाजिक स्वीकृति बहुत थी. लोग अकुंठ भाव से उन्हें आदर देते थे। अपने दौर में उन्होंने किसान जनता को अंधविश्वासों और पाखंडों से मुक्त करने में बेमिसाल भूमिका निभाई।

जाति को लेकर नसुड़ी के अनेक किस्से कहे जाते हैं । एक बार वे बिरहा गाने पटना गए हुए थे। वहीं एक व्यक्ति ने उन्हें अपने बच्चे की बरही में गाने का बयाना दिया। जब तीसरे पहर नसुड़ी अपनी टीम के साथ वहां पता पूछते हुए पहुंचे तो उस आदमी के घर पर कोई कार्यक्रम न था। किसी ने कहा कि घर पर नहीं बल्कि पाही पर आयोजन है।

 

नसुड़ी केवल पाखंड और जाति-वर्णव्यवस्था के खिलाफ गाते भर नहीं थे बल्कि यह उनकी चारित्रिक विशेषता थी कि वे हरसंभव जातिवाद का निषेध करते थे। यादव अखाड़ों के द्वारा घेर-घार किये जाने के बावजूद उन्होंने सरजू खलीफ़ा के ही अखाड़े में अंतिम क्षण तक गाया। उनके, कवि, साजिन्दे और ड्योडिहा समाज के विभिन्न हिस्सों से आते थे। उनकी टीम के स्थायी सदस्यों में मुमताज (हारमोनियम), नान्हू भारती (ढोलक), रामजी राजभर, रामभजन मौर्या, रामनिहोर पाल और छोटेलाल राजभर (टेरिहा) मुख्य थे। उनके लिए बिरहा लिखनेवालों में नंदकिशोर चौहान (खजूर गाँव, मुगलसराय) छोटेलाल यादव, चंद्रदेव यादव, कन्हैयालाल पटेल और बच्चालाल राजभर आदि थे।  भरथरा के रामभजन मौर्या उनके संशोधक और प्रोम्प्टर थे।

जाति-पाँति के कटु आलोचक 

जाति को लेकर नसुड़ी के अनेक किस्से कहे जाते हैं । एक बार वे बिरहा गाने पटना गए हुए थे। वहीं एक व्यक्ति ने उन्हें अपने बच्चे की बरही में गाने का बयाना दिया। जब तीसरे पहर नसुड़ी अपनी टीम के साथ वहां पता पूछते हुए पहुंचे तो उस आदमी के घर पर कोई कार्यक्रम न था। किसी ने कहा कि घर पर नहीं बल्कि पाही पर आयोजन है। नसुडी बहुत चकित हुए कि पाही पर बरही का कार्यक्रम रखा है। खैर वे वहां पहुंचे तब वहां भी वही दृश्य था। एक मजदूर बैंगन भुन रहा था। उन्होंने समझ लिया कि उनके साथ मजाक हुआ है। दूसरे मजदूर ने बताया कि यहाँ बरही नहीं है इस गाँव में लोग देखना चाहते हैं कि क्या नसुड़ी चमार के हाथ का बनाया हुआ भोजन खा सकते हैं या वैसे ही जज्बा हांकते हैं कि मैं जाति-पांति नहीं मानता। नासुड़ी हँसे – यह बात है। फिर उन्होंने स्नान किया और टीम के साथ प्रेम से खाना खाया। गए थे तो कुछ गाना जरूरी था। जब वे पहला गाना गाये तो पारस पत्थर का प्रसंग ले आये और बोले कि लोग मानते हैं कि अगर कहीं मैं किसी और जात  के आदमी से छू जाऊंगा तो उसी तरह हो जाऊंगा। इसीलिए बड़े लोग सोचते हैं कि चमार न छू दे नहीं तो वे चमार हो जायेंगे। और गज़ब है कि कुत्ते को छू देते हैं लेकिन कुत्ता नहीं होते। वैसे ही आज ई मिसिर जी हमलोगों को बुलाएं हैं कि क्या हम लोग चमार के हाथ का बना खाना खाते हैं कि नहीं। तो हम लोगों ने तो खा लिया। हम चमार हो गए। कल अहीर के घर खायेंगे तो फिर अहीर हो जायेंगे। परसों किसी और के हाथ का खाकर उसके जैसा हो जायेंगे। लेकिन एक सवाल है कि जब किसी के हाथ का छुआ खाने से जाति बदल जाती है तो अपने घर में मिसराइन के हाथ का खिलाकर इन बेचारों को बाभन क्यों नहीं बनाते। क्यों इनको चमार बनाये हुए हैं। बताओ कि इनके चमार बनाने में तुम्हारा क्या लाभ है। और दिखाओ कि तुम्हारे हाथ का छुआ खाने में सचमुच इनकी जाति बदलती है। अगर नहीं बदली तो रम्मा …. जनता ने इतने जोर से लाल है कहा कि मेजबान बेचारे का मुँह काला हो गया।

नसूड़ी द्वारा गाया गया बिरहा

अपने तरीके से लड़ते थे पाखंड से 

कवि ओमप्रकाश अमित के पिता बुल्लुर यादव अपने समय के बड़े बिरहा गायक थे। उनसे सुने एक किस्से को अमित ने सुनाया था जिससे पता चलता है कि नसुड़ी ने अपने भीतर से पाखंड के साथ बाहरी पाखंड से किस प्रकार संघर्ष किया था। यह उनके बचपन की बात है। एक महापात्र जब लोगों के यहाँ मृतक-संस्कार कराने ले जाता तो साथ में अपनी छोटी बेटी को भी ले जाता और लोगों से कहता कि इस लड़की को ही मृतक की आत्मा मान लो और खूब खिलाओ पिलाओ। खूब दान दो। कभी-कभी तो वह लड़की को सिखा देता कि अच्छे-अच्छे कपड़ों और गहनों के लिए ठनगन कर लेना और जब तक मनचाहा न मिले तब तक मुँह फुलाए रहना। लड़की ऐसा ही करती। गरीब किसान-मजदूर-चरवाहे उसकी नाराजी दूर करने के लिए घर उजाड़ कर देने को विवश हो जाते। उन्हें लगता कि न देने से पता नहीं मृतक की आत्मा कितने दिन नरक में भटकती रहे। खटिया-मचिया, कुर्सी-टेबुल, धोती-कुरता, साड़ी-ब्लाउज़, हंसुली-करधनी, गहना-गुरिया, तोशक-तकिया, गाय-भैंस, सिद्धा-पिसान, चावल-दाल, घी-अचार जो मांगता वह देना पड़ता। अपने आस-पास नसुड़ी लगातार यह देख रहे थे। वे देख रहे थे कि मृतक संस्कार और मृतक भोज के चक्कर में बेचारे गरीब और गरीब होते जाते और महापात्र का घर भरता जाता था। उसकी लड़की जैसे-जैसे बड़ी होती जाती वैसे-वैसे वह उसके लिए दहेज़ जुटाने की लालच में अपनी मांग और बढ़ाता जाता। नसुड़ी जलकर कोयला हो जाते लेकिन कोई उनकी सुननेवाला नहीं था।

उन्हीं दिनों नसुड़ी की बड़की माई चल बसीं। यह मौका वे छोड़ना नहीं चाहते थे। जिस दिन खुर्सी का पिंडा परायण हुआ उस दिन महापात्र ने अपनी बेटी की ओर इशारा करते हुए कहा– ‘ले आवा जजमान। जवन मृतात्मा के खिवायल चाहत हया। घीव-दूध मेवा-मिठाई, धोती-कपड़ा , गहना-गुरिया ले आव सब।’

नसुड़ी तत्पर थे। लपककर पहुँचे और महापात्र की जवान बेटी का हाथ पकड़कर कहने लगे – ‘का रे बडकी माई। अब हम तोहके कहीं जाये न देब। तोरे बिना बड़का बाऊ दस दिन में एकदम मुरझा गए। और तू तो एकदम जवान हो गई रे बड़की माई। चल घरे में सबसे मिल-जुल। तोके देखके बड़का बाऊ के जान आ जाई।’ और फिर अपने हाथ से उसे लड्डू खिलाने लगे।

नसूड़ी के गांव का तालाब

महापात्र यह देखकर आगबबूला  हो गया। ऐसी हिमाकत आज तक किसी जजमान ने नहीं की और इसे देखो। उसने नसुड़ी को जोर से डांटा –‘अरे नसुडिया ! क्या करता है?’

नसुड़ी कहाँ दबने वाले थे।  बोले – ‘अरे बभना तू क्या बोलता है। यह माई बेटवा क मामला हौ।’

घर के लोग भी महापात्र की तरफदारी करने लगे लेकिन नसुड़ी के तर्कों के आगे किसी की एक न चली। वे कहने लगे कि ‘अगर ये कह रहे हैं कि यह मेरी बड़की माई है तो बिलकुल सच कह रहे हैं। और तब मैं अपनी बड़की माई को कहीं न जाने दूंगा।’ महापात्र पसीने-पसीने हो गया। आज बुरे फंसा था। आखिर उसे अपने पाखंड का झामा उठाना पड़ा और वह अपनी लड़की को लिए-दिए वहां से रफूचक्कर हो गया।

नसुड़ी देवता नहीं थे बल्कि एक कद्दावर इन्सान थे। वे इंसानियत को अन्धविश्वास और पाखंडों के मकड़जाल से बाहर निकालकर उसे सोच-विचार के ऊँचे पायदान पर ले जाना चाहते थे। वे किसी भी प्रकार की गैर-बराबरी और शोषण की व्यवस्था को नकारने को प्रतिबद्ध थे। धर्म के नाम पर जनता को लूटनेवाले सामंतों और पुरोहितों की पोल खोलने की उनकी ज़िद कभी-कभी हिंसक संघर्ष तक पहुँच जाती थी। वे अपने श्रोताओं के मन में ईश्वरीय व्यवस्था के प्रति गहरा अविश्वास पैदा कर देते थे। नसुड़ी ने अपने समय की सारी अतार्किक गतिविधियों और व्यवहारों के खिलाफ एक मुहीम चलाई।

बिरहा की जो सबसे क्रांतिकारी और जनपक्षधर विरासत है उसमें नसुड़ी का हिस्सा बेशक सबसे अधिक और शानदार है।  संयोग से उनकी आवाज अभी भी सुरक्षित है। आप यूट्यूब पर उनके कई बिरहे सुन सकते हैं!

नसुड़ी की स्मृतियाँ और लोगों की यादें

इसमें कोई दो राय नहीं कि नसुड़ी बहुत बड़े गायक थे लेकिन यह उनका दुर्भाग्य था कि गँवारों के घर में पैदा हुये। उनकी एक तस्वीर भी उपलब्ध नहीं है। उनके परिवार के लोग भी उनके बारे में कोई बात करने को इच्छुक नहीं हैं। उनकी स्मृति में एक कटरे का नाम है यादव कटरा। किसी अन्य बिरहिया के पास भी कोई तस्वीर नहीं है। एक ऐसा गायक जो लोगों की चेतना को झकझोर देता था उसके बारे में कोई दस्तावेज़ नहीं होना यह साबित करता है कि बहुजन समाज अपने इतिहास और विरासत के प्रति कितना उदासीन है।

उनकी मृत्यु के बाद लोगों कई लोगों ने उन्हें अलग-अलग संदर्भों में याद किया है। युवा पीढ़ी के तेजस्वी अध्येता सुनील यादव उनके बारे में लिखते हैं –‘नसुड़ी यादव के बिरहा के संदर्भ में बचपन से एक बात सुनता आया था, “ससुरा गाली बहुत देता है ई नसुड़ियां”। चुकि मैंने नसुडी का बिरहा सुना नहीं था इसलिए ये बातें मन में बैठ गयीं थीं कि ये कोई अश्लील गायक होगा। फिर असलियत की खोज में मैंने इनके द्वारा गाए गए बिरहा को खोज खोज कर सुनने लगा। बात एक दम दूसरी थी दरअसल भोजपुरी बिरहा के अपने तमाम सीमाओं खामियों के बावजूद नसुडी भोजपुरी बिरहा के इकलौते गायक थे जो पेरियार ललई, अम्बेडकर, फुले के वैचारिकी को अपने बिरहा के कथावस्तु में प्रयोग करते थे, बकायदा ललई के किताबो और उद्धरणों का जिक्र करते हुए वो जिस तरह मिथकों का पोस्टमार्टम करते हैं वह अधिकांश भोजपुरिया समाज को पच नहीं पाया इसीलिए उनके बिरहा पर गाली का आरोप ठोक दिया गया।’

इसी तरह संस्कृतिकर्मी, फ़िल्मकार और राज्यसभा टीवी से जुड़े इरफान का अपने फेसबुक पेज पर कहना था कि ‘कोई छै साल पहले नसुडी यादव की जब मौत हुई तब भी और आज तक मैं उनके प्रति श्रद्धांजलि के दो शब्द न पढ़ सका न लिख सका। बिरहा प्रेमियों ने आहत मन से इस सच्चाई को स्वीकार किया होगा। बिरहा गायकी की एक बिल्कुल अनूठी शख्सियत की अनुपस्थिति हमेशा महसूस की जायेगी। वो मिर्ज़ापुर की ग़ल्लामंडी में पल्लेदारी करते थे और साथी गायकों की अवहेलना और दुष्प्रचार के जवाब में इस तथ्य को पेश करते हुए दूने आत्मसम्मान का अनुभव करते थे।

नसुड़ी देवता नहीं थे बल्कि एक कद्दावर इन्सान थे। वे इंसानियत को अन्धविश्वास और पाखंडों के मकड़जाल से बाहर निकालकर उसे सोच-विचार के ऊँचे पायदान पर ले जाना चाहते थे। वे किसी भी प्रकार की गैर-बराबरी और शोषण की व्यवस्था को नकारने को प्रतिबद्ध थे। धर्म के नाम पर जनता को लूटनेवाले सामंतों और पुरोहितों की पोल खोलने की उनकी ज़िद कभी-कभी हिंसक संघर्ष तक पहुँच जाती थी। वे अपने श्रोताओं के मन में ईश्वरीय व्यवस्था के प्रति गहरा अविश्वास पैदा कर देते थे। नसुड़ी ने अपने समय की सारी अतार्किक गतिविधियों और व्यवहारों के खिलाफ एक मुहीम चलाई।

 

हालांकि खुद नसुडी जहां भी होंगे, मेरी उपरोक्त पंक्तियां पढकर ज़रूर ही चिढ़ जाएंगे और बेसाख़्ता बोल उठेंगे ‘सरऊ जीते जी तोहके नहीं बुझाइल, अब मरले के बाद सोहरावत हउवा?’

नसुडी अपनी विशिष्ट शैली और बेबाकी के लिये जितने लोकप्रिय हुए उसकी मिसाल मिलना मुश्किल है। कहते हैं कि नसुडी के आयोजनों में भारी पुलिस बंदोबस्त और प्रशासनिक मुस्तैदी से काम लिया जाता था। हाल के बरसों में पश्चिमी उत्तर प्रदेश और पश्चिमी बिहार के इलाक़ों में बदलते जातीय समीकरण और दलितों-पिछडों में बढती राज्नीतिक-सामाजिक जागरुकता और नसुड़ी की लोकप्रियता में संबंध तलाशा जाना चाहिये। हर सामाजिक आंदोलन के गायक होते हैं, शायद नसुडी भी ऐसी ही उथल-पुथल भरी सामाजिक-राजनैतिक परिस्थिति में एक परिघटना की तरह उभरे. ब्राह्मणवाद-विरोध और वर्चस्वशाली जातियों-वर्गों पर तीखे हमले नसुड़ी के सांस्कृतिक अजेंडा का अभिन्न हिस्सा हैं।

यहां पेश है नसुड़ी के एक नाइट लॉन्ग परफ़ोर्मेंस का आंशिक ट्रांस्क्रिप्शन—-

मंदिर बनावेवाला आप, महजिद बनावेवाला आप। मुर्ती बनावेवाला आप। चंदा लगा के मुर्ती लेआवेवाला आप। ओम्मे बइठवला तोहहीं। अउर तोहहीं ऊ मुर्ती के नाम रखला कि फलना बाबा। औ पूजा करबा, चढइबो करबा, परसादियो रखबा, फिर चढा-ओढा के अपना खाऊ जाबा। त के तोसे महान बा? सारी सक्ती तोहरे में बा। औ जाए लगबा त दरवाजा बंद कर देबा, कहबा अब तू एही में रहा. अब हम जात हई घरे।

(सह गायक पूछता है): अउर एकाध दिन भुला जाएं, न बंद करें तब?

नसुडी: तब कुक्कुर मूती बे! कवन उपाय बा? दरवाजा खुलल रही त कुक्कुर मूती। त सोचा! जब ऊ कुकुरे से मुतवावत ह मुहें में त तोहार मदद करी? ओके कहेके चाही–मत मूता रे एही में हम हई। जब ऊ आपन मुंह नाही बचावत हौ, त तोहार मदद करी ऊ ? हम कहीला बइठावे के बइठाय द हर घरे में लेकिन मुर्ति क बात बतावत हई कि मदद करी त मानव करी। ई कहना बा–

तोहसे हौ ना महान कोई अरे दुनिया में

बेड़वा पार लागी मानव के सरनियां में

त भइया, संसार में सबसे बडा नाम होला। जेतना बडा नाम भगवान का ओतना बडा नाम घुरहू का। दुन्नो नाम बराबर होला। भगवान कतल करिहें त भगवान के फांसी होई अउर घुरहू कतल करिहें त घुरहू के फांसी होई। वल्दियत से काम चलेवाला नाहीं हौ, कि तू कहला हम राम क लडिका हईं त छमा कई द? ई छमा-वमा वाला बात न रही। जे गलती करी तेकर फांसी होई. 302 के मुल्जिम होई।

आया है सो गया नहीं

राजा रंक फकीर

ना कोई को बिवाय मिले

ना कोई को लगे जंजीर!

त भइया! आप लोग के आसिर्वाद के हमको भरोसा बा। आप लोग आसिर्वाद दे देइहैं त ई काया अगर रोड पर मर जाई तब्बौ एक गज कफन मिल जाई. अउर कवनो मंदिली में जाके मर जाईं त हम्मे कफन न मिली। औ भगवान-भगवान करी तब्बौ न मिली. तहार सब के संगत रही त हम्मे कुल चीज मिल जाई। एह से हमार मानव से जादा प्रेम रहेला। औ हम्मे भगवान-ओगवान के फेर नाहीं रहत कि हम्में भगवान मिल जइहें त खियइहें. तू मिलबा त खिया देबा, ऊ पट्ठा न खियाई। ऊ त दांत चियरले हौ मंदिर में। ऊ त खुदै हमार खात हौ, ऊ का खियाई? जे चहिबा ओके तू खियइबा, महानता तोहरे में हौ के ओकरे में?’

धनंजय सिंह नामक एक ब्लॉगर ने नसुड़ी के बारे में इस प्रकार लिखा है – ‘जमीन पर पैरों के निशान देखकर क्या कोई बता सकता है कि कौन ब्राह्मण का पैर है, कौन ठाकुर का, कौन अहीर या कौन मुसहर का? लेकिन पशुओं के पैरों के निशान देखकर कोई भी बता सकता है कि कौन बकरी का पैर है, कौन गाय का-भैंस का, ऊंट या हाथी का…ऐसा इसलिए है क्योंकि इन पशुओं की जातियाँ अलग अलग हैं, इसीलिए उनके पैरों के निशान भी अलग अलग हैं…

वो समझाता था कि भले ही गाय और भैंस देखने में एक जैसी लगती हैं, लेकिन ‘एक भैंस को साँड़ से ‘जोड़ा'(संभोग) करा कर देखिये, भैंस कभी भी गाभिन (गर्भ से) नहीं होगी, क्योंकि दोनों की जाति एक नहीं है।’ इसी तरह शेर का बाघिन से, बकरे का भेड़ से, ऊंट का हथिनी से…कोई गाभिन नहीं होगी, क्योंकि वे एक जाति के नहीं हैं, वहीं एक ‘ब्राह्मणी’ अगर एक ‘शूद्र’ मर्द के साथ हमबिस्तर हो जाये तो गर्भ से हो जाती है, क्योंकि दोनों की जाति एक है…

इस तरह की बातें करने वाला इंसान अगर यही बातें तमंचे लहराते हुए कहे तो आपको कैसा लगेगा ?…लेकिन ऐसा वो करता था, शान से करता था, हज़ारों की भीड़ में करता था। ऐसा कहते-करते वो उन्माद में चला जाता था और भीड़ भी उसके इस उन्माद पर ठहाके लगाती थी, तालियां बजाती थी। वो एक बार बोलना जो शुरू करता था तो रुकता ही नहीं था, कहता चला जाता था-

“क्यों गुरु जी (हे ब्राह्मण), हमने कौन सा ऐसा कर्ज आपका खाया है, जो उतरता ही नहीं…अभी हमारे दादा-परदादा का कर्ज भी नहीं उतरा कि हम जन्म लें-तब भी, शादी करें-तब भी, मर जाएं-तब भी और मरने के बाद भी हमें लूटते हो…”

और फिर वो खुलकर ‘ब्राह्मणों’, पुराणों और ‘उनके ईश्वर’ को गालियां देने लगता था। वो भीड़ को समझाता था कि “इस देश में ब्राह्मण ही वो जमात है जो ईश्वर को भी डांटता है, जिनके इशारे पर ‘ईश्वर’ नाचता है…इन्हीं ‘ब्राह्मणों’ ने हमें मिट्टी में मिला दिया, बर्बाद कर दिया, हमारे दादा-परदादा ने इनके यहाँ अपना दिमाग गिरवी रख दिया और इन्होंने हमारे-आपके दिमाग पर कब्जा कर लिया…”

उस शख्स का नाम नसुड़ी यादव था। वो बिरहा गाता था। गाता क्या था, भाषण देता था। हजारों लोग (अधिकतर पिछड़े-दलित) उसका बिरहा सुनने को जुट जाते थे। एक बार मैंने भी उसे सुना-देखा! कहा जाता है कि पूर्वांचल के कई जिलों के ‘सवर्ण’ उससे चिढ़े हुए थे, उसकी जान के पीछे लग गए थे, कई बार हमले की कोशिश भी की, लेकिन भीड़ की दीवानगी देखकर ‘उनकी’ हिम्मत नहीं होती थी और ‘नसुड़ी’ जब तक जिंदा रहा, गाता रहा,-

“जाति होती नहीं, फिर भी बनाई जाती है…’वो गाता रहा, समझाता रहा, “जातियाँ पशुओं में होती है, इंसानों के बीच नहीं। इंसान भी इस जीव-जंतुओं की दुनियां में महज एक जाति है…!!

आभार – नसुड़ी का  चित्र जाने-माने चित्रकार डॉ लाल रत्नाकर ने बनाया। रामभजन मौर्य तथा नसुड़ी के गाँव की तस्वीरें चमाँव निवासी बिरहा गायक श्यामजीत यादव के सौजन्य से मिलीं। 

 

रामजी यादव गाँव के लोग के संपादक हैं । 

3 Comments
  1. Dharmveer Yadav Gagan says

    इस सुव्यवस्थित लेख के लिए साधुवाद ! और आदिविद्रोही कवि को जोहार !!!!

  2. Gulabchand Yadav says

    वाह ! रामजी भाई, आपने तो गजबै लिख दिया क्रांतिकारी बिरहा गायक स्व. नसूड़ी यादव जी के बारे में। पूरा आलेख आद्योपांत पढ़ा। बहुत विस्तार से लिखा है आपने उनके व्यक्तित्व और कृतित्व के बारे में। वाकई बेजोड़, साहसी और अद्भुत प्रतिभा के धनी थे नसूडी यादव जिन्होंने हमेशा सामाजिक कुरीतियों, ब्राह्मणवादी व्यवस्था, समाज में व्याप्त पाखंडों और अंधविश्वासों आदि के खिलाफ अपने तीखे और मारक बिरहा गायन से जो मुकाम हासिल किया उसकी दूसरी मिसाल मिल पाना लगभग असंभव है। अधिकांश नामी गिरामी बिरहा गायकों ने रामायण, महाभारत के प्रसंगों, मिथकीय नायकों, चर्चित घटनाओं (कांडों) आदि को ही अपनी कथावस्तु का केंद्रीय विषय बनाया और “भक्ति भाव/रस” की लक्ष्मण रेखा से बाहर नहीं निकले। किंतु नसूड़ी यादव ने अपना अलग (और जोखिम भरा) मार्ग चुना जो इस बनी बनाई लकीर से बिल्कुल अलहदा और विस्फोटक था। उन्होंने अपनी बिरहा गायकी से लोक को जागरूक करने और प्रगतिशील बनने के लिए प्रेरित किया। समाज को बांटनेवाली मान्यताओं एवं परंपराओं के खिलाफ़ नाफरमानी का बिगुल बजाया। वे आजीवन विद्रोही ही रखे।

    किंतु यह बेहद अफसोस की बात है कि ऐसे क्रांतिकारी गायक की एकाध फोटो/तस्वीर भी नहीं सहेज पाया उनका परिवार, पड़ोस और अखाड़ा। हमारे अहीर समाज/जाति के साथ यह बहुत बड़ी विडंबना है कि वह अपने नायकों/गायकों/कलाकारों/शहीदों/साहित्यकारों आदि के प्रति घोर उपेक्षा का भाव रखते हुए “घर का जोगी जोगड़ा, आन गांव का सिद्ध” वाली कहावत को चरितार्थ करता है। जो समाज अपने वास्तविक नायकों/ वीरों, बलिदानियों, क्रांतिकारियों, कला रत्नों और समाज सुधारकों आदि के योगदान को नकारता है उस समाज में जागृति और संचेतना बहुत कम आ पाती है और आती भी है तो बहुत देर से।

    नसूड़ी यादव जैसे साहसी तेवर, बेबाक गायन शैली और बागी फितरत वाले बिरहा गायक सदियों में एकाध ही पैदा होते हैं। माटी के ऐसे सच्चे, खरे, तपे और ऊर्जापुंज कलाकार के अवदान/योगदान को जितनी शिद्दत, गहराई और लगन से रामजी भाई ने प्रस्तुत किया है वह वाकई में चकित कर देता है। इस पठनीय, विचारणीय और संग्रहणीय विस्तृत आलेख के लिए रामजी भाई को बधाई और साधुवाद।

  3. Keshav Sharan says

    सुंदर और शानदार लेख

Leave A Reply

Your email address will not be published.