ऐसा स्कूल जहाँ तीन पीढियां एक साथ पढ़ती, खेलती और रोज़गार के हुनर सीखती हैं .

गाँव के लोग डॉट कॉम की टीम

0 152

एक ऐसी शख्सियत जिन्होंने एक छोटे से प्रयास से अपने आसपास के मलिन बस्ती के बच्चों को निस्वार्थ भाव से पढ़ाना शुरू किया क्योंकि वे स्कूल जाने से बचते थे, घर की माएं और दादियाँ जब उन्हें छोड़ने आती थीं,तब बीना जी से बातचीत करते हुए एक अपनापा बना और उन बूढ़ी दादियों ने भी पढ़ने की उत्सुकता ज़ाहिर की और बस बात आगे बढ़ती गई और बच्चों के साथ उनकी दादियाँ और माएं भी पढ़ने लगीं. बीना जी युवा लड़कियों को भी पढ़ाने के साथ अपने पैरों पर खड़े होने का हुनर सिखाती हैं, बिना किसी बड़ी आर्थिक मदद लिए . देखिये पूजा की उनसे बातचीत
Leave A Reply

Your email address will not be published.