Wednesday, February 28, 2024
होमसंस्कृतिकेरल में सम्पन्न पैरा मास्टर ओलम्पिक नेशनल आउटडोर गेम्स में 3 स्वर्ण पदक...

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

केरल में सम्पन्न पैरा मास्टर ओलम्पिक नेशनल आउटडोर गेम्स में 3 स्वर्ण पदक जीतने वाले दिलीप का हुआ अभिनंदन 

आशा ट्रस्ट ने दिव्यांग दिलीप सिंह और उनकी दिव्यांग माँ को सम्मानित किया दिलीप के परिवार में सभी सदस्य दिव्यांग हैं भंदहा कला हवाई पट्टी पर खेल अकादमी बने – दिलीप  चौबेपुर क्षेत्र के भदहांकला गाँव के निवासी दिव्यांग खिलाड़ी दिलीप सिंह राजपूत ने विगत सप्ताह केरल में आयोजित प्रथम पैरा मास्टर ओलम्पिक नेशनल आउटडोर गेम्स […]

आशा ट्रस्ट ने दिव्यांग दिलीप सिंह और उनकी दिव्यांग माँ को सम्मानित किया

दिलीप के परिवार में सभी सदस्य दिव्यांग हैं

भंदहा कला हवाई पट्टी पर खेल अकादमी बने – दिलीप 

चौबेपुर क्षेत्र के भदहांकला गाँव के निवासी दिव्यांग खिलाड़ी दिलीप सिंह राजपूत ने विगत सप्ताह केरल में आयोजित प्रथम पैरा मास्टर ओलम्पिक नेशनल आउटडोर गेम्स में उत्तर प्रदेश के लिए तीन गोल्ड मेडल जीते। दिलीप ने जेवलिन थ्रो, डिस्कस थ्रो और गोला प्रक्षेप में स्वर्ण पदक पाकर वाराणसी जिले का नाम रोशन किया।

सोमवार को गाँव वापस पहुंचने सामाजिक संस्था आशा ट्रस्ट की तरफ से उनके घर पर आयोजित सम्मान समारोह में माल्यार्पण एवं अभिनंदन किया गया, साथ ही ‘काशी गौरव सम्मान’ से सम्मानित किया गया एवं दिलीप की माता जी शोभा रानी जो स्वयं जन्म से दिव्यांग हैं उनका भी सम्मान किया गया।

खिलाड़ी दिलीप सिंह राजपूत का सम्मान करते हुए आशा ट्रस्ट के समन्वयक वल्लभाचार्य पाण्डेय

इस अवसर पर आशा ट्रस्ट के समन्वयक वल्लभाचार्य पाण्डेय ने कहा कि माता, पिता, पत्नी और स्वयं के बचपन से दिव्यांग होने के बावजूद दिलीप ने जो जज्बा दिखाया है वह पूरे समाज को प्रेरित करने वाला है। कुछ माह पूर्व कोरोना काल में पिता की मृत्यु के बाद बिना धैर्य खोये हुए इन्होंने जिस प्रकार के साहस का परिचय दिया है यह उनके पिता के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि है।

पूर्व ग्राम प्रधान एवं वरिष्ठ भाजपा नेता घनश्याम सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर की खेल प्रतियोगिता में प्रदेश के लिए तीन स्वर्ण पदक जीतने गाँव के साथ ही जिले का भी नाम रौशन हुआ है।

आये हुए लोगों के प्रति धन्यवाद ज्ञापित करते हुए दिलीप सिंह ने कहा कि मेरी इस उपलब्धि का श्रेय मेरे माता-पिता को जाता है जिन्होंने स्वयं दिव्यांग होने के बावजूद मुझे हमेशा बड़ा लक्ष्य रख कर काम करने को प्रेरित किया, यही वजह रही कि मुझे स्वयं की दिव्यान्गता के लिए कभी हीन भावना नही रही बल्कि प्रेरणा मिलती रही। उन्होंने कहा कि भदहाँ कला हवाई पट्टी पर खेल अकेडमी की स्थापना की जानी चाहिए जिससे इस क्षेत्र के युवको को खेल के लिए अच्छा प्रशिक्षण मिले।

कार्यक्रम में प्रमुख रूप से नामवर सिंह, जगत नारायण सिंह, मानिक राज सिंह, सोना सिंह, प्रदीप कुमार सिंह, सूरज पाण्डेय, भोला नाथ सिंह, प्रवीण सिंह, धीरज यादव, जीत यादव, प्रीतम सिंह, भारत सिंह, धनजय सिंह, रमेश आदि उपस्थित रहे।

गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें