कैसा होने जा रहा है लोकतंत्र का भविष्य

गाँव के लोग

0 202

संवैधानिक लोकतंत्र के मूल्यों को चुनावी लोकतंत्र के औजारों से लगातार कमजोर बनाया जा रहा है. अनेक लोकतान्त्रिक मूल्य खतरे में पड़ चुके हैं और भारतीय संविधान मनुष्य को जिस तरह की धार्मिक और अभिव्यक्ति की आज़ादी देता है अब उस पर भी खतरा मंडरा रहा है क्योंकि बहुमत के गणित ने सत्ता संभालनेवाले लोगों को अनियंत्रित ताकत दे दी है. आज कर्णाटक उच्च न्यायलय ने हिजाब पर रोक लगाकर एक समुदाय की धार्मिक आज़ादी को नियंत्रित करने और ठीक इसके समानांतर दूसरे धार्मिक समुदाय को निरंकुश होने निर्णय दे दिया है. इस निर्णय ने भारत की संवैधानिक संस्थाओं की भूमिका को निरपेक्षता की जगह पक्षधरता की ओर झुकने की ओर संकेत कर दिया है. इस विषय पर जानेमाने पत्रकार उर्मिलेश से बातचीत.

 

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.