Wednesday, February 28, 2024
होमवीडियोकैसा होने जा रहा है लोकतंत्र का भविष्य

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

कैसा होने जा रहा है लोकतंत्र का भविष्य

संवैधानिक लोकतंत्र के मूल्यों को चुनावी लोकतंत्र के औजारों से लगातार कमजोर बनाया जा रहा है. अनेक लोकतान्त्रिक मूल्य खतरे में पड़ चुके हैं और भारतीय संविधान मनुष्य को जिस तरह की धार्मिक और अभिव्यक्ति की आज़ादी देता है अब उस पर भी खतरा मंडरा रहा है क्योंकि बहुमत के गणित ने सत्ता संभालनेवाले लोगों […]

संवैधानिक लोकतंत्र के मूल्यों को चुनावी लोकतंत्र के औजारों से लगातार कमजोर बनाया जा रहा है. अनेक लोकतान्त्रिक मूल्य खतरे में पड़ चुके हैं और भारतीय संविधान मनुष्य को जिस तरह की धार्मिक और अभिव्यक्ति की आज़ादी देता है अब उस पर भी खतरा मंडरा रहा है क्योंकि बहुमत के गणित ने सत्ता संभालनेवाले लोगों को अनियंत्रित ताकत दे दी है. आज कर्णाटक उच्च न्यायलय ने हिजाब पर रोक लगाकर एक समुदाय की धार्मिक आज़ादी को नियंत्रित करने और ठीक इसके समानांतर दूसरे धार्मिक समुदाय को निरंकुश होने निर्णय दे दिया है. इस निर्णय ने भारत की संवैधानिक संस्थाओं की भूमिका को निरपेक्षता की जगह पक्षधरता की ओर झुकने की ओर संकेत कर दिया है. इस विषय पर जानेमाने पत्रकार उर्मिलेश से बातचीत.

 

 

गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें