Friday, May 24, 2024
होमसंस्कृतिआदर्शवादिता और सभ्यता मानव की, सिर पे धरके पाँव नाचती होली...

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

आदर्शवादिता और सभ्यता मानव की, सिर पे धरके पाँव नाचती होली में

तेजपाल सिंह ‘तेज’ की दो गीतिकाएं   एक वासंती ऋतु हुई शराबी होली में, खाकर भाँग सुबह इठलायी होली में ।   बटन खोल तहज़ीब नाचती सड़कों पर, हुआ आचरण धुआँ दीवानी होली में ।   सबके सिर पर राजनीति का रंग चढ़ा, सियासत ने यूँ धाक जमायी होली में ।     ।   […]

तेजपाल सिंह तेजकी दो गीतिकाएं

 

एक

वासंती ऋतु हुई शराबी होली में,

खाकर भाँग सुबह इठलायी होली में ।

 

बटन खोल तहज़ीब नाचती सड़कों पर,

हुआ आचरण धुआँ दीवानी होली में ।

 

सबके सिर पर राजनीति का रंग चढ़ा,

सियासत ने यूँ धाक जमायी होली में ।

 

 

 

धनवानों की होली बेशक होली है,

भूखों ने पर खाक उड़ायी होली में ।

 

प्रेमचन्द की धनिया बैठी सिसक रही,

जैसे-तैसे लाज बचायी होली में ।

दो

धनिया ने क्या रंग जमाया होली में,

रँगों का इक गाँव बसाया होली में ।

 

आँखों से हैं छूट रहे शराबी फव्वारे,

होठों ने उन्माद जगाया होली में ।

 

फँसती गई देह की मछली मतिमारी,

जुल्फों ने यूँ जाल बिछाया होली में ।

 

सिर पे रखके पाँव निगोड़ी नाच रही,

इस तौर लाज का ताज गिराया होली में ।

 

टेसू के रँगों का फागुन हुआ हवा,

कड़वाहट का रँग बरसाया होली में।

 

तेजपाल सिंह तेज स्टेट बैंक से सेवानिवृत्त होकर इन दिनों स्वतंत्र लेखन में रत हैं।

 

 

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें