Monday, May 27, 2024
होमराजनीतिइज़राइल-हमास युद्ध : गाजा के लोग भोजन, दवा और बुनियादी सेवाओं से...

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

इज़राइल-हमास युद्ध : गाजा के लोग भोजन, दवा और बुनियादी सेवाओं से महरूम

सैन डिएगो(द कन्वरसेशन)। अंतरराष्ट्रीय सहायता समूह चेतावनी दे रहे हैं कि वे गाजा पट्टी में लोगों को भोजन और अन्य बुनियादी सेवाएं नहीं दे पा रहे हैं । जिसकी वजह से एक गंभीर मानवीय संकट पैदा होने जा रहा है। अंतर्राष्ट्रीय सहायता समूह गाजा में लगभग 63 प्रतिशत लोगों को भोजन और सहायता के अन्य […]

सैन डिएगो(द कन्वरसेशन)। अंतरराष्ट्रीय सहायता समूह चेतावनी दे रहे हैं कि वे गाजा पट्टी में लोगों को भोजन और अन्य बुनियादी सेवाएं नहीं दे पा रहे हैं । जिसकी वजह से एक गंभीर मानवीय संकट पैदा होने जा रहा है। अंतर्राष्ट्रीय सहायता समूह गाजा में लगभग 63 प्रतिशत लोगों को भोजन और सहायता के अन्य साधन प्रदान करते हैं। इज़राइल ने 10 अक्टूबर, 2023 को गाजा के 23 लाख निवासियों को भोजन, ईंधन और अन्य आपूर्ति की अनुमति देना बंद कर दिया और कथित तौर पर जमीनी आक्रमण की तैयारी कर रहा है।

मैं शांति और संघर्ष अर्थशास्त्र का विद्वान हूं और विश्व बैंक का पूर्व सलाहकार हूं, जिसमें हमास और इज़राइल के बीच 2014 में हुए युद्ध की अवधि भी शामिल है। अंतर्राष्ट्रीय सहायता समूह अब गाजा में उसी समस्या का सामना कर रहे हैं जिसका स्थानीय व्यवसायों और निवासियों को लगभग 16 वर्षों से करना पड़ रहा है। एक नाकाबंदी जो व्यक्तियों और दवाओं जैसी वस्तुओं को लगभग 25 मील लंबे क्षेत्र में आसानी से अंदर या बाहर जाने से रोकती है।

16 बरसों से लागू यह नाकाबंदी उस भोजन और ईंधन पर लागू नहीं होती थी जो समूह गाजा में लाते थे। अब, यह उसपर भी लागू होती है।

गाजा की नाकाबंदी और अर्थव्यवस्था

गाजा लगभग फिलाडेल्फिया के आकार का है और उसे अपनी अर्थव्यवस्था को बनाए रखने और विकसित करने के लिए विभिन्न व्यवसायों और देशों के साथ व्यापार की आवश्यकता है। लेकिन गाजा काफी हद तक विदेशी सहायता पर निर्भर है।

यह आंशिक रूप से हमास के राजनीतिक सत्ता में आने के एक साल बाद, 2007 में इज़राइल द्वारा गाजा के आसपास स्थायी हवाई, भूमि और समुद्री नाकाबंदी स्थापित करने का परिणाम है।

मिस्र, जिसकी दक्षिणी सीमा गाजा से लगती है, एक चौकी की भी निगरानी करता है जो विशेष रूप से लोगों के आने-जाने पर प्रतिबंध लगाती है। इज़राइल ने लगभग 17,000 गाजा निवासियों को इज़राइल में प्रवेश करने और काम करने की अनुमति दी है, गाजा में लोग जिस भोजन, ईंधन और चिकित्सा आपूर्ति का उपयोग करते हैं वह पहले इज़राइल से होकर जाती है।

इज़राइल गाजा के साथ दो भौतिक चौकियों को नियंत्रित करता है, जो लोगों और ट्रकों के प्रवेश और निकास दोनों की निगरानी करते हैं। इज़राइल गाजा में आने वाली सामग्रियों के प्रकार और मात्रा को सीमित करता है। और नाकेबंदी आम तौर पर उन गाज़ावासियों की इज़राइल में आवाजाही को प्रतिबंधित करती है जिनके पास कार्य परमिट या विशेष मंजूरी नहीं होती है – उदाहरण के लिए चिकित्सा उद्देश्यों से प्रवेश करने वालों को।

7 अक्टूबर को 20 इजरायली कस्बों और कई सैन्य ठिकानों पर हमास के अचानक हमले के बाद से नाकाबंदी के माध्यम से इजरायल के प्रतिबंध तेज हो गए, जिसके बाद इजरायल ने गाजा में आयात की व्यापक नाकाबंदी की घोषणा की। इसने सभी खाद्य, ईंधन और चिकित्सा आपूर्ति को क्षेत्र में प्रवेश करने से रोक दिया।

गाजा का अलगाव

वेस्ट बैंक और गाजा के फलस्तीनी परिक्षेत्र – जिन्हें आम तौर पर आर्थिक विश्लेषणों में एक साथ रखा जाता है – दोनों की छोटी अर्थव्यवस्थाएं हैं जो हर साल 6.6 अरब अमेरिकी डॉलर के बड़े घाटे में चलती हैं, क्योंकि वह जितना सामान आयात करते हैं, उसका मूल्य उन वस्तुओं से कहीं अधिक होता है, जिसका वह उत्पादन करते हैं और अन्यत्र बेचते हैं।

2020 में 53 प्रतिशत से अधिक गाजा निवासियों को गरीबी रेखा से नीचे माना गया था, और लगभग 77 प्रतिशत गाजा परिवारों को संयुक्त राष्ट्र और अन्य समूहों से किसी न किसी रूप में सहायता मिलती है, ज्यादातर नकदी या भोजन के रूप में।

गाजा की कमजोर अर्थव्यवस्था के कई जटिल कारण है, लेकिन सबसे बड़ा कारण नाकाबंदी और इससे पैदा होने वाला आर्थिक और व्यापारिक अलगाव है। औसत गाजा वासियों के लिए, नाकाबंदी के कई व्यावहारिक प्रभाव हैं, जिनमें लोगों की भोजन प्राप्त करने की क्षमता भी शामिल है।

गाजा में लगभग 64 प्रतिशत लोगों को खाद्य असुरक्षित माना जाता है, जिसका अर्थ है कि उनके पास पर्याप्त मात्रा में भोजन तक विश्वसनीय पहुंच नहीं है।

गाजा के कुल आयात में खाद्य पदार्थों की मात्रा 2005 के बाद से 50 प्रतिशत तक बढ़ गयी है, जब इज़राइल ने पहली बार अस्थायी नाकाबंदी लगाई थी। और तब से वेस्ट बैंक और गाजा द्वारा उत्पादित भोजन की मात्रा में 30 प्रतिशत की गिरावट आई है।

गाजा के लिए अपनी सीमाओं के भीतर भोजन का उत्पादन करना कठिन है। एक कारक यह है कि 2008 में और फिर 2018 में इजरायली हवाई हमलों ने गाजा के एकमात्र बिजली उत्पादन संयंत्र और मुख्य सीवेज ट्रीटमेंट संयंत्र को नुकसान पहुंचाया। इन हमलों के परिणामस्वरूप जमीन और पानी में सीवेज का कचरा फैल गया, खेत और खाद्य फसलें नष्ट हो गईं और समुद्र में मछलियों के जीवन को भी खतरा पैदा हो गया।

गाजा में संयुक्त राष्ट्र की बड़ी भूमिका

गाजा की कमजोर अर्थव्यवस्था और नाकाबंदी के कारण अलगाव का मतलब है कि यह निवासियों को बुनियादी सेवाएं प्रदान करने के लिए अंतरराष्ट्रीय सहायता संगठनों पर बहुत अधिक निर्भर करता है। गाजा में इन सहायता समूहों में सबसे बड़ा फलस्तीनी शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र राहत और कार्य एजेंसी है – जिसे यूएनआरडब्ल्यूए के रूप में भी जाना जाता है।

आज, यूएनआरडब्ल्यूए हमास के बाद गाजा में दूसरा सबसे बड़ा नियोक्ता है। यह जॉर्डन, लेबनान, सीरिया, वेस्ट बैंक और अन्य स्थानों में रहने वाले फलस्तीनी शरणार्थियों के रूप में पंजीकृत 30 लाख अन्य लोगों के अलावा, गाजा में लोगों के लिए शिक्षा, भोजन सहायता और स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं का बड़ा हिस्सा प्रदान करता है।

यूएनआरडब्ल्यूए अकेले गाजा में 284 स्कूलों का नेटवर्क चलाता है और उन्हें धन देता है, जिसमें 9,000 से अधिक स्थानीय लोगों को स्टाफ के रूप में नियुक्त किया जाता है और हर साल 294,000 से अधिक बच्चों को शिक्षित किया जाता है।

यूएनआरडब्ल्यूए गाजा में 22 अस्पताल चलाता है जिसमें लगभग 1,000 स्वास्थ्य कर्मचारी कार्यरत हैं और प्रति वर्ष 33 लाख मरीज आते हैं।

वर्तमान युद्ध जैसे संकट के समय में इसके स्कूलों को मानवीय आश्रय स्थलों में बदल दिया जाता है। लोग साफ पानी, भोजन, गद्दे और कंबल, शॉवर और अन्य सामान के लिए वहां जा सकते हैं।

गाजा में अपने घरों से विस्थापित होने वाले लोगों की संख्या पिछले कुछ दिनों में तेजी से बढ़ी है, जो 12 अक्टूबर, 2023 को कुल 330,000 से अधिक हो गई है। इनमें से दो-तिहाई से अधिक लोग यूएनआरडब्ल्यूए स्कूलों में रह रहे हैं।

एक जटिल अमेरिकी संबंध

अमेरिका ऐतिहासिक रूप से यूएनआरडब्ल्यूए का सबसे बड़ा वित्तपोषक रहा है, जो संयुक्त राष्ट्र की एक एजेंसी है जो अपने काम के समर्थन के लिए सरकारों पर निर्भर रहती है।

अमेरिका ने अप्रैल 2021 से मार्च 2022 तक फ़लस्तीनियों को 50 करोड़ अमरीकी डालर से अधिक दिया, जिसमें यूएनआरडब्ल्यूए को दिए गए 41 करोड़ 70 लाख अमरीकी डालर से अधिक शामिल हैं। विभिन्न सरकारों के समय में यूएनआरडब्ल्यूए को अमेरिकी समर्थन में उतार-चढ़ाव आया है।

वेस्ट बैंक और गाजा को कुल अमेरिकी सहायता 2009 में एक अरब अमेरिकी डॉलर तक पहुंच गई – जब इज़राइल ने क्षेत्र को सील कर दिया। 2013 में फिर से वार्षिक योगदान एक अरब अमेरिकी डॉलर तक पहुंच गया, जब पूर्व विदेश मंत्री जॉन केरी ने इज़राइल और हमास के बीच शांति वार्ता को फिर से शुरू करने में मदद की।

2018 में, ट्रम्प प्रशासन ने यूएनआरडब्ल्यूए को आमतौर पर अमेरिका द्वारा दी जाने वाली लगभग सारी धनराशि में कटौती कर दी, जो संगठन के कुल बजट का लगभग 30 प्रतिशत था।

नीति परिवर्तन के रक्षकों ने यूएनआरडब्ल्यूए-प्रकाशित पाठ्यपुस्तकों का हवाला दिया जिसमें कथित तौर पर जिहाद का महिमामंडन किया गया था। यूएनआरडब्ल्यूए ने अपनी ओर से कहा कि, एक बाहरी संगठन के रूप में, वह केवल उन शैक्षिक सामग्रियों का उपयोग कर सकता है जहां वह काम कर रहा है। इसके बाद बाइडेन प्रशासन ने 2021 में यूएनआरडब्ल्यूए और फलस्तीनियों की मदद करने वाले अन्य संगठनों को आर्थिक सहायतस बहाल कर दी।

कुछ रिपब्लिकन नेताओं ने कहा है कि यूएनआरडब्ल्यूए ने हमास के साथ मेलजोल’ कर लिया है। और एक आंतरिक यूएनआरडब्ल्यूए नैतिकता समिति ने एजेंसी के शीर्ष कर्मचारियों पर यौन दुर्व्यवहार, भाई-भतीजावाद, प्रतिशोध … और अधिकार के अन्य दुरुपयोग का आरोप लगाया है, जिसने पूरा माहौल खराब कर दिया है।

इस बीच, 8 अक्टूबर को इजराइल और हमास के बीच युद्ध शुरू होने के बाद से 1,500 से अधिक गाजावासी मारे गए हैं और 5,300 से अधिक घायल हुए हैं, जबकि हमास के हमलों में इजराइल में 1,300 से अधिक लोग मारे गए हैं और लगभग 3,200 अन्य घायल हुए हैं।

अंतर्राष्ट्रीय सहायता समूहों और यूरोपीय संघ के अधिकारियों ने गाजा में एक मानवीय गलियारा स्थापित करने का आह्वान किया है -जिसका अर्थ विशेष रूप से नागरिकों, सहायता कर्मियों और आवश्यक बुनियादी वस्तुओं के लिए गाजा से इज़राइल और मिस्र तक सुरक्षित रूप से आने-जाने के लिए एक संरक्षित मार्ग देना है। अभी तक ऐसे संरक्षित मार्ग की कोई स्पष्ट योजना नहीं है।

(टॉफर एल. मैकडॉगल, सैन डिएगो विश्वविद्यालय में आर्थिक विकास और शांति निर्माण के प्रोफेसर हैं।)

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें