Wednesday, April 17, 2024
होमविचारअब गाली की बात

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

अब गाली की बात

अब क्या कहेंगे मोदीजी की सरकार को नो डाटा सरकार कहकर चिढ़ाने वाले? मोदीजी की सरकार के पास कम से कम एक डाटा तो है। खुद पीएम के मुंह से निकला अकाट्य डाटा है। पीएम के तख्त पर चढ़े मोदीजी को मिली गालियों का। न एक कम, न एक ज्यादा, पूरी 91 गालियां मोदीजी को […]

अब क्या कहेंगे मोदीजी की सरकार को नो डाटा सरकार कहकर चिढ़ाने वाले? मोदीजी की सरकार के पास कम से कम एक डाटा तो है। खुद पीएम के मुंह से निकला अकाट्य डाटा है। पीएम के तख्त पर चढ़े मोदीजी को मिली गालियों का। न एक कम, न एक ज्यादा, पूरी 91 गालियां मोदीजी को प्राप्त हुई हैं, खड्गेजी द्वारा हाल में भेजी गयी, सांप वाली गाली समेत। रोजगार-बेरोजगारी का डॉटा न सही, गरीबी का डाटा न सही, जनसंख्या का भी डाटा न सही, जातिवार संख्या का डाटान सही, नोटबंदी से हुई मौतों का या बैंकों के पास लौटे काले धन का या टें बोल गए छोटे उद्योगों का डाटा न सही, विदेशी बैंकों में जमा काले धन का डाटा न सही, विदेशी खोखा कंपनियों का डाटा न सही, अडानीजी के 20 हजार करोड़ के आखिरकार कैंसल हुए टॉप अप शेयर में पैसा लगाने वालों का डाटा न सही, कोविड से मरने वालों का व पुरानी बीमारियों से मरने वालों का भी डाटा न सही, सरकारी बैंकों का पैसा मारकर विदेश भागने वालों का डाटा न सही, पीएम केअर के जमा-खर्च का डाटा न सही, मोदीजी के पार्टी की कमाई और खर्चों समेत मार-तमाम दूसरी चीजों का डाटा न सही; तब भी मोदी जी की सरकार को नो डाटा सरकार नहीं कह सकते हैं।

यह भी पढ़ें…

राम के सहारे विध्वंसक राजनीति

लिटिल डाटा सरकार चाहे तो कोई कह भी सकता है, पर नो डाटा सरकार अब कोई नहीं कह सकता। आखिर, एक डाटा तो सरकार के पास है – मोदीजी को दी गयी गालियों का डाटा। अब विरोधी इसे फालतू डाटा कहते हैं तो कहते रहें, पर है तो यह भी डाटा ही। और रही फालतू होने की बात, तो सचमुच फालतू होता तो क्या मोदीजी अपना कर्नाटक का एकदम फाइनल चुनाव प्रचार, मतदाताओं को अपने हिस्से में आयी गालियों का डाटा सुनाने से क्यों शुरू करते?

आखिर, सैकड़ा मन की बात का हुआ है, देश भर में बल्कि दुनिया भर में उसका उत्सव भी हो रहा है। फिर भी सेंचुरी के उत्सव की सारी चमक-दमक के बाद भी, चुनाव में गालियों की बात ही काम में आ रही है। सोचो तो क्यूं? क्योंकि मोदीजी को भी पता है कि घेर-बंटोर के पब्लिक को अपने मन की बात तो सुना सकते हैं। मन की बात सुना-सुनाकर, सेंचुरी ही क्यों, किसी न किसी तरह का वर्ल्ड रिकार्ड भी बना सकते हैं। पर मोदी जी भी अपने मन की बात सुनाकर, पब्लिक से वोट नहीं डलवा सकते हैं। वोट तो पब्लिक अपने मन की बात सुन-सुनाकर ही डालती है। सो मन की बात की सेंचुरी अपनी जगह, वोट तो मोदी जी गालियों की बात सुनाकर ही मांग रहे हैं। मोदीजी अपने मन की बात किसी और दिन सुना लेंगे। बल्कि एक-एक गाली का हिसाब रखे जाने से यह भी तो साबित होता है कि मोदीजी अगर अपने मन की बात सुनाते हैं, तो पब्लिक के मन की भी बड़े ध्यान से सुनते हैं और एक-एक बात का पूरा हिसाब रखते हैं।

यह भी पढ़ें…

राम के सहारे विध्वंसक राजनीति

रही सेंचुरी के उत्सव की बात, तो आज मन की बात की सेंचुरी हो रही है, तो अगले बड़े चुनाव तक तो गालियों की बात की भी सेंचुरी हो ही लेगी। सिर्फ नौ गालियों की ही तो कसर बची है। आने दो बड़े चुनाव को, मोदीजी गालियों की बात की सेंचुरी का और भी धूम-धड़ाके का उत्सव करवाएंगे।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें