आरएसएस फासीवाद के खिलाफ आक्रामक होने का किया आह्वान

भाकपा (माले) रेड स्टार की 12वीं कांग्रेस (महासम्मेलन) का समापन

0 647

कोझीकोड। 24 से 29 सितंबर तक कोझिकोड केरल के शिवराम-शर्मिष्ठा हॉल (एसके पोट्टेकड़ हॉल) में आयोजित भाकपा (माले) रेड स्टार के 12वीं कांग्रेस का समापन आरएसएस के नव-फासीवाद का प्रतिरोध करने और उसे हराने के आह्वान के साथ हुआ। कांग्रेस में 16 राज्यों के लगभग 300 प्रतिनिधियों और पर्यवेक्षकों ने भाग लिया। गहन चर्चा के बाद अद्यतन पार्टी कार्यक्रम, क्रांति का पथ, संविधान में संशोधन, राजनीतिक संगठनात्मक रिपोर्ट और राजनीतिक प्रस्ताव पर कांग्रेस ने मुहर लगाया। कांग्रेस द्वारा सर्वसम्मति से चुने गए 34 सदस्यीय केंद्रीय समिति और 3 सदस्यीय केंद्रीय नियंत्रण आयोग ने कॉमरेड पीजे जेम्स को पार्टी के महासचिव और कॉमरेड साबी जोसेफ को केंद्रीय कंट्रोल कमीशन (नियंत्रण आयोग) के संयोजक के रूप में चुना।

पार्टी कांग्रेस ने दुनिया के सबसे बड़े और सबसे पुराने फासीवादी संगठन, आरएसएस के नव-फासीवाद के खिलाफ व्यापक फासीवाद-विरोधी मोर्चा बनाने के कार्य को तात्कालिक रूप से करने का फैसला किया। इस कार्य में सभी फासीवाद-विरोधी ताकतों के साथ शामिल होते हुए, पार्टी कांग्रेस ने नवउदार-कॉरपोरेटकरण के खिलाफ लड़ाई में मजदूर वर्ग और सभी उत्पीड़ितों की वैचारिक स्वतंत्रता को बनाए रखने के लिए कम्युनिस्टों के स्वतंत्र पहल के कर्तव्य को प्राथमिकता में रखने का भी फैसला किया। मनुस्मृति पर आधारित अमानवीय जाति व्यवस्था आरएसएस फासीवाद का वैचारिक आधार है, पार्टी कांग्रेस ने सर्वसम्मति से संकल्प लिया कि केंद्रीय समिति के सदस्य सभी जातिगत उपनामों/ पदवी  को छोड़ देंगे। इसी तारतम्य में, कांग्रेस ने सभी प्रकार के लैंगिक भेदभाव को समाप्त करने और लैंगिक समानता की दिशा में आगे बढ़ने के लिए अडिग लड़ाई लड़ाई लड़ने का भी आह्वान किया।

पैदल मार्च निकलते हुए भाकपा (माले) रेड स्टार के लोग

धार्मिक-सांप्रदायिक संगठनों पर सीपीआई (एमएल) रेड स्टार की स्थिति स्पष्ट है। कांग्रेस ने मुस्लिम संगठनों को चुनिंदा रूप से लक्षित और प्रतिबंधित करने के मोदी शासन के जारी कदम की कड़ी निंदा की है, जो आरएसएस के सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के अनुरूप है, जो मुसलमानों की पहचान अपने दुश्मन नंबर एक के रूप में बहुत शुरुआत से करते आई है। पार्टी कांग्रेस ने प्रकृति पर लगातार बढ़ते कॉर्पोरेट अतिक्रमण का प्रतिरोध करने के अत्यधिक महत्व पर भी जोर दिया, जो अब एक पर्यावरणीय तबाही की ओर ले जा रहा है जिससे सभी जीवित प्राणियों का अस्तित्व खतरे में पड़ गया है।

पार्टी संगठन के निर्माण के प्राथमिक कार्य के साथ, कांग्रेस ने देश में कम्युनिस्ट क्रांतिकारी संगठनों के बीच एकता बनाने के लिए प्रयास को तेज करने का निर्णय लिया। आईकोर (क्रांतिकारी दलों और संगठनों का अंतरराष्ट्रीय मंच) के एक घटक होने के नाते, पार्टी ने आईकॉर के साम्राज्यवाद और नवफासीवाद के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक साम्राज्यवाद-विरोधी, फासीवाद-विरोधी संयुक्त संयुक्त मोर्चा बनाने के प्रयासों को मजबूत करने का फैसला किया है।

पार्टी कांग्रेस ने जनता के लोकतंत्र और समाजवाद की ओर आगे बढ़ने के पार्टी के रणनीतिक कार्य को कॉर्पोरेट-भगवा फासीवादी शासन की धूरदक्षिणपंथी नवउदारवादी नीतियों का विरोध करने और उन्हें हराने के तत्काल कार्य के साथ एकीकृत करने का संकल्प लिया है, जिसके कारण समस्त संपदा का केंद्रीकरण एक तरफ तो अडानी-अंबानी जैसे बड़े कॉर्पोरेट्स के एक छोटे समूह के हाथों हो रहा है और दूसरी तरफ   भारत को “पूर्ण” या “अत्यधिक” गरीबी के गढ़ में बदलने के साथ-साथ अभूतपूर्व बेरोजगारी और आसमान छूती महंगाई  की भीषण परिस्थिति पैदा की गई है। इसने आम लोगों के जीवन को दुभर कर दिया है।

भाकपा (माले) रेड स्टार उन सभी मेहनतकश, उत्पीड़ित जनता और प्रगतिशील जनवादी तबकों को अपनी क्रांतिका बधाई देता है जिन्होंने 12वीं पार्टी कांग्रेस को सफल बनाने के लिए तहेदिल से समर्थन किया!

Leave A Reply

Your email address will not be published.