Wednesday, February 28, 2024
होमराजनीतिग्रामीण लेखन के आधार स्तंभ संजॉय घोष

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

ग्रामीण लेखन के आधार स्तंभ संजॉय घोष

अपने 22 साल के जीवन में मैंने कभी संजॉय घोष के बारे में नहीं सुना था। साल 2011 में दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से मास्टर डिग्री हासिल करने के दौरान मैंने सक्रिय रूप से डेवलपमेंट सेक्टर में नौकरी के अवसरों की तलाश शुरू की। एक मित्र ने मुझे एनजीओ क्षेत्र में विज्ञापन नौकरियों के लिए […]

अपने 22 साल के जीवन में मैंने कभी संजॉय घोष के बारे में नहीं सुना था। साल 2011 में दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से मास्टर डिग्री हासिल करने के दौरान मैंने सक्रिय रूप से डेवलपमेंट सेक्टर में नौकरी के अवसरों की तलाश शुरू की। एक मित्र ने मुझे एनजीओ क्षेत्र में विज्ञापन नौकरियों के लिए समर्पित एक वेबसाइट के बारे में बताया, जहां मुझे सहायक अंग्रेजी संपादक की भूमिका के लिए चरखा डेवलपमेंट कम्युनिकेशन नेटवर्क में एक रिक्ति मिली। जिज्ञासा ने मुझे उनकी वेबसाइट का पता लगाने के लिए प्रेरित किया, जहां मुझे संगठन के संस्थापक संजॉय घोष के बारे में पता चला। उन्होंने 1997 में असम के माजुली में उल्फा उग्रवादियों द्वारा दुखद अपहरण से पहले एक अमिट छाप छोड़ते हुए 1994 में चरखा की स्थापना की थी।

चरखा में मैंने जिस क्षण पद संभाला, संगठन से परिचित होने की मेरी यात्रा शुरू हुई। धीरे-धीरे उस व्यक्ति के प्रति आदर की भावना जागृत हुई जो संजॉय थे। मैं हर दिन पालम विहार में चरखा के पूर्व कार्यालय के हृदय स्थल (बेसमेंट) में प्रवेश करती और उनकी तस्वीर देखती, जिसमें वह ब्रह्मपुत्र के तट पर बैठे थे। उनका बैग बगल में रखा हुआ है। पारंपरिक पोशाक (एक कुर्ता-पायजामा और एक शॉल) में सजी हुई उनकी  शांत मुस्कान संतुष्टि की हवा बिखेर रही थी।

संजॉय तब मेरे लिए अजनबी थे, लेकिन धीरे-धीरे उनकी जिंदगी की कहानी मेरे सामने खुलती गई। उनके पिता स्व. शंकर घोष (जो  अब नहीं हैं), समाज द्वारा हाशिए पर रहने वाले लोगों के साथ काम करने की अपनी प्रतिबद्धता की कहानियां सुनाते थे। वह कहते थे कि, ‘आमतौर पर एक बेटा अपने पिता के नक्शेकदम पर चलता है, लेकिन यहां मैं खुद को अपने बेटे के नक्शेकदम पर चलते हुए पाता हूं।’ अपने प्रियजनों के बीच वह ‘जॉय’ के नाम से मशहूर थे।शंकर सर बताते थे कि कैसे जॉय ने एक बार मुंबई की एक झुग्गी बस्ती में मानसून की बारिश से भीगते हुए वहां के निवासियों की कठिनाइयों को समझने की कोशिश में कुछ दिन बिताए थे, जो उनके समर्पण का प्रमाण है। शंकर सर का अपने बेटे के प्रति जुनून और प्रशंसा स्पष्ट थी।

[bs-quote quote=”कभी-कभी, थकान, हताशा, अकेलापन और सूनापन मुझे घेरते हैं, फिर भी उन क्षणों में मैं जॉय की तस्वीर की ओर देखती हूं, जो वहां मुस्करा रहे होते हैं। कह रहे हों- सब कुछ ठीक हो जाएगा। जॉय मेरे गुरु हैं, उनकी सदैव प्रेरणादायक मुस्कान मुझे आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती है। उनकी 26वीं पुण्यतिथि पर मैं जॉय के जीवन के उन अंशों पर विचार करती हूं, जो मेरे अस्तित्व में रचे-बसे हैं। कुछ कहानियां मेरे दिल में बसी हुई हैं, जबकि कुछ रास्ते में खो गई होंगी। जैसे-जैसे मैं प्रत्येक नए दिन की शुरुआत करती हूं, मैं अपने साथ संजॉय घोष की गहन विरासत लेकर चलती हूं, जो विकास के क्षेत्र में एक महान स्तंभ हैं।” style=”style-2″ align=”center” color=”” author_name=”” author_job=”” author_avatar=”” author_link=””][/bs-quote]

इसी अवधि के दौरान मुझे संजॉय के ग्रामीण प्रबंधन संस्थान आनंद (आईआरएमए) के उद्घाटन बैच से स्नातक होने के बाद उनके द्वारा उर्मूल ट्रस्ट की स्थापना के बारे में पता चला। इसके अतिरिक्त उनके मासिक कॉलम, जिसका उपयुक्त शीर्षक विलेज वॉयस था, को इंडियन एक्सप्रेस के सम्मानित पन्नों में जगह मिली थी। संगठन की तत्कालीन सीईओ अंशु मेशैक ने मुझे संजॉय के ज्ञानवर्धक लेखों की कतरनों से भरी एक मोटी फाइल भेंट की। प्रत्येक पृष्ठ से पुरानी यादों की सुगंध निकलती मिली, जो बीते युग का सार समेटे हुए था, जिसे शब्दों के दायरे में वाक्पटुता से उकेरा गया था। उनके लेखन में एक दुर्लभ गुण था – एक स्पष्टता जिसे हर कोई समझ सकता था। लेख मुख्य रूप से ग्रामीण आबादी द्वारा अनुभव की गई कठोर वास्तविकताओं के इर्द-गिर्द घूमते हैं, उनके साथ होने वाले भेदभाव और समाज की मुख्यधारा से उनके दुर्भाग्यपूर्ण अलगाव को उजागर करते हैं।

जैसे-जैसे मैं उनके काम की गहराई में उतरती गई, मेरे भीतर एक ऐसे व्यक्ति के प्रति गहरा सम्मान और स्नेह बढ़ गया, जिसके बारे में मैं जानती थी कि मैं उनसे कभी नहीं मिल पाउंगी। मेरे जाने बिना मैं खुद को उनकी तस्वीर का अभिवादन करते हुए मौन संवाद में उन्हें सुबह और रात की शुभकामनाएं देते हुए पाती हूं। मेरी मुस्कराहट उनकी ही मुस्कराहट को प्रतिबिंबित करती हैं। जब मेरा पहला संपादित लेख एक राष्ट्रीय समाचार पत्र में प्रकाशित हुआ, तो मैं सहज रूप से उनकी तस्वीर की ओर मुड़ी और अपनी प्रसन्नता साझा की। बदले में उनकी दीप्तिमान मुस्कान मेरी ओर लौट आई। कारगिल में युवाओं के लिए चरखा द्वारा आयोजित एक सूत्रधार के रूप में मेरी उद्घाटन लेखन कार्यशाला के बाद मैंने शंकर सर और अंशू मैम को गले लगाया साथ ही उस पल में संजॉय की मुस्कान मेरी स्मृति में बनी रही।

इस प्रकार एक अनुष्ठान शुरू हुआ। अपनी खुशियाँ और जीत उनके साथ साझा करना, चुनौतियों और असंतोष का सामना करने पर मार्गदर्शन प्राप्त करना। वह बस आश्वासन के एक मौन प्रतीक के रूप में मुस्करा देते हैं। इन वर्षों में (2011 से 2015 तक) चरखा में मेरे कार्यकाल में जॉय के जीवन की गहरी समझ शामिल थी, जो कुछ चुनिंदा लोगों द्वारा साझा की गई कहानियों के साथ-साथ उनके दोस्तों और परिवार द्वारा लिखे गए लेखों के माध्यम से हासिल की गई थी। 2014 में शंकर सर के दुर्भाग्यपूर्ण निधन और 2015 में अंशू मैम के चरखा से अलग होने के फैसले के बाद मैंने जबरदस्त भावनाओं की लहर महसूस की और अपने पूर्णकालिक पद से इस्तीफा देने का कठिन विकल्प चुना। हालांकि, मैं एक सलाहकार के रूप में काम करती रही। अपने सहयोगी उपनिदेशक मारियो नोरोन्हा के साथ मिलकर काम करते हुए नए रास्ते भी तलाशती रही, लेकिन मेरा मन चरखा से जुड़ा रहा। विकास क्षेत्र में मेरे शैक्षणिक प्रशिक्षण की कमी के कारण प्रेरणा की लौ कम होती दिख रही थी। कुछ महीनों का विश्राम लेते हुए मैंने खुद को ‘विकास’ के सैद्धांतिक आयामों में डुबो दिया और अपनी धारणाओं को जमीनी हकीकत के साथ जोड़ने की कोशिश की।

यह भी पढ़ें…

तर्क संगत, न्याय संगत, कल्याण संगत समाज बनाने का ख्वाब बुन गए संजीव

इस परिवर्तनकारी अवधि के दौरान मैंने चरखा द्वारा सामना की जाने वाली कठिन परीक्षाओं से अवगत होते हुए मारियो सर के साथ संपर्क बनाए रखा। 2019 में मैं मारियो सर के साथ दूर से ही सही, फिर से जुड़कर चरखा में लौट आई। साथ में 2020 में हमने प्रोग्राम डिजाइनिंग में मेरी नई विशेषज्ञता और जोखिम को स्वीकार करने और नवीन रणनीतियों को अपनाने की उत्सुकता का लाभ उठाते हुए नई परियोजनाओं को डिजाइन करना शुरू किया। हालांकि कोविड महामारी के उद्भव ने हमारी योजनाओं को बाधित कर दिया, जिससे चरखा के नए कार्यालय में मेरी यात्रा में अगस्त 2020 तक की देरी हो गई। मुझे निराशा हुई जॉय की तस्वीर कहीं नहीं मिली। हमेशा सांत्वना देने वाले मारियो सर ने मुझे आश्वासन दिया कि लॉकडाउन के दौरान कांच का फ्रेम गिर गया था, लेकिन जल्द ही ठीक हो जाएगा। तस्वीर को हाथ में लेते हुए इसका टूटा हुआ कांच एक मार्मिक रूपक है। मैं जॉय को देखकर मुस्कराई, मेरी वापसी की पुष्टि की और उनकी अटूट उपस्थिति के लिए अपना आभार व्यक्त किया। कोविड की दूसरी लहर के दौरान लगाए गए लॉकडाउन ने हमारे अलगाव को और गहरा कर दिया। अप्रैल 2021 में कोविड-19 से मारियो सर की मृत्यु से चरखा एक बार फिर अनाथ हो गया। अपनी एमफिल की पढ़ाई बीच में छोड़कर मैंने अकादमिक क्षेत्र को त्यागने और खुद को पूरी तरह से चरखा का समर्थन करने के लिए समर्पित करने का दृढ़ निर्णय लिया।

मेरे पास यह सुनिश्चित करने के लिए एक युवा टीम थी कि हम एक साथ मिलकर इससे निपटेंगे। मुझे चरखा के बोर्ड का समर्थन प्राप्त था, फिर भी मारियो सर की अनुपस्थिति ने मुझे अकेलापन महसूस कराया। मारियो सर के बाद चरखा की जिम्मेदारी संभालते हुए मैंने जॉय की तस्वीर से आशीर्वाद माँगा। टूटे हुए शीशे की मरम्मत करवाई और चित्र को सावधानीपूर्वक दीवार पर दोबारा स्थापित किया। संजॉय के साथ मुस्कराहट के आदान-प्रदान का सिलसिला फिर शुरू हो गया। जब भी मैं खुद को उलझनों में फंसी हुई महसूस करती, आगे के रास्ते को लेकर अनिश्चित होती, तो मैं जॉय से अपना जादू चलाने के लिए प्रार्थना करती और चमत्कारिक रूप से वह ऐसा कर भी देते हैं। आज चरखा में हमारा काम और कार्य क्षेत्र विकसित हुआ है, जिसमें गतिशील शक्ति और रणनीतिक कौशल की विशेषता की ज़रूरत होती है और ऐसे समय में संजॉय की दूरदर्शी भावना मार्गदर्शक के रूप में हमारे साथ होती है।

यह भी पढ़ें…

पीड़ा और संघर्ष की अथक दूरी पार कर स्त्री चेतना की नायिका बनीं संगीता कुशवाहा

पिछले कुछ वर्षों में मुझे ऐसे व्यक्तियों से मिलने का सौभाग्य मिला है, जो जॉय से घनिष्ठ रूप से परिचित थे। वह सभी मुझे बताते हैं कि एक सच्चे गांधीवादी होने के नाते संजॉय को प्रेम और अहिंसा में अटूट विश्वास था, जिसने उन्हें बदलाव के अपने मिशन पर चलने के लिए मजबूर किया। यहां तक कि उस दौरान असम के माजुली में फैली प्रतिकूल परिस्थितियों और हिंसा के बावजूद भी वह दृढ़ संकल्पित रहे, यह जानते हुए कि परिवर्तन का मार्ग उनकी अटूट प्रतिबद्धता में निहित है। हालांकि, इस प्रयास में उन्हें अपनी जान गंवानी पड़ी, लेकिन मैं यह समझे बिना नहीं रह सकती कि मौका मिलने पर वह एक बार फिर प्रेम और अहिंसा के रास्ते पर चलेंगे। यह अदम्य भावना ही है जो मेरी अपनी यात्रा को ऊर्जा देती है।

कभी-कभी, थकान, हताशा, अकेलापन और सूनापन मुझे घेरते हैं, फिर भी उन क्षणों में मैं जॉय की तस्वीर की ओर देखती हूं, जो वहां मुस्करा रहे होते हैं। कह रहे हों- सब कुछ ठीक हो जाएगा। जॉय मेरे गुरु हैं, उनकी सदैव प्रेरणादायक मुस्कान मुझे आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती है। उनकी 26वीं पुण्यतिथि पर मैं जॉय के जीवन के उन अंशों पर विचार करती हूं, जो मेरे अस्तित्व में रचे-बसे हैं। कुछ कहानियां मेरे दिल में बसी हुई हैं, जबकि कुछ रास्ते में खो गई होंगी। जैसे-जैसे मैं प्रत्येक नए दिन की शुरुआत करती हूं, मैं अपने साथ संजॉय घोष की गहन विरासत लेकर चलती हूं, जो विकास के क्षेत्र में एक महान स्तंभ हैं। अटूट दृढ़ संकल्प के साथ मैं चरखा के भविष्य को इस तरह से आकार देने का प्रयास करती हूं, जो जॉय के दृष्टिकोण के अनुरूप हो। इस यात्रा में जॉय करुणा की स्थायी शक्ति के लिए एक वसीयतनामा के रूप में कार्य करते हैं, जो मुझे पल-पल याद दिलाते हैं कि सब कुछ ठीक होने वाला है।

लेखिका चरखा की सीईओ हैं।

गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें