Tuesday, April 16, 2024
होमसंस्कृतिसाहित्यसम्यक संस्कृति साहित्य संघ के बैनर तले हाशियाकृत समाज विषय पर गोष्ठी...

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

सम्यक संस्कृति साहित्य संघ के बैनर तले हाशियाकृत समाज विषय पर गोष्ठी संपन्न

11 दिसंबर, 2021 को सम्यक संस्कृति साहित्य संघ, अलीगढ़ (उत्तर प्रदेश) के बैनर तले सूरजपाल चौहान साहित्य सृजन सम्मान समारोह व साहित्य में हाशियाकृत समाज विषय पर गोष्ठी का आयोजन अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के ओल्ड बॉयज एसोसिएशन सभागार में किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता अजय बिसारिया  ने और संचालन आर एस आघात ने किया। कार्यक्रम […]

11 दिसंबर, 2021 को सम्यक संस्कृति साहित्य संघ, अलीगढ़ (उत्तर प्रदेश) के बैनर तले सूरजपाल चौहान साहित्य सृजन सम्मान समारोह व साहित्य में हाशियाकृत समाज विषय पर गोष्ठी का आयोजन अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के ओल्ड बॉयज एसोसिएशन सभागार में किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता अजय बिसारिया  ने और संचालन आर एस आघात ने किया। कार्यक्रम का आरंभ पंचशील व त्रिशरण से डा. विष्णुकांत अशोक द्वारा कराया गया। सूरजपाल चौहान साहित्य सृजन सम्मान – 2021 के लिए चयनित लेखकों में संतोष पटेल जी को सम्मान प्रमाण पत्र ,शील्ड व शाल अजय बिसारिया द्वारा भेंट किया गया ।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कवि और आलोचक डॉ. राकेश कबीर उद्बोधन देते हुए

 डॉ. राजकुमारी को डॉ. शगुफ्ता नियाज़ द्वारा सम्मानित किया गया। आंध्र प्रदेश से आए डॉ. रवींद्रनाथ पैडाला को डॉ. विष्णुकांत अशोक व प्रो. शंभूनाथ तिवारी द्वारा सम्मानित किया गया।
सुनील पंवार को डॉ. शंकर लाल एवं प्रो डॉ. विजेंद्र प्रताप सिंह द्वारा सम्मानित किया गया। सज्जन क्रांति को आर एस आघात तथा डॉ. विजेंद्र प्रताप सिंह द्वारा स्मृति चिन्ह व शाल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया।  (एडीएम सिटी,अलीगढ़) रहे। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता डॉ. मंसूर अहमद  रहे। अन्य वक्तागणों में डॉ. शगुफ्ता नियाज़, प्रो शंभूनाथ तिवारी, डॉ. शंकर लाल व डॉ. विष्णुकांत अशोक उपस्थित रहे।

भोजपुरी कवि और लेखक संतोष पटेल सूरजपाल चौहान साहित्य सृजन सम्मान – 2021 से सम्मानित होते हुए

कार्यक्रम में डॉ. विजेंद्र प्रताप सिंह  द्वारा संपादित थर्ड जेंडर पर लघु कहानी संग्रह का विमोचन उपस्थित अतिथियों द्वारा किया गया तथा डॉ. राजकुमारी के द डार्केस्ट डेस्टिनी (उपन्यास) का विमोचन भी कार्यक्रम के दौरान किया गया। सभी सम्मानित अतिथियों का सम्यक संस्कृति साहित्य संघ, अलीगढ़ की टीम द्वारा स्मृति चिन्ह व ज्योतिबाराव फुले जी द्वारा लिखित गुलामगीरी पुस्तक का हिंदी संस्करण सप्रेम भेंट दिया गया। सभी सम्मानित प्रतिभागी लेखकों ने अपनी रचनाओं के माध्यम से उपस्थित श्रोताओं का मन मोह लिया। बेटियों पर आधारित डॉ. विष्णुकांत अशोक की रचना व सज्जन क्रांति की भीम मिशन रचना ने सभी को ताली बजाने पर विवश कर दिया। अध्यक्षीय उद्बोधन  में अजय बिसारिया जी ने सम्यक संस्कृति साहित्य संघ, अलीगढ़ के इस कदम को भूरि-भूरि प्रशंसा की ।
 कार्यक्रम के अंत में धन्यवाद ज्ञापन आर एस आघात ने किया। कार्यक्रम में महत्वपूर्ण सहयोग करने वाले अकरम हुसैन,विपिन कुमार, जय बच्चन, हिमाशु कुमार, पूर्णा राज, कमर अली, रुखसत, अफसाना, नाजिया आदि सभी को समिति द्वारा प्रशस्ति पत्र भेंट किए गए ।
गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें