Tuesday, April 16, 2024
होमविचारराजाजी की निकलती सवारी…!

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

राजाजी की निकलती सवारी…!

लीजिए, अब इन विरोधियों को राजाजी की सवारी निकलने पर ही आब्जेक्शन है। और कुछ नहीं मिला, तो लगे मणिपुर में आग लगने का बहाना बनाने। कह रहे हैं कि मणिपुर जल रहा है और कहां राजाजी बंगलुरु में अपनी सवारी निकलवा रहे हैं? यानी मणिपुर जल रहा है, इसलिए राजाजी अपनी सवारी भी नहीं […]

लीजिए, अब इन विरोधियों को राजाजी की सवारी निकलने पर ही आब्जेक्शन है। और कुछ नहीं मिला, तो लगे मणिपुर में आग लगने का बहाना बनाने। कह रहे हैं कि मणिपुर जल रहा है और कहां राजाजी बंगलुरु में अपनी सवारी निकलवा रहे हैं? यानी मणिपुर जल रहा है, इसलिए राजाजी अपनी सवारी भी नहीं निकालें! मोदीजी के विरोधी हैं, तो क्या इसका मतलब है कि कुछ भी कहेंगे? सोचने की बात है कि मणिपुर वाकई जल रहा है और प्रेस स्वतंत्रता के मामले में कुल एक सौ अस्सी देशों में एक सौ 61वें नंबर पर पहुंचने के बाद भी हमारा मीडिया दिखा रहा है, तो जरूर वहां कुछ तो चल रहा होगा; तो भी इसमें राजा जी क्या कर सकते हैं? वह देश के राजा हैं, मणिपुर-वणिपुर के थोड़े ही हैं। वैसे भी राजाजी को बखूबी पता है कि विरोधियों के मणिपुर-मणिपुर करने में, मणिपुर के जलने की चिंता-विंता बिल्कुल नहीं है। ये तो यही चाहते हैं कि बंगलुरु में सवारी निकालना छोड़कर, राजाजी मणिपुर चले जाएं और बाद में इन्हें इसका शोर मचाने के लिए वीडियो वगैरह मिल जाएं कि जब मणिपुर जल रहा था, तब राजाजी ढोल बजा रहे थे। समझते हैं कि राजाजी बाकी सब छोड़-छाडक़र, इतना खर्चा कर के जब मणिपुर तक जाएंगे, तो और कुछ तो शायद नहीं कर पाएं, पर शहरों को जलता देखकर, कम से कम ढोल तो जरूर बजाएंगे! नीरो की तरह वाइलन जैसा विदेश साज बजाने की, हमारे स्वदेशवादी राजाजी से उम्मीद तो विरोधी भी नहीं करते हैं।

लेकिन, इससे कोई यह नहीं सोचे कि राजाजी नीरो कहलाने से डरकर, मणिपुर जाने की जगह, बंगलुरु की सडकों पर ही अपनी सवारी निकाल रहे हैं। अपने राजाजी डर कर कुछ भी करने वालों में से नहीं हैं। न नीरो कहलाने से डरते हैं और न हिटलर-विटलर कहलाने से। छप्पन इंच की छाती दिखाने को थोड़े ही रखायी है। पर इसका मतलब यह हर्गिज नहीं है कि वह चुनाव की सोचकर बंगलुरु में अपनी सवारी निकाल रहे हैं। बेशक, राजाजी सवारी निकाल रहे हैं। घंटों-घंटों की सवारी निकाल रहे हैं। एक नहीं, दो-दो दिन सवारी निकाल रहे हैं। शहर में बाकी सब कुछ ठप्प कर के सवारी निकाल रहे हैं। हाउसिंग सोसाइटी वालों को तालों में बंद कर के, छतों और बालकनियों वगैरह से दर्शन करने की मनाही कर के, शहर में अपनी सवारी के अलावा बाकी सब का चलना बंदकर के भव्य सवारी निकाल रहे हैं। पर इसलिए नहीं कि उन्हें चुनाव की परवाह है। डेमोक्रेसी के राजा हुए तो क्या हुआ, अपने राजाजी किसी चुनाव-वुनाव की परवाह नहीं करते। राजा होकर भी फकीर हैं। किसी भी दिन झोला उठाकर चलने को तैयार। बस पब्लिक ही है कि उनका झोला छोड़ती नहीं है और राजाजी भी पब्लिक का दिल नहीं तोड़ सकते हैं। दिल बड़ा मोम वाला है जी!

जी हां, बंगलुरु की पब्लिक का दिल रखने के लिए ही राजाजी, दिन-दिन भर सवारी निकाल रहे हैं। घंटों-घंटों, हंस-हंसकर, कभी हाथ हिलाकर, तो कभी हाथ जोड़कर सवारी निकाल रहे हैं। पर बंगलुरु में तो सिर्फ उनका तन है, मन तो सैकड़ों किलोमीटर दूर मणिपुर में है। पर तन के मन से बिछुड़ने की दारुण पीड़ा सहन कर रहे हैं, तो किस की खातिर – बंगलुरु वाली प्रजा की खातिर। राजाजी की सवारी नहीं निकलती या मणिपुर के जलने के चक्कर में कैंसल हो जाती, तो बंगलुरु की प्रजा को कितना दु:ख होता। राजाजी की तस्वीर सिर्फ टीवी पर देखकर, उनके बोल-बचन सिर्फ रेडियो-वेडियो पर सुनकर, प्रजा कब तक काम चलाती। आखिर, प्रजा को अपने राजा जी का प्रत्यक्ष रूप से दर्शन करने का भी तो अधिकार है। और जब कर्नाटक में ही बाकी सब जगह की प्रजा को राजाजी के दर्शन कर के धन्य होने का मौका मिला हो तो, बंगलुरु वालों को ही कैसे इस कृपा से वंचित किया जा सकता है। उनके साथ क्या यह भेदभाव नहीं होता? कहते हैं कि भेदभाव की आशंकाओं के ही चक्कर में तो मणिपुर जल रहा है।

यह भी पढ़ें…

राम के सहारे विध्वंसक राजनीति

और बंगलुरु वालों की निराशा तो देखी भी जाती, पर उन फूल वालों की रोजी-रोटी का क्या होता, जिनके टनों फूल राजा जी की सवारी पर बरसाए जाते हैं। सवारी नहीं, तो फूलों की बिक्री नहीं। फूलों की बिक्री नहीं, तो फूल कारोबारियों से लेकर, फूल उगाने वालों तक के घर में रोटी या चावल नहीं। खरीददार नहीं होते तो फूल तोड़े तक नहीं जाते, यूं ही खेतों-क्यारियों में खड़े-खड़े सूख जाते। और फूल भी ऐसे-वैसे नहीं, गेंदे के फूल। गेंदे के फूल जो, हर शुभ कार्य में लगते हैं। गेंदे के फूल जो देवी-देवताओं की पूजा में लगते हैं। गेंदे के फूल जो सबसे ज्यादा बजरंग बली की मूर्ति पर चढ़ते हैं। उस समय जब बजरंग दल पर रोक लगाने की बात कहकर, सेकुलरिस्ट बजरंग बली का अपमान कर रहे हैं, बजरंग बली के प्रिय गेंदा फूल का अपमान, राजाजी कैसे हो जाने देते? इसीलिए, राजाजी ने अपने मन को यह कहकर समझा लिया कि बजरंग बली के गेंदे का अपमान, नहीं सहेगा हिंदुस्तान; और सवारी की अपनी गाड़ी में तन के पीछे वाली सीट पर मन को भी बैठा लिया। मणिपुर का भी देखा जाएगा, पर कर्नाटक के चुनाव के बाद।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें