Sunday, May 26, 2024
होमविचारश्रमिकों की सकुशल वापसी तो हो गई है पर अभी भी अनुत्तरित...

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

श्रमिकों की सकुशल वापसी तो हो गई है पर अभी भी अनुत्तरित हैं बहुत से सवाल

उत्तराखंड में उत्तरकाशी के पास सिल्कयारा सुरंग में फंसे 41 श्रमिकों की सुरक्षित वापसी पूरे देश के लिए अत्यंत संतोष की बात है। पिछले 17 दिनों से बचाव अभियान में शामिल सभी लोगों को धन्यवाद। कहानी भयावह रही लेकिन जिस तरह से हमने मुस्कुराते हुए श्रमिकों को बाहर आते देखा, वह सभी बाधाओं के बावजूद […]

उत्तराखंड में उत्तरकाशी के पास सिल्कयारा सुरंग में फंसे 41 श्रमिकों की सुरक्षित वापसी पूरे देश के लिए अत्यंत संतोष की बात है। पिछले 17 दिनों से बचाव अभियान में शामिल सभी लोगों को धन्यवाद। कहानी भयावह रही लेकिन जिस तरह से हमने मुस्कुराते हुए श्रमिकों को बाहर आते देखा, वह सभी बाधाओं के बावजूद उनकी ऊर्जा के स्तर को दर्शाता है। हां, एक वाक्य में, ये धरती के पुत्र हैं, जो हमारे जीवन को बेहतर बनाने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं।

यहां तीन मुद्दे शामिल हैं। पहला सरकार की ओर से लोगों को बचाने के लिए उठाए गए कदम, जिससे  मजदूरों की जान बच सकी।  हमें उन लोगों को पूरा श्रेय देना चाहिए जो इस बचाव एवं राहत कार्य में शामिल थे। सरकार की सभी एजेंसियों ने इस कठिन कार्य को बड़ी मेहनत के साथ किया। सरकार फंसे हुए मजदूरों के परिवारों को यह संकेत देने में सफल रही कि उसे मजदूरों की जान की परवाह है और वह उनकी जान की रक्षा के लिए हर संभव प्रयास करेगी।  हर सरकार या पार्टी ऐसा करती है और अब इस ऑपरेशन की सफलता का सारा श्रेय सरकार ही लेगी। इसलिए इसमें शामिल सभी लोगों को बधाई।

दूसरा और महत्वपूर्ण मुद्दा इस ऑपरेशन में लगी कंपनी का है। जो अब तक नजरों से दूर और जांच से बाहर रही है। इन्हें ठेका किसने दिया और ये किसकी कंपनी है? क्या इसने उस क्षेत्र में सुरंग बनाने के मानदंडों का उल्लंघन किया है जहां एक सुरक्षित मार्ग पहले से तैयार किया गया हो। क्या इस कंपनी की जवाबदेही तय होगी ?

तीसरा और सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा नीति स्तर का निर्णय है। जिसे लेकर यह सवाल उठता है कि ‘कब तक हिमालय को लूटोगे?’ क्या सरकार और उसके सलाहकार कभी हिमालय की सुचिता बनाए रखने के बारे में सोचेंगे? जबकि वह जानते हैं कि  प्रकृति पर विजय का दावा नहीं कर सकते, इसलिए बेहतर होगा कि हिमालय को वश में करने का प्रयास न करें। यदि आपको लगता है कि आपकी बड़ी मशीनें और विशेषज्ञ हिमालय को वश में कर सकते हैं तो आप बहुत ग़लत हैं। दिन के अंत में, यह चूहे खनिक ही थे जो हमें अंतिम ‘जीत’ तक ले गए। ऐसा लगता है कि सरकार ने अभी भी हिमालय में आने वाली विभिन्न आपदाओं से सबक नहीं लिया है। इस साल उत्तराखंड में भयानक बारिश, भूस्खलन, बादल फटना और बाढ़ तो आई लेकिन हिमाचल की बारिश से पैदा हुए अभूतपूर्व संकट के शोर में यह सब गुम हो गया। तथ्य यह है कि हिमाचल में भी जो भारी तबाही हुई है, वह पूरी तरह से ‘प्राकृतिक’ नहीं है, बल्कि पूरी तरह से कंक्रीटीकरण प्रक्रिया और विभिन्न जलविद्युत परियोजनाओं के निर्माण का परिणाम है, जिसे हम ठीक से प्रबंधित करने में असमर्थ हैं। लालच में ‘विशेषज्ञों’ को लगता है कि उत्तराखंड जैसे राज्य जल विद्युत परियोजनाओं की अपनी अधिकतम क्षमता का उपयोग करने में सक्षम नहीं हैं और सरकार को बड़ी परियोजनाओं पर जाने की सलाह दे रहे हैं। चारधाम हाईवे अभी तक पूरा नहीं हुआ है और ज्यादातर समय सड़कें पहाड़ों को ‘थका’ रही हैं। हम सभी को अच्छी सड़कों की जरूरत है लेकिन हमें हिमालयी क्षेत्रों की नाजुकता को भी समझना होगा। उत्तरकाशी क्षेत्र से परिचित कोई भी व्यक्ति इस बात की पुष्टि करेगा कि यह कितना संवेदनशील है। हमारी सड़कों को आरामदायक बनाने से कोई इनकार नहीं कर सकता, लेकिन यह भी देखना होगा कि हम ‘लोगों’ को कितनी सहूलियत देना चाहते हैं। इस क्षेत्र को धार्मिक पर्यटकों से भरने का प्रयास न करें, जो अंततः विनाश लाएगा। केदारनाथ जैसी छोटी जगह, जहां एक समय में पांच हजार लोग बहुत बड़ी संख्या है, लाखों लोगों की मेजबानी कर रही है। क्या इससे पवित्र क्षेत्रों को नुकसान नहीं पहुंचेगा? आप लोगों की दैनिक जरूरतों को कैसे पूरा करेंगे? ‘सीवेज’ व्यवस्था कहां है?

स्थानीय लोगों के साथ क्या हो रहा है, इसकी हमें कोई परवाह नहीं है। 2013 की केदारनाथ त्रासदी के बाद विकासात्मक परियोजनाएं बढ़ी हैं और आपदाएं भी। 2021 में रैणी-तपोवन क्षेत्र, विशेषकर ऋषिगंगा-धौलीगंगा संगम पर आई आपदा ने प्रकृति की ताकत को फिर से दिखाया है, जब पूरी जल विद्युत परियोजना बह गई, इसके अलावा कई सौ श्रमिकों की जान चली गई, जो ज्यादातर उत्तराखंड के बाहर थे। जोशीमठ और उत्तराखंड के कई अन्य शहर खतरे में हैं। अब तक बहुत कुछ नहीं किया गया है। कुछ महीनों के बाद हम चीजें भूल जाते हैं।

हम नीति नियोजकों से अनुरोध करते हैं कि वे हिमालय की सभी परियोजनाओं के बारे में गंभीरता से सोचें। हिमालय और उसकी सभी पूजी जाने वाली पवित्र नदियों की गरिमा, पवित्रता और शांति बनाए रखें। हमारी धरोहरों को नष्ट न करें, इन्हीं से उत्तराखंड क्षेत्र की पहचान है।

आंकड़ों से यह भी पता चलता है कि उत्तराखंड की परियोजनाएं अब तक स्थानीय लोगों को कोई रोजगार नहीं दे रही हैं। चाहे तपोवन हो या सिल्क्यारा सुरंग, काम करने वाले अधिकांश कर्मचारी और मजदूर राज्य के बाहर के हैं जो दर्शाता है कि कंपनियां स्थानीय लोगों पर कैसे भरोसा नहीं करती हैं और अपना काम कराने के लिए बाहरी लोगों को लाती हैं।

गुलाम मीडिया हर त्रासदी को एक घटना में बदल देता है और उन घटनाओं पर ध्यान केंद्रित करता है ताकि लोग हिमालय की सुरक्षा और संरक्षण के वास्तविक मुद्दे पर चर्चा न करें। चूंकि बचाव अभियान सफल हो गया है और इस कार्य को करने के लिए दिन-रात काम करने वाले सभी लोगों को धन्यवाद, अब समय आ गया है कि सरकार गंभीरता से विचार करे और हिमालयी क्षेत्र में सभी परियोजनाओं के ऑडिट का आदेश दे।

मुझे आज भी इस ‘विकास’ के बारे में दिग्गज गिर्दा की चेतावनी याद आ रही है। वह दूरदर्शी थे। वह आज भी हमें हिमालय और विकास की याद दिलाते हैं। गिर्दा अपनी कविता में कहते हैं-

एक तरफ टूटी बस्तियाँ – एक तरफ हो तुम।

एक तरफ डूबती कश्तियाँ – एक तरफ हो तुम।

एक तरफ हैं सूखी नदियाँ – एक तरफ हो तुम।

एक तरफ है प्यासी दुनियाँ – एक तरफ हो तुम।

अजी वाह! क्या बात है,

तुम तो पानी के विकल्प,

खेल प्रिय, तुम्हीं खिलाड़ी,

बिछी हुई ये बिसात विवाह,

सारा पानी चॉच रहे हो,

नदी-समंदर लूट रहे हो,

गंगा-यमुना की छाती पर

काँच-पत्थर का स्वाद ले रहे हो,

उफ़!! ये खुदगर्जी,

सिद्धार्थ कब तक ये मनमर्जी,

जिस दिन डोलगी ये धरती,

सर से निकलेगी सारी मस्ती,

महल-चौबारे बहो

खाली रखखड़ रह।।।

बूंद-बूंद को तरसोगे जब –

बोल व्योपारी – तब क्या होगा?

प्रतिक्रिया – उधारी – तब क्या होगा??

आज भले ही मौज-मस्ती लो,

नदियों को प्यासा टाला लो,

गंगा को निर्मल कर डालो,

लेकिन डोलेगी जब धरती – बोल व्योपारी – तब क्या होगा?

विश्व बैंक के लक्षण – तब क्या होगा?

योजनकारी – तब क्या होगा ?

प्रतिक्रिया-उकारी तब क्या होगा?

एक तरफ हैं सूखी नदियाँ – एक तरफ हो तुम।

एक तरफ है प्यासी दुनियाँ – एक तरफ हो तुम।

उत्तराखंड के जनकवि गिर्दा की ये ज्ञानपूर्ण बातें आज भी सबके लिए प्रासंगिक हैं। क्या हम कभी इन घटनाओं से सबक लेंगे ? हिमालय पर हमारा ध्यान होना चाहिए। वह हमें मंत्रमुग्ध करता है और हमें अत्यधिक आनंद देता है। हमारी सीमा के रूप में ये हमारे लिए खड़ा रहता है।  अब समय आ गया है कि हम इसकी ताकत का सम्मान करें और इसके खूबसूरत इलाकों का आनंद लें।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें