Friday, June 14, 2024
होमराज्यआजमगढ़ : दरियापुर गांव के लोग अंधेरे में रहने को मजबूर

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

आजमगढ़ : दरियापुर गांव के लोग अंधेरे में रहने को मजबूर

आजमगढ़। दरियापुर गांव आजमगढ़ जिले का एक ऐसा गांव है जिस गांव में आज तक बिजली नहीं पहुंच पायी है। हालांकि इस गांव में बिजली पहुंचाने के लिए सपा के विधायक कमलाकांत राजभर काफी प्रयासरत हैं और इसके लिए उन्होंने अपने विधायक निधि से फंड भी जारी कर दिया, लेकिन बिजली विभाग विद्युतीकरण में रूचि […]

आजमगढ़। दरियापुर गांव आजमगढ़ जिले का एक ऐसा गांव है जिस गांव में आज तक बिजली नहीं पहुंच पायी है। हालांकि इस गांव में बिजली पहुंचाने के लिए सपा के विधायक कमलाकांत राजभर काफी प्रयासरत हैं और इसके लिए उन्होंने अपने विधायक निधि से फंड भी जारी कर दिया, लेकिन बिजली विभाग विद्युतीकरण में रूचि नहीं दिखा रहा है। गांव में बिजली के खम्भे तो गिर गए हैं लेकिन उसके आगे का काम अभी भी रूका हुआ है।

दरियापुर गांव के लोगों ने सपा विधायक कमलकांत राजभर से गांव में बिजली न होने की बात बताई तो उन्होंने तुरंत इसके लिए बिजली विभाग को पत्र लिखा। उन्होंने पत्र में लिखा कि ग्रामिणों की परेशानी को देखते हुए जनहित में विद्युत पोल, तार, खम्भा के साथ ही 25 केवीए का ट्रांसफार्मर लगाया जाय। इसमें खर्च होने वाली धनराशि मेरे विधायक निधि से लिया जाय। सपा विधायक ने यह पत्र 14 अगस्त 2022 को लिखा था।

क्या कहते हैं लोग

उसके बाद से ग्रामीणों में एक आस जगी। तब से वे लगातार दरियापुर फूलपुर, आजमगढ़ और गद्दोपुर विद्युत सबस्टेशनों का चक्कर लगा रहे हैं। गांव में विद्युत के खम्भे तो गिर चुके हैं लेकिन अभी तक उसके आगे कम नहीं बढ़ रहा है। इस बाबत ग्रामीणों ने बताया कि खंभा दस गांवों में गिराया गया है। गांव के प्रधान विजय प्रकाश सवाल पुछने वाले अंदाज में  कहते हैं कि जब विधायक निधि से पैसा मिल गया और सामान भी आकर गिर गया है तो फिर विभाग वाले क्यों हीला हवाली कर रहे हैं समझ में नहीं आ रहा है। वे आगे कहते हैं सरकारी विभागों में सबसे बड़ी दिक्कत यही है कि  वे काम को अपने हिसाब से ही करेंगे चाहे कुछ भी हो जाय।

पूर्व प्रधान तारिक कहते हैं कि बिजली विभाग के काम करने का यही तरीका ही है। वे आगे कहते हैं कि इस बारे में जब बिजली विभाग में जाइए तो कहते हैं कि टेंडर हो गया है। जल्द ही काम भी शुरू हो जाएगा। इतना समय बीत गया लेकिन गांव वालों को अभी तक बिजली मयस्सर नहीं हुई।

इस बाबत जब उपखण्ड अधिकारी विद्युत फूलपुर विनोद कुमार से बात की गई तो उन्होंने बताया कि जिस रास्ते में खंभा लगना है और जिस जगह का इस्टीमेट बना है उस रास्ते में ग्रामीण लाइन बनाने और खंभा लगाने में रूकावट पैदा कर रहे हैं। ग्रामीणों को हम मनाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। हमें उम्मीद है कि जल्द ही गांव के लोग हमारी बात को समझ जाएंगे और बिजली के इस काम में खलल डालने के बजाय हमारा सहयोग करेंगे।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें