Sunday, May 26, 2024
होमविविधवाराणसी : लैंगिक असमानता की दूरी कम करने के लिए आयोजित हुई...

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

वाराणसी : लैंगिक असमानता की दूरी कम करने के लिए आयोजित हुई कार्यशाला

काशी विद्यापीठ सभागार में ट्रांसजेंडर सेल काशी विद्यापीठ और बनारस क्वीर प्राइड, वाराणसी के संयुक्त तत्वाधान में  एक दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमे  फिल्म प्रदर्शन, नाटक और  ट्रांसजेंडर (एलजीबीटी) समुदायों की पारिवारिक, सामाजिक, आर्थिक एवं राजनैतिक समस्यायों पर गहन चर्चा की गई।  इस राष्ट्रीय कार्यशाला में महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ, काशी हिंदू […]

काशी विद्यापीठ सभागार में ट्रांसजेंडर सेल काशी विद्यापीठ और बनारस क्वीर प्राइड, वाराणसी के संयुक्त तत्वाधान में  एक दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमे  फिल्म प्रदर्शन, नाटक और  ट्रांसजेंडर (एलजीबीटी) समुदायों की पारिवारिक, सामाजिक, आर्थिक एवं राजनैतिक समस्यायों पर गहन चर्चा की गई।  इस राष्ट्रीय कार्यशाला में महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ, काशी हिंदू विश्वविद्यालय एवं विद्यापीठ से सम्बद्ध महाविद्यालयों के विद्यार्थी, शिक्षक, बुद्धिजीवी, सामाजिक कार्यकर्ता और एलजीबीटी समुदाय की भागीदारी रही।

इस कार्यशाला में ट्रांसजेंडर (एलजीबीटी) समुदाय के सामने आने वाली चुनौतियों, संवैधानिक अधिकार और कानून की सविस्तार जानकारी दी गयी।
जेंडर क्या है? जेंडर आधारित हिंसा क्या है? यौनिकता और मानसिक स्वास्थ्य क्या हैं? और ये सभी मुद्दे किस प्रकार से आपस में जुड़े हुए हैं? जैसे जरूरी सवालों पर समझ बनाने के उद्देश्य से इस कार्यशाला का आयोजन किया गया था। इस कार्यशाला में  हमसफर संस्था, लखबऊ से आए नॉन बाइनरी ट्रांसजेंडर ऋत्विक ने समुदाय के अब तक के संघर्षों और उससे मिले कानूनी अधिकार की बात करते हुए आज भी समाज द्वारा मिलने वाले नफ़रत, भेद भाव और तिरस्कार के मुद्दे पर विषद चर्चा की।

नई दिल्ली के दलित ट्रांसमैन  कबीर मान  ने जेंडर के शोषण और संघर्ष में दलित होने पर तकलीफ के दोगुने होने के आयाम पर बात रखी। प्रो. संजय पूर्व विभागाध्यक्ष एवं संकायाध्यक्ष, सामाज कार्य संकाय,  एवं समन्वयक, ट्रांसजेंडर सेल, महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ ने ट्रांसजेंडर सेल की स्थापना में माननीय कुलाधिपति एवं राज्यपाल उत्तर प्रदेश श्रीमती आनंदीबेन पटेल एवं कुलपति प्रो. आनंद कुमार त्यागी के योगदान एवं दूरदर्शी सोच पर प्रकाश डालते हुए बताया कि इस सेल का उद्देश्य अकादमिक संस्थानों को जेंडर संवेदनशील विशेषकर ट्रांसजेंडर विद्यार्थोयों हेतु इस संस्था के माहौल को संवेदनशील बनाना एवं एल जी बी टी  समुदाय के विद्यार्थियों के पंजीकरण को प्रोत्साहित करना है।साथ ही उनको कैरियर उन्मुखी एवं कुशल बनानें हेतु  कार्यशालाओं एवं प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन करना है।

कार्यशाला की माध्यम से लैंगिक असमानता की दूरी कम करने का प्रयास

जेंडर आइडेंटिटी नामक शार्ट फिल्म में जेंडर को सामाज द्वारा गढ़े गए विचार के रूप में समझाया गया। फिल्म ने प्रतिभागियों को महिला-पुरुष की दो ही श्रेणियों तक सीमित जेंडर की अवधारणा पर सवाल उठाने के लिए सोचने पर प्रोत्साहित की। फिल्म के बाद एक नाटक का मंचन भी हुआ। नाटक और फिल्म प्रदर्शन  पश्चात गहन चर्चा की गई। सेल के सह समन्वयक प्रो. अनुराग कुमार ने साहित्य में ट्रांसजेंडर के विषय पर किये जा रहे कार्यों पर प्रकाश डाला।

कार्यक्रम में  सेल की सदस्य प्रो. रेखा, विभागाध्यक्ष, समाज शास्त्र, प्रो. सुरेन्द्र राम – विभागाध्यक्ष, शिक्षा संकाय,  प्रो. शैलेन्द्र कुमार वर्मा पूर्व विभागाध्यक्ष, शिक्षा संकाय, प्रो. रमाकान्त सिंह,   श्रीमती ज्योत्सना आदि प्रमुख रहे।कार्यशाला में छात्रों के अतिरिक्त प्रिज्मैटिक फाउंडेशन, एशियन ब्रिज इण्डिया, उमाकांत सर्विस फाउंडेशन, वाई पी फाउंडेशन और दख़ल संगठन के सदस्यों की महती भूमिका रही। कार्यशाला के समापन के समय समुदाय के लोगों ने टैलेंट हंट नामक एक प्रस्तुति की। इस कार्यक्रम में समुदाय के लोग मंच पर सामने खड़े होकर नृत्य गीत आदि का प्रदर्शन किये। कार्यशाला का  संचालन शिवांगी  ने और धन्यवाद ज्ञापन प्रो. संजय ने किया।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें