Wednesday, May 22, 2024
होमविचार'अडानी इज़ भारत' के खिलाफ क्यों हो भाई!

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

‘अडानी इज़ भारत’ के खिलाफ क्यों हो भाई!

हर्षद मेहता के चवन्नी भर के घोटाले के बाद ऐसे घपलों को रोकने के लिए और ताकतवर बनाई गई स्टॉक एक्सचेंज को नियमित करने वाली सेबी को लकवा-सा क्यों मार गया है? प्याज न खाने वाली, देश की अर्थव्यवस्था का कचूमर बनाने वाली वित्तमंत्राणी 'मैं तो शेयर खरीदती नही, मुझे क्या!' की मुद्रा में हलुआ क्यों खा रही हैं? परिधानों के रंग और खाना खाने के ढंग पर आकाश पाताल एक कर देने वाले भक्तों में अडानी के भारत का पर्याय बन जाने के दावे पर सुरसुरी तक क्यों नहीं हुई?

देखा‚ मोदीजी के विरोधियों की एंटीनेशनलता आखिर खुले में आ ही गई। बताइए! अब इन्हें यह मानने में भी आपत्ति है कि अडानी की पोल-पट्टी खोलना‚ इंडिया के खिलाफ षड्यंत्र है। अडानी का नुकसान‚ इंडिया का नुकसान है। अडानी पर हमला‚ इंडिया पर हमला है। कह रहे हैं कि यह तो अडानी इज इंडिया वाली बात हो गई। देवकांत बरुआ ने फिर भी इंदिरा इज इंडिया कहा था‚ तब भी भारत ने मंजूर नहीं किया। अडानी इज इंडिया मानने का तो सवाल ही नहीं उठता है‚ वगैरह‚ वगैरह।

पर भैये, प्राब्लम क्या हैॽ अडानी को इंडिया ही तो कहा है‚ कोई पाकिस्तान-अफगानिस्तान तो नहीं कहा है। देशभक्त के लिए इतना ही काफी है। देशभक्त यह नहीं देखता है कि देश ने उसे क्या दिया है‚ वह तो इतना देखता है कि देश की भक्ति मेें वह क्या-क्या हजम कर सकता है! हजम करना मुश्किल हो‚ तब भी हजम कर लेता है। आखिर‚ देशभक्ति को तपस्या यूं ही थोड़े ही कहा गया हैॽ धोखाधड़ी को धोखाधड़ी‚ फर्जीवाड़े को फर्जीवाड़ा‚ ठगी को ठगी तो कोई भी कह देगा। असली देशभक्त तो वह है‚ जो ठगों की भीड़ में भी अपने देश के ठग को पहचाने और हाथ पकड़ कर कहे- ये हमारा है। देशभक्ति देश से की जाती है‚ ईमानदारी-वीमानदारी से नहीं। और हां! इंदिरा इज इंडिया को नामंजूर करने का उदाहरण तो यहां लागू ही नहीं होताॽ अव्वल तो इंदिराजी पॉलिटिक्स में थीं‚ उनका अडानीजी से क्या मुकाबलाॽ दूसरे‚ वो पुराने भारत की बात है और ये मोदीजी का नया इंडिया है। नये इंडिया में अडानी इज इंडिया बिल्कुल हो सकता है।

यह भी पढ़ें…

‘अडानी इज इंडिया’ के दावे पर इतना सन्नाटा क्यूँ है भाई?

नहीं, हम यह नहीं कह रहे कि नये इंडिया में मोदी इज इंडिया नहीं हो सकता है। फिर भी‚ अडानी इज इंडिया तो एकदम हो सकता है। बल्कि हम तो कहेंगे कि अमृतकाल में अगर मुगल गार्डन अमृत उद्यान हो सकता है‚ तो इंडिया दैट इज भारत‚ इंडिया दैट इज अडानी क्यों नहीं हो सकता है! एक बात और। कोई खिलाड़ी बाहर जाकर छोटा-मोटा पदक भी ले आए‚ तो उसके लिए इंडिया-इंडिया करने को सब तैयार रहते हैं। फिर‚ अडानी के लिए भक्तों का इंडिया-इंडिया करना कैसे गलत हैॽ वर्ल्ड में अरबपतियों की दौड़ में ब्रॉन्ज तो उन्होंने भी जीत कर दिखाया ही था।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें