‘सावित्रीबाई फुले उत्कृष्ट विद्यार्थी पुरस्कार-2021’ से सम्मानित हुईं आकांक्षा कुरील

‘राष्ट्र सेविका सावित्रीबाई फुले : जीवन एवं कार्य’ विषय पर राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता का आयोजन

0 364

मध्य प्रदेश। महिला अध्ययन विभाग एवं सावित्रीबाई फुले पीठ के संयुक्त तत्वावधान में डॉ. बीआर अम्बेडकर सामाजिक विज्ञान विश्वविद्यालय, डॉ. अम्बेडकर नगर, महू, इंदौर, (मध्य प्रदेश) की ओर से राष्ट्रमाता सावित्रीबाई फुले की 191वीं जयंती के उपलक्ष्य में राष्ट्रीय वेब परिसंवाद कार्यक्रम में ‘राष्ट्र सेविका सावित्रीबाई फुले : जीवन एवं कार्य’ विषय पर राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता का आयोजन हुआ। प्रतियोगिता में आकांक्षा कुरील ने ‘द्वितीय स्थान’ प्राप्त किया और विश्वविद्यालय ने प्रमाण-पत्र देकर ‘सावित्रीबाई फुले उत्कृष्ट विद्यार्थी पुरस्कार-2021’ से गौरवान्वित किया।

आज हम जब महिलाओं की स्थिति को देखते हैं तो वहीं पर हम पाते हैं कि वे जमीन से लेकर आसमान तक अपना परचम फहरा रही हैं। इसी स्थिति के कारण वे आज डॉक्टर, प्रोफेसर, वैज्ञानिक, राजनेत्री आदि बनकर समाज परिवर्तन कर रही हैं। ऐसे में आकांक्षा कुरील को ‘सावित्रीबाई फुले उत्कृष्ट विद्यार्थी’ जैसा पुरस्कार मिलने पर उनका समाज अपने-आप में गौरव महसूस कर रहा है।

बतादें, लखनऊ के मवई पड़ियाना में पली-बढ़ी आकांक्षा कुरील ने प्रारम्भिक शिक्षा गाँव से और उच्च शिक्षा विश्वविद्यालय से प्राप्त कर रही हैं। हाल ही में जेंडर स्टडीज विषय में स्नातकोत्तर पदवी का अध्ययन कर रही हैं। वे इस प्रतियोगिता में शामिल हुईं और पुरस्कार से सम्मानित की गईं। आकांक्षा इसका संपूर्ण श्रेय भारत की पहली महिला शिक्षिका राष्ट्रमाता सावित्रीबाई फुले, बाबासाहब डॉ. बीआर अम्बेडकर, छत्रपति शाहूजी महाराज, पेरियार, बिरसा मुंडा जैसे महापुरुषों और अपने माता-पिता, अपने जीवन साथी रजनीश कुमार अम्बेडकर व पारिवारिक सदस्यों को देती हैं।

आकांक्षा कुरील
आकांक्षा कुरील

राष्ट्रमाता सावित्रीबाई फुले का महिला सशक्तीकरण में महत्वपूर्ण योगदान रहा हैं। उनके द्वारा महिला शिक्षा और सशक्तीकरण को लेकर किया गया कार्य हमेशा याद किया जाएगा। उन्होंने विषम परिस्थितियों में समाज को एक नई दिशा दी। हमें उनके द्वारा बताए गए अनेक मार्गों को अपनाने की आवश्यकता है। आज हम जब महिलाओं की स्थिति को देखते हैं तो वहीं पर हम पाते हैं कि वे जमीन से लेकर आसमान तक अपना परचम फहरा रही हैं। इसी स्थिति के कारण वे आज डॉक्टर, प्रोफेसर, वैज्ञानिक, राजनेत्री आदि बनकर समाज परिवर्तन कर रही हैं। ऐसे में आकांक्षा कुरील को ‘सावित्रीबाई फुले उत्कृष्ट विद्यार्थी’ जैसा पुरस्कार मिलने पर उनका समाज अपने-आप में गौरव महसूस कर रहा है। इस अवसर पर प्रो. आशा शुक्ला (कुलपति, ब्राउस), प्रो. कुसुम त्रिपाठी, डॉ. सुनील कुमार ‘सुमन’, डॉ. सुरजीत कुमार सिंह, डॉ. मनोज कुमार गुप्ता, विजय कुमार वर्मा, जगतपाल, सियाराम भारती, शशिकला वर्मा, सत्यनारायण, प्रेम कुमार, ऋषभ कुमार, राजेंद्र कुमार, विकास चंद्र, सरिता सोनी, सिद्धांत प्रकाश, विपिन आनंद, मनोज कुमार, अंकिता कुरील, शौर्य कुमार, पुष्पेंद्र कुमार सिंह, रश्मि, प्रियंका, सारिका कुरील, रंजीत वर्मा, रमेश सिंह, सुमित भारती, श्वेता वर्मा, तनमय कुमार जैसे जाने-माने गुरुजनों, मान्यवरों और मित्रों की मौजूदगी रही।

रिपोर्ट : पुष्पेंद्र कुमार सिंह

Leave A Reply

Your email address will not be published.