1984 में दिल्ली के त्रिलोकपुरी में सिख विरोधी हत्याओं का एक चश्मदीद

3 770

जोसेफ मलियाकन एक अनुभवी पत्रकार हैंजिन्होंने उस समय इंडियन एक्सप्रेस के साथ काम किया था जब इंदिरा गांधी की हत्या के बाद दिल्ली जल रही थी। श्रीमती गांधी की 31 अक्टूबर, 1984 को दिल्ली में उनके सरकारी आवास पर उनके ही सुरक्षा गार्डों ने हत्या कर दी थीजो कि सिख थे। हालांकि यह घटना सुबह 9 बजे के आसपास हुईलेकिन देश को शाम 6 बजे तक बंद रखा गया और आकाशवाणी और दूरदर्शन पर केवल सितारवादन चल रहा था इसलिए अफवाहों का बाज़ार गर्म था। श्रीमती गाँधी की मृत्यु की आधिकारिक घोषणा शाम 6 बजे के  ऑल इंडिया रेडियो बुलेटिन में की गयी लेकिन तब तक दिल्ली में अफवाहें और वारदातें होने लगी थीं। हर सिख पर साजिश रचनेऔर संदिग्ध खालिस्तानी होने का आरोप लगाया गया। राज्य ने अपनी जिम्मेदारी पूरी तरह से छोड़ दी क्योंकि दिल्ली पुलिस निर्दोष सिखों और उनके इलाकों को निशाना बनाने में गुंडों का सक्रिय रूप से समर्थन कर रही थी। यह  स्वतंत्र भारत के बाद सबसे भयानक नरसंहारों में से एक था। पूर्वी दिल्ली में त्रिलोकपुरी में सिखों की एक घनी आबादी थीजिनमें अधिकांश गरीब और समाज के आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग थे। इस मोहल्ले को निशाना बनाया गया।

इंडियन एक्सप्रेस में पत्रकारों को हमारी रुचि की कहानियों को आगे बढ़ाने की पूरी आजादी थी। बेशक संपादक हमें कहानी के विचार और सुझाव देते थे। कुछ कहानियों को किसी न किसी आधार पर सेंसर करने का भी प्रयास किया गया लेकिन कुल मिलाकर हम पत्रकारों के पास अपना रास्ता था। आपातकाल के दौरान निभाई गई अपनी भूमिका के लिए इंडियन एक्सप्रेस प्रतिष्ठित बना रहा। 26 जून 1975 का खाली संपादकीय पृष्ठ आज भी हमें दोषसिद्धि की शक्ति की याद दिलाता है।

मीडिया के पास कोई सुराग नहीं था लेकिन वह साहसी जोसेफ मलियाकन ही थे जो उस जगह पर पहुंचे और इस भीषण अपराध को देखा। उनके संपादकों ने शुरू में बर्बरता और मौतों की भयावहता के कारण कहानी पर विश्वास करने से इनकार कर दिया थालेकिन वे अपनी रिपोर्ट पर कायम रहे।  इस प्रकार यह उस अवधि के दौरान सबसे अधिक पढ़ी जाने वाली खबरों में से एक बन गई। वह पहले और सबसे प्रामाणिक रिपोर्टर थे जिन्होंने त्रिलोकपुरी में सिखों के बड़े पैमाने  पर नरसंहार की सूचना दी थी। वह कई जांच आयोगों के सामने पेश हुए। जोसफ साहेब मंडल के दौर की मीडिया सेंसरशिप को सबसे खतरनाक मानते हैं। हम सब जानते हैं कि मंडल विरोधी आन्दोलन को भड़काने में इंडियन एक्सप्रेस और अरुण शौरी की बहुत बड़ी भूमिका रही है। जोसफ बताते हैं कि कैसे उनकी मंडल समर्थक खबरों को अरुण शौरी ने रोक दिया था और उन्होंने एक्सप्रेस छोड़ने का मन बना लिया था।  प्रस्तुत है जोसफ मलियाकन की विद्या भूषण रावत से बातचीत : 

जोसेफ मलियाकन
जोसेफ मलियाकन

आप दिल्ली में इंडियन एक्सप्रेस से कब जुड़ेक्या आप उससे पहले अन्य अखबार संस्थानों में काम कर रहे थे?

मैं मार्च, 1979 में इंडियन एक्सप्रेस में शामिल हुआ, लेकिन इससे पहले मेरी जीवन यात्रा अलग-अलग पड़ावों से होकर गुजरी। मैंने जयपुर में एक स्कूल शिक्षक के रूप में काम किया, सैंडोज़ इंडिया लिमिटेड, कोटा राजस्थान में मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव, होटल क्लार्क्स आमेर में फ्रंट ऑफिस मैनेजर, सब  एडिटर, कारवां, दिल्ली, में सहायक संपादक, स्टर्लिंग पब्लिशर्सनई दिल्ली और फ्रैंक बोथर्स पब्लिशर्सनई दिल्ली में संपादक रहा। मैंने पॉइंट ऑफ़ व्यू के लिए लेख भी लिखे , जो नेशनल प्रेस एजेंसीनई दिल्ली से प्रकाशित साप्ताहिक है। इसके साथ ही यूनाइटेड न्यूज़ ऑफ़ इंडिया के लिए कई विषयों पर अलग-अलग खबरें लिखी।  1986-88 के दौरानमैंने सेंसरशिप सूचकांकलंदन के लिए काम किया। मेरे काम में ब्रिटेनइज़राइलदक्षिण अफ्रीका और दक्षिण पूर्व एशिया में मीडिया की निगरानी करना शामिल था 

कैसा था न्यूज़ रूम के अंदर का माहौल? क्या उन दिनों संपादकों ने अपने राजनीतिक संबंधों के लिए आपके समाचारों को प्रभावित किया था या आपको पूरी स्वतंत्रता थी?

इंडियन एक्सप्रेस में पत्रकारों को हमारी रुचि की कहानियों को आगे बढ़ाने की पूरी आजादी थी बेशक संपादक हमें कहानी के विचार और सुझाव देते थे। कुछ कहानियों को किसी न किसी आधार पर सेंसर करने का भी प्रयास किया गया लेकिन कुल मिलाकर हम पत्रकारों के पास अपना रास्ता था। आपातकाल के दौरान निभाई गई अपनी भूमिका के लिए इंडियन एक्सप्रेस प्रतिष्ठित बना रहा। 26 जून 1975 का खाली संपादकीय पृष्ठ आज भी हमें दोषसिद्धि की शक्ति की याद दिलाता है।

बहुत ज्यादा सर्कुलेशन वाला अखबार नहीं होने के बावजूद एक्सप्रेस एक आवाज था। इसके पीछे कौन  थारामनाथ गोयनका या अन्य

आंतरिक आपातकाल के खिलाफ लड़ाई में रामनाथ गोयनका प्रमुख थे बेशकऐतिहासिक लड़ाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले सैकड़ों अन्य लोग भी थे 

आपने अपने समाचार लेखन में कितनी स्वतंत्रता लीक्या कभी किसी कहानी को कवर न करने का दबाव थायदि हाँतो वह क्या था?

हालांकि मुझे काफी आजादी मिलीलेकिन ऐसे मौके भी आए जब संपादकों ने मेरी कहानियों को सेंसर करने या बदलने का प्रयास किया। ज्यादातर मामलों में मेरे पास अपना रास्ता था। मेरी पहली मुलाकात अरुण शौरी से हुई थी। मैं दंगों को कवर करने के लिए 1981 में मुरादाबाद गया था। शौरी ने मुझे मुरादाबाद में आरएसएस के एक नेता से मिलने के लिए कहा था। मैं उनसे मिला लेकिन वह जहर उगल रहे थे। मैंने अपनी कहानी में उनका नाम तक नहीं बताया और शौरी मुझ पर भड़क गए। मैंने उनसे कहा कि वह बदल नहीं सकता और कहानी अगले दिन फ्रंट पेजबॉटम स्प्रेड पर प्रकाशित हुई।

एक दूसरा उदाहरण भी है। जब मैंने 1983 में केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड कक्षा 12 की परीक्षा के प्रश्नपत्रों के लीक होने के बारे में एक कहानी की थी। दिल्ली के कुछ प्रमुख स्कूलों जैसे, दिल्ली पब्लिक स्कूलसरदार पटेल स्कूललोधी एस्टेट और वायु सेना स्कूल के छात्रों, बाल भारती स्कूललोधी रोड आदि को प्रश्न पहले ही मिल गए थे और मैंने अपनी रिपोर्ट में इन सभी संस्थानों का नाम लिया था। उस समय एक्सप्रेस न्यूज सर्विस के संपादक हिरणमे कार्लेकर चाहते थे कि मैं रिपोर्ट से सरदार पटेल स्कूल का नाम हटा दूं क्योंकि उनका बेटा उस समय स्कूल में पढ़ रहा था हालांकि रिपोर्ट स्कूल के नाम के साथ छपी थी।

भारतीय वायु सेना के तकनीकी अधिकारियों के विरोध के दौरान मैंने कुछ तकनीकी अधिकारियों की अवैध हिरासत पर भेदभाव के खिलाफ एक कहानी की। तत्कालीन संपादक शेखर गुप्ता ने दिल्ली संस्करण में कहानी ‘किल’ कर दी। हालाँकि यह इंडियन एक्सप्रेस के अन्य सभी संस्करणों में प्रकाशित हुई थी। इसके विरोध में, मैंने हिंदुस्तान टाइम्स और पायनियर के दिल्ली संस्करणों को कहानी दी। दोनों अखबारों ने कहानी को अपने पहले पन्ने पर छापा।

इसी तरह 1983 में जब राजधानी दिल्ली में सेरेब्रल मलेरिया फैला तो इस पर मैंने स्टोरी की। इस पर संपादक बीजी वर्गीज ने कहा कि यह ज़मीनी हकीकत बयां करने वाली स्टोरी है लेकिन फिलहाल इसे रोक दिया जाय वरना इसका असर  दिल्ली में आयोजित होनेवाले कॉमनवेल्थ खेलों पर बुरा पड़ेगा। लोग डर से दिल्ली ही नहीं आएंगे। मैंने तर्क दिया कि सेरेब्रल मलेरिया से लोग मर रहे हैं और यह महत्वपूर्ण है कि हम जल्द से जल्द कहानी प्रकाशित करें ताकि स्वास्थ्य विभाग उपचारात्मक उपाय करे। वर्गीज ने स्थिति की गंभीरता को महसूस किया और किलर मलेरिया हिट्स द कैपिटल शीर्षक के साथ पहले पन्ने पर कहानी प्रकाशित की। कहानी प्रकाशित होने के बाद तत्कालीन स्वास्थ्य सेवा निदेशक डॉ. रामलिंगस्वामी ने मेरी कहानी की पुष्टि करते हुए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की।

जोसेफ मलियाकन से बातचीत करते विद्याभूषण रावत

मंडल विरोधी आंदोलन के दौरान अरुण शौरी सवर्णों के लिए एक तरह के पैम्फलेटर बन गए और इंडियन एक्सप्रेस में रिपोर्टिंग एकतरफा हो गई। आप तब एक्सप्रेस टीम का हिस्सा थे। क्या मुद्दों के कवरेज के संबंध में कोई विशेष दिशा-निर्देश थे? क्योंकि दलितों और ओबीसी द्वारा दर्ज़ विरोध को शायद ही कभी कवर किया गया था।

आप सही कह रहे हैं। सबसे खराब सेंसरशिप मंडल विरोधी आंदोलन के दौरान हुई। उस समय मैं दिल्ली में मंडल समर्थक छात्रों की गतिविधियों पर प्रतिदिन एक या दो कहानियाँ लिखता था। तत्कालीन संपादक अरुण शौरी ने यह सुनिश्चित किया कि एक भी मंडल समर्थक कहानी प्रकाशित न हो।  मैं बड़ी कडुवाहट के साथ इंडियन एक्सप्रेस छोड़ने की सोच रहा था तभी अरुण शौरी की बर्खास्तगी की खबर आई।

आपने एक महत्वपूर्ण कहानी सुनाई कि कैसे आपका संपादक वास्तव में नहीं चाहता था कि आप किसी विशेष घटना को कवर करें और आपने इसे किया। वह क्या था और आपको रोकने की कोशिश क्यों हुई थी?

भारतीय वायु सेना के तकनीकी अधिकारियों के विरोध के दौरान मैंने कुछ तकनीकी अधिकारियों की अवैध हिरासत पर भेदभाव के खिलाफ एक कहानी की। तत्कालीन संपादक शेखर गुप्ता ने दिल्ली संस्करण में कहानी ‘किल’ कर दी। हालाँकि यह इंडियन एक्सप्रेस के अन्य सभी संस्करणों में प्रकाशित हुई थी। इसके विरोध मेंमैंने हिंदुस्तान टाइम्स और पायनियर के दिल्ली संस्करणों को कहानी दी। दोनों अखबारों ने कहानी को अपने पहले पन्ने पर छापा। 

आपने दिल्ली में 1984 के सिख विरोधी नरसंहार पर बहुत काम किया। आपका अनुभव क्या थाक्या आप मानते हैं कि कांग्रेस ने इन दंगों को प्रायोजित किया थामीडिया की क्या भूमिका थी

इंदिरा गाँधी की हत्या के बाद तीन दिनों के बाद मैंने पहले पूर्वी दिल्ली के विभिन्न हिस्सों में,  विशेष रूप से त्रिलोकपुरीकल्याणपुरीगीता कॉलोनीकृष्णा नगरशाहदरा और लोनी रोड में सिखों की सामूहिक हत्याएं देखीं। ये बेहद वीभत्स  हत्याएँ थीं और कुछ घरों में मैंने शिशुओं सहित पूरे सिख परिवारों के जले हुए अवशेष देखे।

एनडीटीवी के साथ काम करने वाले दो इंजीनियरों ने अस्सी के दशक के अंत में कंप्यूटर पर अपनी लिखावट को पुन: पेश करने के लिए एक प्रक्रिया का आविष्कार किया था। आविष्कार का कॉपीराइट लेने के बाद उन्होंने NDTV छोड़ दिया।हालाँकि, कुछ वर्षों के बाद प्रणय रॉय ने आविष्कार को अपने नाम पर पंजीकृत करवाया। यह ज्ञात नहीं है कि वह कॉपीराइट को अपने नाम पर स्थानांतरित करने में कैसे कामयाब रहा। और टाइम पत्रिका ने आविष्कार पर प्रणय रॉय की 'आविष्कारक' की तस्वीर के साथ एक कहानी प्रकाशित की।

इतने बड़े पैमाने पर नरसंहार स्पष्ट रूप से कांग्रेस नेताओं द्वारा आयोजित किया गया था। 31 अक्टूबर की रात को, हत्याओं के शुरू होने से पहले ही लाउड स्पीकरों पर यह अफवाह  फैल गयी थी कि सिखों ने शहर के लिए पानी की आपूर्ति करने वाली टंकियों में ज़हर मिला दिया। पर ऐसा कुछ नहीं हुआ था। हत्याएँ पुलिस के सामने हुईं और कई बार वह न केवल मूक दर्शक बनी रही अपितु हत्यारों में शामिल हो जाती थी।

मुट्ठी भर पत्रकारों और संपादकों को छोड़कर मीडिया इन हत्याओं को लेकर बिल्कुल बेफिक्र था। इंडियन एक्सप्रेस के तत्कालीन संपादक बीजी वर्गीज ने हत्याओं और हत्याओं में दिल्ली पुलिस की मिलीभगत का पर्दाफाश करने में हमारा पूरा समर्थन किया। मुझे यह भी बताना चाहिए कि जिन भाजपा नेताओं का दिल्ली के लोगों के बीच काफी प्रभाव था और जो राजधानी में कुछ भी अनहोनी होने पर हस्तक्षेप करने के लिए तत्पर रहते थेवे भी नरसंहार के दौरान पूरी तरह से अनुपस्थित रहे। 

शौरी अपनी खोजी‘ पत्रकारिता के लिए जाने जाते हैं और उन्हें इसके लिए कई पुरस्कार मिले हैं। लेकिन कई बार अंदरूनी सूत्रों का कहना रहा है कि वह कभी पत्रकार नहीं थे। उन्होंने शायद ही कभी किसी क्षेत्र का दौरा किया हो। इसके बावजूद वे इतने बड़े जांचकर्ता पत्रकार कैसे बन गए?

यह सच है कि अरुण शौरी द्वारा की गई अधिकांश रिपोर्टों के लिए सामग्री दूसरों द्वारा एकत्र की गई थी या उन्हें दी गई थी। इसके संदर्भ में मैं कुछ वाकयात आपसे शेयर करना चाहूँगा। पहली तो यह कि हिरासत में हुई मौतों पर उनकी कहानी के लिए सामग्री इंडियन एक्सप्रेस के संवाददाताओं द्वारा विभिन्न राज्यों की राजधानियों से एकत्र की गई थी दिल्ली के लिए डेटा मेरे द्वारा एकत्र किया गया था। लेकिन शौरी ने श्रृंखला प्रकाशित करते समय उनके योगदान को स्वीकार भी नहीं किया।

इसी तरह यह भी गौरतलब है कि शौरी भागलपुर काण्ड से प्रसिद्ध हुए लेकिन इस कहानी को पटना के संवाददाता अरुण सिन्हा ने ‘ब्रेक किया था। 

शौरी ने जिस कमला कहानी की योजना बनाई थी और अश्विनी सरीन ने जो किया वह एक असफलता थी। पूरी कहानी प्रकाशित होने से पहले ही कमला, जिसे सरीन ने धौलपुर मांस बाजार से खरीदा थाको उसके भाग्य पर छोड़ दिया गया था। असहाय महिला को दिल्ली लाने के बाद उसे सरीन की पत्नी के रूप में रहने की उम्मीद थी, लेकिन उसे एक महिला के घर भेज दिया गया जहां से वह बिना बताये भाग गई।

दक्षिणपंथियों द्वारा प्रायोजित मंडल विरोधी आंदोलन के दौरान शौरी उनके पथ प्रदर्शक बने। उन्होंने सुनिश्चित किया कि इंडियन एक्सप्रेस में मंडल समर्थक कुछ भी दिखाई न दे

यह किताब किंडल पर भी उपलब्ध है, पढ़ने के लिए क्लिक करें…

आप एक और कहानी भी सुनाते हैं जब एक्सप्रेस के बड़े संपादकों ने एक ऐसी कहानी को रोकने की कोशिश की, जिसमें दिल्ली उच्च न्यायालय ने एक प्रमुख मीडिया मुगल के खिलाफ सॉफ्टवेयर के स्वामित्व और उसके पेटेंट के बारे में फैसला सुनाया था। यह क्या था?

एनडीटीवी के साथ काम करने वाले दो इंजीनियरों ने अस्सी के दशक के अंत में कंप्यूटर पर अपनी लिखावट को पुन: पेश करने के लिए एक प्रक्रिया का आविष्कार किया था आविष्कार का कॉपीराइट लेने के बाद उन्होंने NDTV छोड़ दिया।हालाँकिकुछ वर्षों के बाद प्रणय रॉय ने आविष्कार को अपने नाम पर पंजीकृत करवाया। यह ज्ञात नहीं है कि वह कॉपीराइट को अपने नाम पर स्थानांतरित करने में कैसे कामयाब रहा। और टाइम पत्रिका ने आविष्कार पर प्रणय रॉय की आविष्कारक‘ की तस्वीर के साथ एक कहानी प्रकाशित की। बिजनेस इंडिया ने बाद में एक लंबी कहानी के साथ इसका अनुसरण किया। असली आविष्कारकों ने विरोध किया लेकिन रॉय ने उन्हें ये सब भूल जाने के लिए कहा। इसके बाद उन्होंने दिल्ली उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर कर अपने आविष्कार पर अपने कॉपीराइट की बहाली के लिए प्रार्थना की। दिल्ली हाई कोर्ट की जस्टिस उषा मेहरा ने रजिस्ट्रार ऑफ कॉपीराइट, NDTV और भारत सरकार को नोटिस जारी किया था। मामले की सुनवाई की पहली तारीख को प्रणय रॉय आए और खुली अदालत में बिना शर्त माफी मांगी और कॉपीराइट सरेंडर कर दिया। मामले को वापस लेने के रूप में खारिज कर दिया गया था। मैंने इंडियन एक्सप्रेस के लिए 60 पंक्तियों की कहानी लिखी। जब मैं अपनी कहानी को अंतिम रूप दे रहा था तो मेरे तत्कालीन संपादक प्रभु चावला मेरे पास आए और मुझसे कहानी छोड़ने का अनुरोध किया क्योंकि वह प्रणय रॉय के एक दोस्त थे। जब मैं कहानी लिख रहा था तब प्रणय प्रभु के साथ बैठा था। मैंने प्रभु से कहा कि मैं प्रणय को उनसे ज्यादा लंबे समय से जानता हूं और मेरी उनसे दोस्ती भी थी। लेकिन मैंने कहा कि कहानी एक कहानी है चाहे इसमें कोई दोस्त हो या कोई रिश्तेदार। प्रभु ने तब कहानी का सिर्फ एक पैराग्राफ छापने का फैसला किया। वह भी चौथे पेज पर, जिसे बहुत कम लोग पढ़ते हैं।

आज का मीडिया कैसे बदल गया हैसमाचार पत्रों की प्रकृति को देखते हुए आप अपने समय और आज के संपादकीय और समाचारों में क्या अंतर पाते हैं?

मीडिया आज सनसनीखेज और व्यक्तिवाद में लिप्त है। मीडिया प्रसिद्ध व्यक्तित्वोंराजनेताओं , संतोंक्रिकेटरों और फिल्मी सितारों के प्रति आसक्त है समाज में हो रहे अन्याय की कोई परवाह नहीं है। मुद्दों पर उसका कोई स्टैंड नहीं है। किसानोंमजदूरों और छात्रों के मुद्दों पर केवल तभी वे ध्यान देते हैं जब कोई बड़ी घटना हो जाती है या उनका आंदोलन हिंसक हो जाता है।

केरल में आदिवासियों की स्थिति आज भी बहुत दयनीय है। उन्हें उनकी जमीन और आजीविका से वंचित कर दिया गया है।वे बहुत ही दयनीय जीवन व्यतीत करते हैं। जहां तक भूमि सुधार का सवाल है तो अनुसूचित जाति की आबादी की स्थिति में काफी सुधार हुआ है। हालांकि, कृषि भूमि के लिए प्रति व्यक्ति 15 एकड़ की सीमा है, लेकिन वृक्षारोपण को किसी भी सीमा से छूट दी गई है। केरल में विभिन्न सम्पदाओं में हजारों एकड़ में वृक्षारोपण है।

आज का मीडिया आपातकाल की ही तरह सरकार सरकार का भोंपू और पिछलग्गू है। आज एक तरफ ज्यादातर मीडिया  कॉरपोरेट के हाथों में है तो दूसरी तरफ सरकारें मीडिया को नियंत्रित करने को लेकर अधिक चौकस है। 

आप केरल मूल के हैं लेकिन आपकी शिक्षा ज़्यादातर उत्तर भारत में हुई। आपके  पिता क्या करते थे और आप उनकी किस बात से प्रभावित थे?

मेरे पितास्वर्गीय एमके जोसेफ एक किसान और प्रजा सोशलिस्ट पार्टी से जुड़े राजनेता थे 1952 में जब उन्होंने विधानसभा चुनाव लड़ा तो जयप्रकाश नारायण केरल के कोट्टायम के कुराविलंगडु में अपनी एक चुनावी सभा में मुख्य वक्ता थे। उन्होंने कृषि श्रमिकों के अधिकारों के लिए संघर्ष का नेतृत्व किया और समाजवाद और सामाजिक न्याय के उनके सिद्धांतों ने मुझे बहुत प्रभावित किया है।

आप जीवन भर ट्रेड यूनियनवादी रहे हैं। अपने साथी पत्रकारों के अधिकारों के लिए लड़ते रहे हैं। आपके समय में पत्रकारों के प्रमुख मुद्दे क्या थेक्या उस समय अनुबंध प्रणाली शुरू हुई थी?

वर्किंग जर्नलिस्ट्स एक्ट और वेज बोर्ड अवार्ड्स का कार्यान्वयन पत्रकार संघों की मुख्य चिंताएँ थीं। आज अधिकांश मीडिया संगठन अनुबंध रोजगार का सहारा ले रहे हैंइन मुद्दों पर अधिक ध्यान देने की जरूरत है।

आप केरल के हैं। यहीं पर पहली वाम मोर्चा सरकार थीलेकिन हमने देखा है कि ईमानदारी से भूमि सुधार वहाँ कभी नहीं हुआ। आप केरल में दलितों और आदिवासियों की स्थिति के रूप में हमारे साथ साझा कर सकते हैं और कि क्या सरकार कांग्रेस या कम्युनिस्टों की है कि क्या उनके लिए है या नहीं काम किया?

केरल में आदिवासियों की स्थिति आज भी बहुत दयनीय है। उन्हें उनकी जमीन और आजीविका से वंचित कर दिया गया है।वे बहुत ही दयनीय जीवन व्यतीत करते हैं। जहां तक भूमि सुधार का सवाल है तो अनुसूचित जाति की आबादी की स्थिति में काफी सुधार हुआ है। हालांकि, कृषि भूमि के लिए प्रति व्यक्ति 15 एकड़ की सीमा हैलेकिन वृक्षारोपण को किसी भी सीमा से छूट दी गई है। केरल में विभिन्न सम्पदाओं में हजारों एकड़ में वृक्षारोपण है। अधिकांश वृक्षारोपण भूमि भारत के स्वतंत्र होने से बहुत पहले पट्टे पर दी गई थी और अब समय आ गया है कि इन ज़मीनों को पुनः प्राप्त और पुनर्वितरित किया जाए।

भारत में ईसाई संस्थाओं के बारे में आप क्या कहेंगेक्या आपको लगता है कि वे अपने अंदर सामाजिक न्याय के एजेंडे को आगे बढ़ाने में विफल रहे और वास्तव में उन्होंने कुलीन ब्राह्मणों का निर्माण किया?

देश में अधिकांश ईसाई संस्थाएं समाज के लोगों के कल्याण के लिए कुल मिलाकर खानपान करती रही हैं। ईसाइयों ने कोई ब्राह्मण नहीं बनायाउन्होंने सिर्फ ब्राह्मणों के हित को पूरा किया। हालांकि हाल के कुछ वर्षो में  ईसाईयों ने अपने प्रयासों में सामाजिक न्याय पर जोर देने का प्रयास किया है। उदाहरण के लिए जेसुइट्स द्वारा संचालित स्कूलों ने शिक्षा के माध्यम के रूप में हिंदी को अपनाया है ताकि कमजोर वर्ग के बच्चों को प्रवेश मिल सके।

यह किताब किंडल पर भी उपलब्ध है, पढ़ने के लिए क्लिक करें…

क्या केरल में आरएसएस और हिंदुत्व संगठनों के सफल होने की कोई संभावना है?

आरएसएस और हिंदुत्व संगठनों के केरल में ज्यादा लोकप्रियता हासिल करने की संभावना नहीं है। हालांकिलोकप्रियता हासिल करने के उनके प्रयासों से समाज में तनाव पैदा हो सकता है।

विद्याभूषण रावत प्रखर सामाजिक चिंतक और कार्यकर्ता हैं। उन्होंने भारत के सबसे वंचित और बहिष्कृत सामाजिक समूहों के मानवीय और संवैधानिक अधिकारों पर अनवरत काम किया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.