Friday, April 19, 2024
होमविविधपाठ्यक्रमों में साम्प्रदायिक दृष्टिकोण से बदलाव अनुचित

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

पाठ्यक्रमों में साम्प्रदायिक दृष्टिकोण से बदलाव अनुचित

बनारस के सामाजिक कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री को भेजा पत्रक नालंदा में मदरसा अग्निकांड में संलिप्त गुंडों के तत्काल गिरफ्तारी की मांग वाराणसी। इतिहास और साहित्य के पाठ्यक्रम में माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा के स्तर पर अनेक परिवर्तन किये जाने को अनुचित बताते हुए साझा संस्कृति मंच और शिक्षा का अधिकार अभियान ने प्रधानमंत्री को इस […]

बनारस के सामाजिक कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री को भेजा पत्रक

नालंदा में मदरसा अग्निकांड में संलिप्त गुंडों के तत्काल गिरफ्तारी की मांग

वाराणसी। इतिहास और साहित्य के पाठ्यक्रम में माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा के स्तर पर अनेक परिवर्तन किये जाने को अनुचित बताते हुए साझा संस्कृति मंच और शिक्षा का अधिकार अभियान ने प्रधानमंत्री को इस मामले में हस्तक्षेप करने का अनुरोध करते हुए ज्ञापन प्रेषित किया है। ज्ञापन में सामाजिक कार्यकर्ताओं ने बिहार के नालंदा जिले में उपद्रवी तत्वों द्वारा मदरसे को जलाए जाने को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए इस कांड के दोषियों के विरुद्ध तत्काल दंडात्मक कार्यवाही की भी मांग की।

सामाजिक कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन कर जताया रोष

इस अवसर पर सामाजिक कार्यकर्ताओं ने बताया कि इतिहास और साहित्य दोनों विद्यार्थी के व्यक्तित्व के निर्माण के लिए आवश्यक हैं इसमें अनावश्यक परिवर्तन से युवा दिग्भ्रमित होगा। महाकवि सूर्यकांत निराला को पाठ्यक्रम से हटाकर गुलशन नंदा और मधुशाला पढ़ाने के पीछे तथाकथित शिक्षाविदों का क्या मंतव्य है? यह समझ के परे हैं। इसी प्रकार इतिहास के कुछ काल को हटाने से अपने देश की विरासत और हमारे नायकों के संघर्ष की अनेक गाथाएँ जानने से बच्चे वंचित रह जायेंगे।

यह भी पढ़ें…

नया सत्र आरम्भ होते ही स्कूलों में शुरू हो गया कमीशन का खेल

सामाजिक कार्यकर्ताओं ने बिहार के नालंदा जिले में मदरसा जलाने जैसे घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए प्रभावी कदम उठाने की मांग करते हुए कहा कि युवाओं का रोजगार छीनकर उन्हें दंगाई बनाने की घिनौनी साजिश चिंता का विषय है। अल्पसंख्यक समाज पर लगातार हमले बढ़ रहे हैं। मस्जिदों-गिरजाघरों को हिंसक भीड़ के हवाले कर दिया जा रहा है। ऐसी घटनाएं सभ्य और लोकतांत्रिक समाज के खिलाफ हैं। इससे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देश की निरपेक्ष छवि धूमिल होती है। जिलाधिकारी के प्रतिनिधि के माध्यम से ज्ञापन काशी के सांसद एवं प्रधानमंत्री को प्रेषित किया गया। इस अवसर पर फादर आनंद, डॉ. आरिफ, सतीश सिंह, महेंद्र राठौर, मनोज यादव, धनंजय, वल्लभ, इंदु, विकास सिंह, अनूप श्रमिक, मनोज, अमित, रामजन्म, प्रमोद, अबु हाशमी, सचिदानंद, मुकेश आदि उपस्थित रहे।

फादर आनंद साझा संस्कृति मंच के संयोजक हैं।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें