Friday, April 19, 2024
होमविचारराष्ट्रीय विमर्श का बिगड़ता स्वास्थ्य और ORS का घोल पिलाता देश 

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

राष्ट्रीय विमर्श का बिगड़ता स्वास्थ्य और ORS का घोल पिलाता देश 

एक राष्ट्र सेवक हैं। वे देश को विश्वगुरु बनाना चाहते हैं। इसके लिए वे विमर्श की जुगाली करते हैं। जुगाली उनके स्वास्थ्य का पैमाना है। जुगाली बंद हो जाती है, तो संकेत मिल जाता है- तबीयत नासाज चल रही है। एक बार राष्ट्र सेवक के एक मित्र द्वारा किए जा रहे आर्थिक भ्रष्टाचार की रिपोर्ट […]

एक राष्ट्र सेवक हैं। वे देश को विश्वगुरु बनाना चाहते हैं। इसके लिए वे विमर्श की जुगाली करते हैं। जुगाली उनके स्वास्थ्य का पैमाना है। जुगाली बंद हो जाती है, तो संकेत मिल जाता है- तबीयत नासाज चल रही है।

एक बार राष्ट्र सेवक के एक मित्र द्वारा किए जा रहे आर्थिक भ्रष्टाचार की रिपोर्ट आई। रिपोर्ट ने राष्ट्र सेवक की जुगाली बंद करा दी। जुगाली बंद होने से नए विमर्श का अकाल पड़ गया। अकाल के दौरान उनका स्वास्थ्य बिगड़ने लगा। बीमारी के दौरान वे ‘चुप्पा’ हो गए थे। सबसे अच्छे डॉक्टर और शुभचिंतकों की तीमारदारी, महँगी दवाओं, प्रोटीन-विटामिंस से भरपूर ‘डाइट चार्ट’ और ‘फिटनेस चार्ट’ की कसरतों के बावजूद, उनका स्वास्थ्य लुढ़कता गया। उनके स्वास्थ्य में सुधार नहीं हो रहा था। शुभचिंतकों के मन में डाक्टरों की डिग्री पर शंका पैदा होने लगी। उनकी शंका दूर की एक पशु डॉक्टर ने।

पशु डॉक्टर के पास अनुभव की डिग्री थी। अनुभव की डिग्री से इलाज का लाइसेंस नहीं मिलता; तो डॉक्टर ने दूरस्थ शिक्षा से इलाज की डिग्री भी ले ली थी। वो डॉक्टर मेडिकल कॉलेज सिर्फ परीक्षा देने जाता था। दूरस्थ शिक्षा में भी विद्यार्थी परीक्षा वाले दिन ही परीक्षा केंद्र पर जाता है। पढ़ाई का अनुभव वो पशुओं का इलाज करके पहले ही ले चुका था।

अनुभव का धनी वो पशु डॉक्टर जानता था, जुगाली बंद होना बीमारी का संकेत है। डॉक्टर के अनुसार, जुगाली के माध्यम से पशु संकेत देते हैं कि वे चंगे हैं। समूह में रहने वाले पशु जुगाली के संकेतों के माध्यम से एक-दूसरे से बात करते हैं। जो पशु अकेले होते हैं, वे जुगाली के माध्यम से खुद से बात करते रहते हैं- ‘क्या हाल चाल है? फिट हूँ। जुगाली चल रही है।’ आदमी उनके संकेतों को नहीं समझ पाता। इसलिए उनकी बातचीत को सिर्फ जुगाली कहता है।

यह भी पढ़ें…

महिला पहलवानों के पक्ष में बनारस की लड़कियों का ‘दख़ल’

राष्ट्र सेवक के बीमारी की ‘केस हिस्ट्री’ जानने के लिए पशु डॉक्टर ने उनके कमरे का गहन निरीक्षण किया। एक-एक तमगे और प्रमाण पत्र पर अंकित तिथि का अध्ययन किया। अंतिम तिथि दो महीने पूर्व की थी। डॉक्टर को रोग का कारण समझ में आ गया। डॉक्टर ने उनके शुभचिंतकों को विमर्श की दवा बताई- स्वातंत्र्योत्तर भारत की तरक्की में बाधक तत्व। हालाँकि, दवा का नाम नया नहीं था, पर अकाल में डूबते स्वास्थ्य के लिए तिनके का सहारा काफी था।

विमर्श आयोजित हुआ। क्रमानुसार राष्ट्र सेवक के बोलने का नंबर तीसरा था। पहले वक्ता ने बोलना शुरू किया। वो बोलता गया। संचालक द्वारा भेजी गयी ‘आपका समय समाप्त हुआ’ की ‘चिट’ को नज़रंदाज कर, वो बोलता ही गया। उधर, अपने क्रम के इंतजार में बैठे राष्ट्र सेवक की तबीयत बिगड़ती जा रही थी। शुभचिंतक इससे बे-खबर थे।

पहले वक्ता का कथन समाप्त होने के पहले ही राष्ट्र सेवक कुर्सी से लुढ़क गए। उनकी दशा देख शुभचिंतकों में खलबली मच गई। तुरंत ही पशु डॉक्टर को खबर दी गई। डॉक्टर आया। केस हिस्ट्री जानने के लिए उसने विमर्श के दौरान बोलने वाले वक्ताओं के क्रम का अध्ययन किया। उनके लुढ़कने का कारण डॉक्टर ने पकड़ लिया। डॉक्टर ने शुभचिंतकों को दवा बताई- विमर्श में पहले वक्ता के रूप में राष्ट्र सेवक को बोलने का अवसर दो। साथ ही चंगा होने का संकेत देने वाले लक्षण भी बताए।

कुछ दिन बाद विमर्श आयोजित हुआ- विगत 70 वर्षों में देश की तरक्की में बाधक तत्व। डॉक्टर ने दवा का नाम बदल दिया था, ‘कम्पोजीशन’ वही थी।

पहले वक्ता के रूप में जैसे ही राष्ट्र सेवक ने माइक थामा, लगा जेठ की दोपहर में तपते वन पर रिमझिम-रिमझिम, रुमझुम-रुमझुम… होने लगी। बारिश के इंतजार में भूमिगत हुए दादुर टर्राते हुए बाहर आ गए।

यह भी पढ़ें…

झूठ का पुलिंदा है वाय आई किल्ड गांधी

राष्ट्र सेवक ने बोलना शुरू किया। बोलते गए। बोलते-बोलते थूक झाग बनकर थूथन से टपकने लगा। चंगा होने के टपकते लक्षण को देख शुभचिंतकों ने एक-दूसरे से कहा- फिट हो गए।

अपने चंगे होने का लक्षण टपकाते-टपकाते उन्होंने विमर्श का स्वास्थ्य बिगाड़ दिया है। विमर्श को दस्त लग गई है। विमर्श के शुभचिंतक विमर्श की सेवा-सुश्रुता में लगे हुए हैं। कोई नैपी बदल रहा है। कोई ओआरएस (ORS) घोल पिला रहा है। कोई दवा खिला रहा है।

विमर्श के इलाज के लिए भी पशु डॉक्टर से सम्पर्क किया गया। उसने हाथ खड़े कर दिए- बौद्धिक रोगों के इलाज का अनुभव उसके पास नहीं है। ‘डॉक्टर ऑफ इंटेलेक्चुअलिटी’ से सम्पर्क करें।

 

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें