Tuesday, February 27, 2024
होमसंस्कृतिढाई आखर प्रेम की सांस्कृतिक यात्रा : आज़ादी की लड़ाई के योद्धाओं,...

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

ढाई आखर प्रेम की सांस्कृतिक यात्रा : आज़ादी की लड़ाई के योद्धाओं, लेखकों और कलाकारों को करेंगे याद

छत्तीसगढ़। भारतीय जन नाट्य संघ (इप्टा) आज़ादी के 75 साल के मौके पर ‘ढाई आखर प्रेम की सांस्कृतिक यात्रा’ निकालने जा रहा है। यह यात्रा 9 अप्रैल को छत्तीसगढ़ के रायपुर से शुरू होकर तमाम राज्यों में होती हुई 22 मई को मध्यप्रदेश के इंदौर में संपन्न होगी। इस सांस्कृतिक जनसंवाद यात्रा के दौरान जगह-जगह […]

छत्तीसगढ़। भारतीय जन नाट्य संघ (इप्टा) आज़ादी के 75 साल के मौके पर ‘ढाई आखर प्रेम की सांस्कृतिक यात्रा’ निकालने जा रहा है। यह यात्रा 9 अप्रैल को छत्तीसगढ़ के रायपुर से शुरू होकर तमाम राज्यों में होती हुई 22 मई को मध्यप्रदेश के इंदौर में संपन्न होगी। इस सांस्कृतिक जनसंवाद यात्रा के दौरान जगह-जगह गीत, संगीत, फ़िल्म, किस्सागोई के कार्यक्रम होंगे। आम लोगों को भी अपने गीत, कविता, नाटक, पोस्टर, पेंटिंग इत्यादि के साथ इस यात्रा में शिरकत करने की अपील की गई है।

इप्टा की इस मुहिम, इस अभियान को अन्य लेखक व सांस्कृतिक संगठनों प्रगतिशील लेखक संघ (प्रलेस), जनवादी लेखक संघ (जलेस), जन संस्कृति मंच (जसम), दलित लेखक संघ (दलेस) और जन नाट्य मंच (जनम) ने भी अपना सहयोग और समर्थन दिया है। इप्टा के राष्ट्रीय महासचिव राकेश वेदा ने इस सांस्कृतिक यात्रा को लेकर जनता के नाम एक बयान या कहें कि निमंत्रण पत्र जारी किया है, जिसमें इस यात्रा के कार्यक्रम की रूपरेखा के अलावा इस यात्रा की ज़रूरत को रेखांकित किया है। यह इस प्रकार है-

एक हमारी और एक उनकी मुल्क में हैं आवाज़े दो

अब तुम पर कौन-सी तुम आवाज़ सुनों तुम क्या मानों

दोस्तो,

यह भी पढ़ें…

ख़्वाबों के सात रंग

आज़ादी के 75 साल के मौके पर निकलने वाली ‘ढाई आखर प्रेम की सांस्कृतिक यात्रा’ असल में स्वतंत्रता संग्राम के गर्भ से निकले स्वतंत्रता-समता-न्याय और बंधुत्व के उन मूल्यों के तलाश की कोशिश है, जो आजकल नफ़रत, वर्चस्व और दंभ के तुमुल कोलाहल में डूब से गये हैं। हालांकि वो हमारे घोषित संवैधानिक आदर्शों में झिलमिलाते हुये हर्फ़ों के रूप में, गांधी के प्रार्थनाओं और आंबेडकर की प्रतिज्ञाओं के रूप में हमारी आशाओं में अभी भी चमक रहे हैं। इन्हीं का दामन पकड़कर हमारे किसान, मजदूर, लेखक, कलाकार, मानवाधिकार कार्यकर्ता गांधी के अंहिसा और भगत सिंह के अदम्य शौर्य के सहारे अपनी कुर्बानी देते हुए संवैधानिक मूल्यों की रक्षा में डटे हैं।

यह यात्रा उन तमाम शहीदों, समाज सुधारकों एवं भक्ति आंदोलन और सूफ़ीवाद के पुरोधाओं का सादर स्मरण है, जिन्होंने भाषा, जाति, लिंग और धार्मिक पहचान से इतर मानव मुक्ति एवं लोगों से प्रेम को अपना एकमात्र आदर्श घोषित किया। प्रेम जो उम्मीद जगाता है, प्रेम जो बंधुत्व, समता और न्याय की पैरोकारी करता है, प्रेम जो कबीर बनकर पाखंड पर प्रहार करता है, प्रेम जो भाषा, धर्म, जाति नहीं देखता और इन पहचानों से मुक्त होकर धर्मनिरपेक्षता का आदर्श बन जाता है।

यह भी पढ़ें…

आदिवासी महिलाओं के साथ बदसलूकी के खिलाफ खड़े हों!

आइए… ‘ढाई आखर प्रेम की’ इस यात्रा के बहाने बापू के पास चलें, भगत, अशफ़ाक़, बिस्मिल और अनेकानेक शहीदों के पास चलें। उस हिंदुस्तान में चलें जो आंबेडकर और नेहरू के ख्वाब में पल रहा था, जो विवेकानंद के नव वेदांत और रविन्द्रनाथ टैगोर के उद्दात मानवतावादी आदर्शों में व्यक्त हो रहा था। मानवतावाद जो अंधराष्ट्रवादी-मानवद्रोही विचार को चुनौती देते हुए टैगोर के शब्दों में ‘उन्नत भाल और भय से मुक्त विचार’ में मुखरित हो रहा था। जहां ज्योतिबा फुले, सावित्रीबाई फुले फातिमा शेख़ और पंडिता रमाबाई जैसे लोग ज्ञान के सार्वभौम अधिकार के लिए लड़ रहे थे। जो आज तक भी हासिल नहीं किया जा सका है। वहीं अंधविश्वास और रूढ़िवाद के खिलाफ ईश्वरचंद्र विद्यासागर, राम मोहन राय, पेरियार ईवी रामासामी सरीखे लोग तर्क बुद्धि और विवेक का दामन पकड़कर एक तर्कशील हिंदुस्तान के रास्ते चल रहे थे। यह रास्ता प्रेम का ज्ञान का रास्ता है।

अगोरा प्रकाशन की किताबें अब किन्डल पर भी…

इन्हीं सूत्रों को पकड़ कर एक तरफ प्रेमचंद और सज्जाद ज़हीर के नेतृत्व में 9 अप्रैल 1936 में प्रलेस की स्थापना हुई जिसे राहुल सांकृत्यायन, यशपाल आदि ने आगे बढ़ाया। 1942 के ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ और दूसरी ओर बंगाल के अकाल पीड़ितों की सहायता के लिए देश भर के कलाकार एकजुट हुए और ‘नबान्न’ नाटक के साथ इप्टा की यात्रा शुरू हुई। हमारी यह यात्रा उसी सिलसिले को आगे बढ़ाने वाली और नफ़रत के बरक्स प्रेम, दया करुणा, बंधुत्व, समता और न्याय से परिपूर्ण हिंदुस्तान के स्वप्न को समर्पित है। जिसे हम और आप मिलकर बनाएंगे। जो बनेगा जरूर।

वो सुबह कभी तो आयेगी…!

वो सुबह हमीं से आयेगी….!!

अगोरा प्रकाशन की किताबें अब किन्डल पर भी…

कला जनता के नाम एक प्रेमपत्र है वहीं सत्ता के नाम अभियोगपत्र भी। आइए आज़ादी के 75वें साल में हम सब मिल कर आज़ादी की लड़ाई के जाने-अनजाने योद्धाओं, लेखकों और कलाकारों को बार-बार याद करें और उनकी बनाई राह पर चलें। यह यात्रा पूरी तरह जन सहयोग पर आधारित है। आप यात्रा के किन्ही पड़ावों पर गीत, कविता, नुक्कड़, लघु नाटक, पोस्टर, पेंटिंग के साथ शामिल हो सकते हैं, यात्रा के समर्थन में अपने स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित कर सकते हैं और कुछ नही तो यथासंभव आर्थिक सहयोग कर सकते हैं।

राकेश, महासचिव, इप्टा।

गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें