Saturday, April 13, 2024
होमवीडियोकाशीनाथ जी ने कहा सबको अपने तरह की कहानी लिखनी चाहिए

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

काशीनाथ जी ने कहा सबको अपने तरह की कहानी लिखनी चाहिए

हिन्दी के प्रसिद्ध और दुलारे कथाकार हैं रामदेव सिंह जिन्होंने रेल के जीवन पर यादगार कहानियाँ लिखी है। बिहार के मधेपुरा जिले से संबंध रखने वाले रामदेव सिंह का जन्म एक सम्पन्न किसान परिवार में हुआ। रेलवे की नौकरी करते हुये वे लंबे समय तक हिन्दी साहित्य में मुगलसराय की एक पहचान बने रहे लेकिन […]

हिन्दी के प्रसिद्ध और दुलारे कथाकार हैं रामदेव सिंह जिन्होंने रेल के जीवन पर यादगार कहानियाँ लिखी है। बिहार के मधेपुरा जिले से संबंध रखने वाले रामदेव सिंह का जन्म एक सम्पन्न किसान परिवार में हुआ। रेलवे की नौकरी करते हुये वे लंबे समय तक हिन्दी साहित्य में मुगलसराय की एक पहचान बने रहे लेकिन सेवानिवृत्ति के बाद फिर गाँव में जा बसे। इस प्रकार उनके अनुभव के दायरे में उस समय के गाँव से लेकर इस समय तक का गाँव बचा हुआ है। उनकी अनेक कहानियों और भाषायी संवेदना में गाँव का मन झाँकता है। रामजी यादव के साथ एक लंबी बातचीत के पहले हिस्से में उन्होंने अपनी जीवन-यात्रा और रचनात्मक दौर के बहुत से प्रसंगों और संदर्भों को साझा किया है। साथ ही बदलती हुई ग्रामीण जिंदगी के कई रंगों को भी अभिव्यक्त किया है। देखिये यह दूसरा भाग।
गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें