Saturday, April 13, 2024
होमराजनीतिअधिवक्ता से भू-माफिया मांग रहे रंगदारी, न देने पर बुरी तरह पीटा

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

अधिवक्ता से भू-माफिया मांग रहे रंगदारी, न देने पर बुरी तरह पीटा

पुलिस आयुक्त व जिला अधिवक्ता संघ की भी नहीं सुन रह एसओ सोरांव प्रयागराज। अपराधियों और भू माफियाओं के हौसले इस कदर बुलंद हो गए हैं कि, आम आदमी तो छोड़िए अब तो अधिवक्ताओं को भी नहीं छोड़ रहे हैं। जिला अदालत के एक वकील की जमीन पर जबरन कब्जा करने की धमकी देकर 20 […]

पुलिस आयुक्त व जिला अधिवक्ता संघ की भी नहीं सुन रह एसओ सोरांव

प्रयागराज। अपराधियों और भू माफियाओं के हौसले इस कदर बुलंद हो गए हैं कि, आम आदमी तो छोड़िए अब तो अधिवक्ताओं को भी नहीं छोड़ रहे हैं। जिला अदालत के एक वकील की जमीन पर जबरन कब्जा करने की धमकी देकर 20 लाख रुपए की रंगदारी मांग रहे हैं। न देने पर बुरी तरह मारपीट कर घायल कर दिया गया। दूसरी तरफ थाना ध्यक्ष सोरांव पुलिस आयुक्त द्वारा दिए गए आदेश और ज़िला अधिवक्ता संघ के निर्देश का भी पालन नहीं कर रहे हैं। जिससे अपराधियों के हौसले बुलंद हैं और अधिवक्ता व उनका परिवार भयभीत है। क्योंकि मौत का भय दिखाकर गंभीर उपस्थित करने व जमीन कब्जा करने की धमकी दी जा रही है।

अधिवक्ता मोहम्मद तबरेज निवासी मोहल्ला शेखना, तहसील सोरांव ने पुलिस आयुक्त प्रयागराज को 15 जून 23 को एक अर्जी देकर बताया था कि, प्रार्थी की एक ज़मीन आराजी संख्या 326 उसके नाम है। जिसके वे मालिक हैं। अधिवक्ता का आरोप है कि ग्रामसभा के हिस्ट्रीशीटर अपराधी वकील, अकील, हसनैन पुत्रगण खलील द्वारा एक फर्जी कूट रचित बिना आराजी नंबर का विक्रय विलेख अपने रिश्तेदार अब्दुल लतीफ के नाम अंकित करवाकर उनकी भूमि पर अपने नाजायज गैंग के सदस्यों सलमा बानो पत्नी अब्दुल लतीफ, खलील उर्फ मिजान, मोहम्मद उमर, अकील प्रार्थी से 20 लाख रुपए की रंगदारी मांग रहे हैं। न देने पर जान माल व कब्जा करने की धमकी दे रहे हैं। अधिवक्ता तबरेज का यह भी आरोप है कि 23 अप्रैल 23 की शाम करीब 7 बजे उक्त अपराधी एक राय होकर प्रार्थी की आराजी 326 पर काबिज़ होना चाहते थे। मौके पर पहुंचा तो देखा कि लोहे का रॉड गिरा कर टीन शेड उखाड़ रहे थे। मना करने पर सभी मारने पीटने लगे। किसी तरह जान बचाकर अपने कमरे में भागा तो कमरे में घुस कर बुरी तरह मारा-पीटा, कुर्ता फाड़कर 4,500 रूपया छीन लिया। आवाज सुनकर आसपास के लोग आए तो अधिवक्ता की जान बच सकी। अधिवक्ता का कहना है कि एस ओ सोरांव द्वारा मुकदमा दर्ज न करने पर जिला अधिवक्ता संघ व पीड़ित अधिवक्ता की अर्जी पर पुलिस आयुक्त ने थाना ध्यक्ष सोरांव को आदेश दिया था। लेकिन एसओ सोरांव पुलिस आयुक्त के आदेश को भी दरकिनार कर अपनी मनमानी कर रहे हैं।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें