Saturday, July 13, 2024
होमराजनीतिसीमा आज़ाद और विश्वविजय को NIA ने 12 व 14 सितंबर को...

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

सीमा आज़ाद और विश्वविजय को NIA ने 12 व 14 सितंबर को पक्ष रखने के लिए लखनऊ बुलाया

NIA ने घर में रखी सारी किताबें पढ़ीं और एक-एक साहित्य देखा, उन्हें कुछ ऐसा नहीं मिला, जिससे मेरे खिलाफ कोई केस बने : सीमा वाराणसी/ प्रयागराज। अर्बन नक्सलियों से जुड़े होने के इनपुट मिलने के बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने सामाजिक कार्यकर्त्ता और पीपुल्स यूनियन फॉर सिविल लिबरटीज (PUCL) की उत्तर प्रदेश अध्यक्ष […]

NIA ने घर में रखी सारी किताबें पढ़ीं और एक-एक साहित्य देखा, उन्हें कुछ ऐसा नहीं मिला, जिससे मेरे खिलाफ कोई केस बने : सीमा

वाराणसी/ प्रयागराज। अर्बन नक्सलियों से जुड़े होने के इनपुट मिलने के बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने सामाजिक कार्यकर्त्ता और पीपुल्स यूनियन फॉर सिविल लिबरटीज (PUCL) की उत्तर प्रदेश अध्यक्ष सीमा आजाद के मेंहदौरी स्थित घर मंगलवार को करीब 12 घंटे सर्च ऑपरेशन चलाया। एनआईए की टीम ने सीमा आजाद और उनके पति विश्वविजय से करीब 12 घंटे तक पूछताछ की और नोटिस देकर अपना पक्ष रखने के लिए आगामी 12 व 14 सितंबर को लखनऊ स्थित अपने दफ्तर बुलाया है। सर्च ऑपरेशन में टीम को एनआरसी से जुड़े दस्तावेज भी मिले हैं।

जानकारी के अनुसार, सीमा आजाद के खिलाफ एनआईआईए के पास ठोस इनपुट्स थे। यही कारण है कि टीम ने सुबह पांच बजे सीधे उनके घर में रेड डाली। उस समय तक सीमा आजाद और उनके पति विश्वविजय सो ही रहे थे। एनआईए के साथ बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स मौजूद रही। टीम ने सीमा आजाद और विश्वविजय को 12 घंटे तक ‘हाउस अरेस्ट’ रखा। इस दौरान सीमा आजाद, विश्वविजय के मोबाइल, लैपटॉप जमा कर लिए गए। इसके अलावा घर में रखे हर एक दस्तावेजों की जांच शुरू हुई। एक-एक डायरी के हर एक पन्ने टीम ने देखा। जांच में एनआरसी आंदोलन से जुड़े दस्तावेज बरामद हुए हैं। इसके अलावा राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के शक में एनआईए ने पूरे घर का एक-एक कोना 12 घंटों में खंगाल डाला। आलमारियां, दीवाल, किताबें, साहित्य सब जाँच करने के बाद एनआईए की टीम ने सुबूतों की लिस्टिंग की। करीब 26 ऐसे सुबूत एनआईए अपने साथ ले गई है, जिसके बारे में अब सीमा आजाद और उनके पति विश्वविजय से लखनऊ में पूछताछ होगी।

रिपोर्ट्स के मानें तो सीमा आजाद के घर जिस समय एनआईए रेड डाल रही थी उस समय मीडिया भी वहाँ जुट गई थी। सीमा आजाद मीडिया को देखकर घर से बाहर निकलीं और बोलीं- ‘एनआईए मेरे घर का सर्च वारंट लेकर आई थी। इस रेड की स्क्रिप्ट पहले से तैयार थी। उन्होंने घर में रखी सारी किताबें पढ़ीं और एक-एक साहित्य देखा है। उन्हें कुछ ऐसा नहीं मिला है जिससे मेरे खिलाफ कोई केस बने। टीम अपने साथ एनआरसी के पर्चे, कम्युनिस्ट पार्टी से सम्बंधित दस्तावेज, वीर बहादुर का उपन्यास रस्साकसी सहित बहुत सारा दस्तावेज अपने साथ ले गई है। बैंक खातों की जानकारी भी ली है। हमें 14 सितंबर कोसुबह 10 बजे एनआईए के लखनऊ दफ्तर में बुलाया गया है।

यह भी पढ़ें…

एनआईए ने प्रयागराज और वाराणसी समेत देश के 122 जगहों पर की छापेमारी, मानवाधिकार कार्यकर्त्ताओं को हिरासत में लिया

उल्लेखनीय है कि नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी ने मंगलवार को काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) के एक छात्र संगठन भगत सिंह स्टूडेंट मोर्चा (BSM) के दफ्तर में रेड डाली। BSM के तार छात्र आंदोलन से आगे बिहार और झारखंड के जल, जंगल और जमीन की लड़ाई से जुड़ रहे हैं। बिहार और यूपी से आई अफसरों की टीम ने यह छापा मारा। BHU-BSM की प्रेसिडेंट और छात्रा आकांक्षा आजाद और सह सचिव सिद्धि से पूछताछ हुई। आकांक्षा झारखंड और सिद्धि बनारस की ही रहने वाली हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो, BSM के सदस्यों का कहना है, ‘बिहार में अरेस्ट हुए कैमूर मुक्ति मोर्चा के रोहित और फरार चल रहे विनोद शंकर के साथ कनेक्शन और फंडिंग के बारे छात्राओं से पूछताछ की गई। करीब 9 घंटे तक सवाल-जवाब किए गए। रोहित और विनोद शंकर दोनों BHU के ही छात्र रहे हैं। आदिवासियों के साथ मिलकर कैमूर मुक्ति मोर्चा के तहत बिहार के भभुआ जिले में प्रस्तावित टाइगर रिजर्व का विरोध कर रहे थे। औरंगाबाद से लेकर कैमूर तक करीब 1300 वर्ग किलोमीटर के इलाके में टाइगर रिजर्व बनाया जाना है।’

वहीं, देवरिया के सीसी रोड पर उमानगर निवासी जनवादी क्रांति दल के महासचिव डॉ. उमानाथ चौहान के घर सुबह 5 बजे एनआईए ने छापेमारी शुरु की, जो दोपहर के ढाई बजे तक चली। डॉ. उमानाथ चौहान घोसी उपचुनाव में सामाजवादी पार्टी के प्रत्याशी सुधाकर सिंह का प्रचार कर रहे थे। उनका कहना है कि सरकार विपक्ष की आवाज को दबाना चाहती है। मेरा पुत्र राजेश चौहान आजमगढ़ में एक जमीन को लेकर धरने पर बैठा है। चौधरी ने आरोप लगाया कि मेरे बेटे को नक्सली बताकर एनकाउंटर में हत्या की जा सकती है। छापेमारी के समय डॉ. उमानाथ चौहान घर पर मौजूद नहीं थे तो एनआईए की पांच सदस्यीय टीम ने घरवालों से पूछताछ की।

यह भी पढ़ें…

ऊ कलाकारी करके का करें, जिसके सहारे परिवार का पेट ही ना पले

सूत्रों के मुताबिक, पुलिस को नक्सल फंडिंग की भनक लगी, तो पांच अगस्त को रोहित को नक्सली होने के आरोप में औरंगाबाद बिहार से अरेस्ट किया। दूसरे आरोपी विनोद शंकर पर पुलिस सरेंडर का दबाव बना रही है। दोनों आरोपी BHU में इसी संगठन से जुड़े थे। इन लोगों का झारखंड में आना-जाना और आदिवासियों के साथ बातचीत चलती रही है।

NIA अफसरों द्वारा पूछे गये सवाल :

  • तुम्हारे संगठन को फंड कौन देता है?
  • क्या ये पैसा नक्सल गैंग से आता है?
  • संगठन कैसे चल रहा है?
  • बिहार में कैमूर मुक्ति मोर्चा से जुड़े रोहित के बारे में बताओ?
  • झारखंड में कई गिरफ्तारियां हुईं, क्या आप उन्हें जानते हो। उसमें से कई तो नक्सल गैंग के लीडर हैं?
  • आप कई क्रांतिकारी और सरकार विरोधी पत्रिकाएं और अखबार क्यों छापते हो?
  • आप लोग चंदौली के जंगल और आदिवासी वाले गांवों की यात्राएं क्यों करते हो?

उत्तर प्रदेश के 8 जिलों के साथ देश भर  में  122 ज्यादा स्थानों पर एनआईए द्वारा छापेमारी की गई।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

14 COMMENTS

  1. You’re so cool! I don’t think I’ve read through a single thing like this before.
    So nice to discover another person with genuine thoughts on this subject.
    Seriously.. many thanks for starting this up. This site is
    something that’s needed on the internet,
    someone with a little originality!

  2. Undeniably believe that which you stated. Your favourite reason seemed to be on the web the
    easiest factor to bear in mind of. I say to you, I certainly get irked while other people consider issues that they plainly don’t recognise about.
    You managed to hit the nail upon the highest as well as outlined out the whole thing without having side-effects , folks could take a signal.
    Will probably be again to get more. Thanks

  3. Essay writing services offer you with accessibility to a pool of talented as well as seasoned authors who
    specialize in numerous academic fields. Whether you require a complicated
    term paper or a basic essay, these specialists have the understanding
    and also abilities to provide high-grade web content customized
    to your requirements. You can feel confident that your scholastic jobs remain in the hands of professionals who know exactly how
    to craft engaging and also well-researched documents.

  4. Are you on the hunt for a trustworthy cannabis delivery service in the vibrant city
    of Toronto? Your search ends right here, at our dependable online hub.

    Explore our extensive range of top-tier products, carefully curated to cater to your every need.
    Our commitment to quick and inconspicuous deliveries spans across the entire city.
    Don’t wait any longer – seize the opportunity to enhance your cannabis journey with the absolute
    best that Toronto’s cannabis scene has to offer!

  5. May I just say what a relief to uncover someone that actually understands what they are discussing on the
    web. You definitely know how to bring a problem to light and
    make it important. A lot more people should check this out and understand this side
    of the story. I was surprised that you’re not more popular since you certainly possess the
    gift.

  6. Oh my goodness! Incredible article dude! Thank you so much, However I am having issues with your
    RSS. I don’t understand the reason why I can’t join it. Is there anyone else having similar RSS issues?
    Anyone who knows the solution will you kindly respond? Thanx!!

    Here is my homepage: cookie clicker 2

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें