Friday, March 1, 2024
होमविविधअंडिका बाग पहुंचकर फूलपुर एसडीएम ने धरना बंद नहीं करने पर FIR...

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

अंडिका बाग पहुंचकर फूलपुर एसडीएम ने धरना बंद नहीं करने पर FIR दर्ज करने की दी धमकी

बोले किसान – जब तक प्रशासन लिखकर नहीं देगा कि किसी औद्योगिक क्षेत्र या पार्क के नाम पर उनकी जमीनें नहीं ली जाएंगी, तब तक धरना चलता रहेगा अंडिका बाग, फूलपुर आजमगढ़। पिछले 42 दिनों से अंडिका बाग में चल रहे किसानों के धरने में फूलपुर एसडीएम पुलिस बल के साथ पहुंचे और धरना बंद […]

बोले किसान – जब तक प्रशासन लिखकर नहीं देगा कि किसी औद्योगिक क्षेत्र या पार्क के नाम पर उनकी जमीनें नहीं ली जाएंगी, तब तक धरना चलता रहेगा

अंडिका बाग, फूलपुर आजमगढ़। पिछले 42 दिनों से अंडिका बाग में चल रहे किसानों के धरने में फूलपुर एसडीएम पुलिस बल के साथ पहुंचे और धरना बंद करने को कहा और न मानने पर मुकदमा करने की धमकी दी। आंदोलनकारी महिलाओं ने कहा कि जब तक यह स्पष्ट नहीं हो जाता है कि हमारी जमीन नहीं ली जाएंगी तब तक धरना चलेगा। एसडीएम ने जहां धरना चल रहा है उस व्यक्ति पर मुकदमे की बात कही तो ग्रामीणों ने कहा कि मुकदमा करना है तो सभी पर करिए हम मुकदमे से नहीं डरते।

एसडीएम ने कहा कि आप कि जमीन नहीं ली जाएगी। ग्रामीणों ने कहा कि आखिर में फिर अखबारों में क्यों आ रहा है कि हमारी जमीनों का सर्वे कर लिया गया है और औद्योगिक क्षेत्र और पार्क के लिए जमीनों का अधिग्रहण किया जाएगा। आखिर में यूपीडा और विशेष भूमि अधिपति अधिकारी (स.स.), आजमगढ़ कार्यालय क्यों इस बात के लिए पत्र जारी कर रहे हैं कि औद्योगिक क्षेत्र, पार्क के लिए जमीनें ली जाएंगी। एसडीएम ने कहा कि ऐसा कुछ नहीं है। धरनारत किसानों मजदूरों ने कहा कि ऐसा नहीं है तो बार-बार अखबारों में क्यों आ रहा है कि हमारी जमीनों का यूपीडा द्वारा चिन्हीकरण कर लिया गया है और जिलाधिकारी का बयान है की सर्वे कर रिपोर्ट भेज दी गई है।

ग्रामीणों ने कहा कि फरवरी में जब सर्वे किया जा रहा था तो एसडीएम फूलपुर से मुलाकात करके पूछा गया था कि आखिर क्यों सर्वे किया जा रहा है। एसडीएम ने कहा था कि हम आपको बता देंगे लेकिन आज तक नहीं बताया गया। भूमि अधिग्रहण कानून है तो फिर उसका पालन न करके किसने सर्वे किया और किस आधार पर अखबारों में खबरें प्रकाशित हो रही हैं जिसमें जिलाधिकारी तक के बयान हैं।

अंडिका बाग की महिलाओं ने साफ तौर पर कहा कि प्रशासन जब तक लिखकर नहीं देता कि कोई सर्वे नहीं किया गया, किसी औद्योगिक क्षेत्र, पार्क के लिए उनकी जमीनों का अधिग्रहण नहीं किया जाएगा तब तक धरने पर बैठे रहेंगे। आजमगढ़ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दौरे को लेकर प्रशासन किसानों पर दबाव बना रहा है। 42वें दिन धरने पर पूर्वांचल किसान यूनियन महासचिव वीरेंद्र यादव, तारा देवी, कौशिल्या, मेवाती, विद्या, गीता, शशिकला मौजूद रहे।

वीरेन्द्र यादव पूर्वांचल किसान यूनियन के महासचिव हैं।

गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें