Friday, June 14, 2024
होमविचारजातिगत अहंकार की पराकाष्ठा है आदिवासी पर मूत्र विसर्जन

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

जातिगत अहंकार की पराकाष्ठा है आदिवासी पर मूत्र विसर्जन

गत 6 जुलाई (2023) को मध्यप्रदेश के सीधी में प्रवेश शुक्ला नाम के भाजपा कार्यकर्ता ने एक आदिवासी युवक पर पेशाब कर दी। प्रवेश उस इलाके के भाजपा विधायक के प्रतिनिधि रहे हैं। प्रवेश के इस कुकृत्य का उसके दोस्त दीप नारायण साहू ने वीडियो बना लिया। जिस आदिवासी पर प्रवेश ने पेशाब की थी […]

गत 6 जुलाई (2023) को मध्यप्रदेश के सीधी में प्रवेश शुक्ला नाम के भाजपा कार्यकर्ता ने एक आदिवासी युवक पर पेशाब कर दी। प्रवेश उस इलाके के भाजपा विधायक के प्रतिनिधि रहे हैं। प्रवेश के इस कुकृत्य का उसके दोस्त दीप नारायण साहू ने वीडियो बना लिया। जिस आदिवासी पर प्रवेश ने पेशाब की थी वह तो डर के मारे चुप रहा, परन्तु किसी दूसरे ने यह वीडियो वायरल कर दिया।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने दावा किया कि पीड़ित का नाम दशमथ रावत है। दशमथ ने इसका खंडन भी किया है।

वीडियो के वायरल होने के बाद मचे बवाल को ठंडा करने के लिए मुख्यमंत्री ने दशमथ को अपने घर बुलवाया, उसे माला पहनाई, उसके पैर धोए और उसे पैसे भी दिए। मुख्यमंत्री ने घटना के पीछे जातिवाद होने से इंकार किया। उन्होंने कहा कि अपराधियों की कोई जाति नहीं होती, परन्तु सच यह है कि यह घटना आदिवासियों के दमन और उच्च जातियों के अहंकार का जीता-जागता उदाहरण है।

मुख्यमंत्री ने प्रवेश शुक्ला के घर बुलडोज़र भी भेजे और उसके घर का अवैध हिस्सा गिरा दिया। मध्यप्रदेश में चुनाव नज़दीक हैं और ऐसे में मुख्यमंत्री का प्रायश्चित की मुद्रा में आ जाना आश्चर्यजनक नहीं है। ना ही दशमथ का पैर धोना, उसे माला पहनाना और उसे पैसे देना आश्चर्यजनक है। इस कुत्सित घटना पर जानी-मानी भोजपुरी गायिका नेहा सिंह राठौर ने एक कार्टून सोशल मीडिया पर पोस्ट किया। इसके बाद उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गयी।

यह घटना बताती है कि मध्यप्रदेश और देश के दूसरे हिस्सों में आदिवासियों की क्या स्थिति है। आदिवासियों पर अत्याचार की घटनाएं लगातार हो रही हैं। मध्यप्रदेश की कुल आबादी में आदिवासियों का प्रतिशत 21 है। दशमथ कोल आदिवासी हैं, जो प्रदेश की तीसरी सबसे बड़ी जनजाति है। राज्य में 47 विधानसभा क्षेत्रों और सात लोकसभा क्षेत्रों में आदिवासी वोट महत्वपूर्ण है। पिछले चुनाव में कांग्रेस को आदिवासी इलाकों में बहुमत मिला था और इसके चलते ही कमलनाथ मुख्यमंत्री बन सके थे। यह अलग बात है कि ऑपरेशन कमल के तहत, कमलनाथ की सरकार को गिरा दिया गया और शिवराज मुख्यमंत्री बने।

आदिवासियों के मामले में भाजपा की दोहरी नीति है। ऐसा दावा किया जाता है कि आदिवासी हिन्दू हैं। सच यह है कि आदिवासियों की संस्कृति एकदम अलग है और वे अपनी आस्थाओं और धर्म को अलग नज़रिए से देखते हैं। भाजपा के पितृ संगठन आरएसएस ने आदिवासियों का हिन्दुकरण करने और उन्हें संघ के झंडे तले लाने के लिए वनवासी कल्याण आश्रम की स्थापना की थी। संघ परिवार उन्हें आदिवासी नहीं कहता। वह केवल उन्हें वनवासी बताता है। कारण यह कि हिन्दू राष्ट्रवाद की पूरी इमारत इस नींव पर टिकी हुई है कि भारत भूमि में हिन्दू अनादि काल से रह रहे हैं। ऐसे में अगर आदिवासियों को इस देश का मूल निवासी मान लिए जायेगा तो हिन्दू राष्ट्रवाद की इमारत भरभरा कर गिर जाएगी।

वनवासी कल्याण आश्रम ख़ासा सक्रिय रहा है, विशेषकर गुजरात के डांग, मध्यप्रदेश के झाबुआ और ओडिशा के कंधमाल इलाकों में। इन इलाकों में विभिन्न सांस्कृतिक उपायों के ज़रिये वह ब्राह्मणवाद को फैलाने का प्रयास कर रहा है। कुछ आदिवासियों नायकों को चुनकर उनका ज़बरदस्त महिमामंडन किया जा रहा है। डांग में शबरी मंदिर बन गए हैं, शबरी कुम्भ आयोजित होते हैं और भगवान हनुमान को आदिवासियों के ‘सबसे बड़े देव’ के रूप में प्रस्तुत किया जा रहा है। कंगाल और बदहाल शबरी को आदिवासियों की नायिका के रूप में प्रस्तुत करने का उद्देश्य शायद यह है कि उन्हें अपनी वंचना और निर्धनता पर कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए। रामायण के अनुसार, शबरी ने भगवान राम को इसलिए बेर खिलाए, क्योंकि उसकी माली हालत ऐसी थी ही नहीं कि वह अपने मेहमान को कुछ और परोस सकती। डांग और मध्यप्रदेश के आदिवासी जिलों में शबरी कुंभ इसलिए आयोजित किए जा रहे हैं, ताकि आदिवासियों को सांस्कृतिक दृष्टि से हिन्दुत्व से जोड़ा जा सके। भगवान हनुमान को भी आदिवासियों के देव के रूप में प्रतिष्ठित किया जा रहा है। हमें इस बात पर विचार करना होगा कि क्या कारण है कि भाजपा-आरएसएस आदिवासी इलाकों में हनुमान की भक्त है और गैर-आदिवासी इलाकों में राम की।

यह भी पढ़ें…

पटकथा के एक पात्र भर हैं सीधी के शुकुल, पिक्चर अभी बाकी है

इसके अतिरिक्त आदिवासी क्षेत्रों में आदिवासी नायकों को मुसलमानों के विरोधी या शत्रु के रूप में प्रस्तुत किया जाता है। राजभर समुदाय के मामले में सुहेल देव को भी इसी उद्देश्य से नायक निरूपित किया जा रहा है। मध्यप्रदेश में वीरांगना दुर्गावती गौरव यात्रा निकाली जा चुकी है और एक अन्य आदिवासीरानी कमलापति का भी महिमामंडन किया जा रहा है। भोपाल के हबीबगंज रेलवे स्टेशन को रानी कमलापति का नाम दे दिया गया है और उनपर केन्द्रित एक संग्रहालय स्थापित किया जा रहा है। राज्य में कोल जयंती महाकुंभ का आयोजन भी किया जा चुका है जिसका उद्देश्य इस समुदाय को भाजपा के पक्ष में मतदान करने के लिए प्रेरित करना और उसे उच्च जातियों की राजनीति का हिस्सा बनाना था।

वनवासी कल्याण आश्रम इन समुदायों में सेवा कार्य भी कर रहा है। कुल मिलाकर उन्हें हिन्दू उच्च जातियों के संस्कारोंप्रथाओं और परंपराओं का पालन करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है।

इसके समानांतर आदिवासी क्षेत्रों में काम कर रही ईसाई मिशनरियों को निशाना बनाया जा रहा है। ईसाई मिशनरियां मुख्यतः स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में काम कर रही हैं, जिसके चलते आदिवासी उनकी ओर आकर्षित हो रहे हैं। शिक्षा आदिवासियों को सशक्त कर रही है। ईसाई मिशनरियों के विरुद्ध हिंसा बीच-बीच में भीषण स्वरूप ले लेती है। ऐसी घटनाओं में झाबुआ में ननों के साथ बलात्कारओडिशा में पॉस्टर स्टेन्स की जिंदा जलाकर हत्या और अगस्त 2008 में कंधमाल में हुई हिंसा शामिल है।

मध्यप्रदेश के सीधी जिले के मूत्र विर्सजन कांड से यह साफ है कि जातिगत ऊँच-नीच का अब भी हमारे समाज में बोलबाला है। अन्य हाशियाग्रस्त समुदायों की तरह आदिवासी भी बदहाल हैं। संघ परिवार आदिवासियों के सशक्तीकरण में तनिक भी रूचि नहीं रखता। ऊँची जातियों और समृद्ध वर्ग का आतंक इतना ज्यादा है कि आदिवासियों के विरुद्ध हिंसाअत्याचार और दमन के मामले दर्ज ही नहीं किए जाते। नेशनल कोइलिशन फॉर स्ट्रेन्थरिंग एससीसज़ एंड एसटीज़ के अनुसार, एससी-एसटी अत्याचार निवारण अधिनियमसंवैधानिक प्रावधानों और अदालतों के दिशा निर्देशों के बावजूद पूरे देश में दलित और आदिवासी समुदाय सबसे बदहाल हैं। वे न केवल जाति प्रथा के शिकार हैं वरन् उन्हें संस्थागत भेदभाव और सामाजिक बहिष्कार का सामना भी करना पड़ता है। कोइलिशन की रिपोर्ट के अनुसार, सन 2021 में अनुसूचित जातियों पर अत्याचार की घटनाओं में 6.4 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है। सन 2021 में ऐसी घटनाओं में से सबसे अधिक 29.8 प्रतिशत मध्यप्रदेश में हुईं। इसके बाद राजस्थान (24 प्रतिशत) और ओडिशा (6.4 प्रतिशत) थे।

यह भी पढ़ें…

मिशन-2024 के लिए विपक्ष की 26 पार्टियां एक साथ, अब नहीं होगी एनडीए की राह आसान

भाजपा और उसके संगी-साथी केवल भावनात्मक और प्रतीकात्मक अभियानों से आदिवासियों के वोट हासिल करना चाहते हैं। वे उनका हिन्दूकरण तो करना चाहते हैं, परंतु उनपर उच्च जातियों का वर्चस्व बनाए रखना चाहते हैं। एक घृणास्पद अपराध के शिकार के पैर धोना और उसके परिवार को लाख रुपये देना केवल प्रतीकात्मक कार्यवाही है। संघ परिवार को आदिवासी क्षेत्रों में अपने अभियानों और कार्यों पर तनिक भी पछतावा या दुःख नहीं है।

(अंग्रेजी से रूपांतरण अमरीश हरदेनिया)

 

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें