Monday, June 24, 2024
होमराजनीतिगंगानगर में बुनियादी सुविधाएं और बेरोजगारों को रोजगार देने की मांग

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

गंगानगर में बुनियादी सुविधाएं और बेरोजगारों को रोजगार देने की मांग

15 जून को गेवरा एसईसीएल का घेराव करेगी माकपा गेवरा (कोरबा)। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी और छत्तीसगढ़ किसान सभा ने घाटमुड़ा से विस्थापित और गंगानगर में पुनर्वासित परिवारों की लंबित समस्याओं को लेकर गेवरा एसईसीएल कार्यालय का 15 जून को घेराव करने की घोषणा की है। इस संबंध में एक ज्ञापन भी महाप्रबंधक एसके मोहंती को […]

15 जून को गेवरा एसईसीएल का घेराव करेगी माकपा

गेवरा (कोरबा)। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी और छत्तीसगढ़ किसान सभा ने घाटमुड़ा से विस्थापित और गंगानगर में पुनर्वासित परिवारों की लंबित समस्याओं को लेकर गेवरा एसईसीएल कार्यालय का 15 जून को घेराव करने की घोषणा की है। इस संबंध में एक ज्ञापन भी महाप्रबंधक एसके मोहंती को ज्ञापन सौंपा गया है।

उल्लेखनीय है कि एसईसीएल की गेवरा परियोजना के लिए वर्ष 1980-81 में घाटमुड़ा के 75 परिवारों को विस्थापित किया गया था तथा 25 एकड़ के प्लॉट में गंगानगर ग्राम में उन्हें बसाया गया था। लेकिन पुनर्वास के 40 सालों बाद भी यह गांव बुनियादी मानवीय सुविधाओं स्कूल, आंगनबाड़ी, अस्पताल, बिजली, पानी, सड़क, स्ट्रीट लाइट, गौठान, मनोरंजन गृह, पार्क, तालाब, खेल मैदान आदि से वंचित हैं, जिसे उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी एसईसीएल प्रबंधन की थी। एसईसीएल की इस उदासीनता के खिलाफ माकपा के झंडे तले पिछले दो सालों से ग्रामीण लगातार आंदोलन कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें…

पश्चिम बंगाल के पंचायत चुनाव में टीएमसी पर लोकतंत्र की हत्या का आरोप, मुर्शिदाबाद में कांग्रेसी कार्यकर्ता की हत्या

माकपा जिला सचिव प्रशांत झा ने कहा कि जहां एसईसीएल गेवरा में दुनिया के सबसे बड़े कोयला खदान के संचालन और सबसे ज्यादा कोयला के उत्पादन का दावा करता है, वहीं दूसरी ओर गेवरा खदान के लिए जमीन देने वाले भू-विस्थापित परिवार रोजगार के साथ बुनियादी सुविधाएं पाने के लिए भटक रहे है। जमीन अधिग्रहण के बाद गांव में बेरोजगारों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।

किसान सभा के जिलाअध्यक्ष जवाहर सिंह कंवर, दीपक साहू, जय कौशिक, माकपा पार्षद राजकुमारी कंवर आदि ने कहा है कि विकास के नाम पर अपनी गांव और जमीन से बेदखल कर दिये गए परिवारों की दशा बदतर हो गई है। कोयला खदानों के अस्तित्व में आ जाने के बाद इन विस्थापित किसानों और उनके परिवारों की सुध न तो एसईसीएल और न ही सरकार ने ली। इसलिए भू-विस्थापित परिवारों के पास अपने अधिकारों को पाने के लिए संघर्ष के अलावा और कोई रास्ता नहीं बचा है।

यह भी पढ़ें…

मूलभूत सुविधाओं के अभाव में पहाड़ों से बढ़ रहा है पलायन

ज्ञापन सौंपने में माकपा जिला सचिव प्रशांत झा, माकपा पार्षद राजकुमारी कंवर, किसान सभा के जिलाअध्यक्ष जवाहर सिंह कंवर, संजय यादव, देवकुंवर, जानकुंवर, शशि कंवर, रूषा बाई, गणेशकुंवर, सुमित्रा, पुरुषोत्तम, संतोषी, पुष्पा, बनवासा बाई, बसंतबाई, चमरिन बाई, संतरा बाई, सुनीबाई, जानकी यादव, अहिल्या, रामकली, लक्षन बाई के साथ बड़ी संख्या में गंगानगर के भूविस्थापित उपस्थित थे।

प्रशांत झा माकपा (कोरबा) के जिला सचिव हैं।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें