Monday, June 24, 2024
होमविचारमैं नफरत के बाजार में मोहब्बत की दुकान खोलने के लिए निकला...

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

मैं नफरत के बाजार में मोहब्बत की दुकान खोलने के लिए निकला हूं

सोमवार यानी 19 दिसंबर को राजस्थान के अलवर में एक विशाल जनसभा को संबोधित करने के लिए जब राहुल गांधी मंच पर आए, तब सामने बैठी जनता के बीच से कुछ युवाओं ने राहुल गांधी को फ्लाइंग किस किया। बदले में राहुल गांधी ने भी फ्लाइंग किस करके प्यार भरा उत्तर दिया। लेकिन जनता के […]

सोमवार यानी 19 दिसंबर को राजस्थान के अलवर में एक विशाल जनसभा को संबोधित करने के लिए जब राहुल गांधी मंच पर आए, तब सामने बैठी जनता के बीच से कुछ युवाओं ने राहुल गांधी को फ्लाइंग किस किया। बदले में राहुल गांधी ने भी फ्लाइंग किस करके प्यार भरा उत्तर दिया।

लेकिन जनता के इस प्यार भरे फ्लाइंग किस ने सभा का रुख ही बदल दिया। राहुल गांधी ने भारत जोड़ो यात्रा के स्मरण सुनाते हुए शायराना अंदाज में भारतीय जनता पार्टी को कुछ इस तरह से भाजपा के प्रश्न का जवाब दिया। मैं नफरत के बाजार में मोहब्बत की दुकान खोलने के लिए निकला हूं। दरअसल, राहुल गांधी ने झालावाड़ और दोसा की घटनाओं का जिक्र करते हुए यह बात कही थी कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता रास्ते में पड़ने वाले उनकी पार्टी के ऑफिस की छतों पर खड़े होकर मुझसे इशारा करके पूछते थे कि आप भारत जोड़ो यात्रा क्यों निकाल रहे हैं? राहुल गांधी ने अलवर में भाजपा के कार्यकर्ताओं और नेताओं को जवाब दिया कि मैं नफरत के बाजार में मोहब्बत की दुकान लगाने निकला हूं।

राहुल गांधी का यह शायराना अंदाज प्यार भरा भी था और गंभीर भी। राहुल ने यहां तक कहा कि मुझे BJP के कार्यकर्ता बहुत अच्छे लगते हैं। मैं उनसे नफरत नहीं करता, बल्कि उन्हें प्यार करता हूं। राहुल गांधी ने BJP के कार्यकर्ताओं और नेताओं को संदेश दिया कि वह भी नफरत छोड़ें और भारत जोड़ें। भारत जोड़ो यात्रा का राजस्थान में अलवर के अंदर अंतिम पड़ाव है। इसके बाद यह यात्रा हरियाणा में प्रवेश कर जाएगी।

राहुल गांधी के चेहरे पर थकान नहीं थी, बल्कि एक आत्मविश्वास था। आत्मविश्वास शायद इसलिए था क्योंकि भारत जोड़ो यात्रा राजस्थान में आकर सबसे अधिक सफल यात्रा रही। राजस्थान में प्रवेश करने से पहले राजनीतिक पंडित और मीडिया भारत जोड़ो यात्रा को चुनौती दे रहा था कि राहुल गांधी राजस्थान में यात्रा निकालकर सफल होकर दिखाएँ।

कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा ने अन्य सभी राज्यों का रिकॉर्ड तोड़ते हुए राजस्थान में सफलता का नया इतिहास बनाया। यही नहीं राहुल गांधी इसलिए भी खुश नजर आए, क्योंकि अलवर की जनसभा के मंच पर पहली बार उन नेताओं को भी देखा गया है जो नेता 25 नवंबर की घटना के जिम्मेदार थे? राहुल गांधी राजस्थान के नेताओं की एक-दूसरे के प्रति नाराजगी को भी दूर करने में सफल हुए। अशोक गहलोत और सचिन पायलट एक साथ मुस्तैदी से राहुल गांधी के साथ कदमताल करते हुए दिखाई दिए।

यह भी पढ़ें…

पूर्वान्चल में बुनकरों को सरकारी राहत योजनाओं के लाभ की वास्तविकता

यदि राजनीतिक गलियारों और मीडिया के भीतर यह चर्चा हो कि कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा से राजस्थान कांग्रेस को क्या मिला तो इसका जवाब यह है कि राहुल ने राजस्थान में यात्रा कर कांग्रेस के नेताओं के दिलों को जोड़ा।

अशोक गहलोत और सचिन पायलट बात करने लगे। 2023 में कांग्रेस लगातार दूसरी बार सत्ता में आएगी? राजस्थान में भारत जोड़ो यात्रा के दरमियान कांग्रेस को राष्ट्रीय प्रभारी महामंत्री मिला। सवाल यह है कि राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा हरियाणा चली जाएगी। राजस्थान के जिन नेताओं को जोड़कर राहुल गांधी हरियाणा जाएंगे उन नेताओं का जुड़ाव 2023 में कांग्रेस की सरकार बनने तक जुड़ा रहेगा?

देवेंद्र यादव कोटा स्थित वरिष्ठ पत्रकार हैं।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें