Saturday, April 13, 2024
होमराजनीतिकांग्रेस के अध्यक्ष का सवाल और अशोक गहलोत

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

कांग्रेस के अध्यक्ष का सवाल और अशोक गहलोत

देश एक बड़े राजनीतिक संकट से गुज़र रहा है, इस संकट की बुनियाद में पूँजीवादी लूट को सहज और सुगम बनाने की साजिश है जिसे अमूमन सियासी बहसों से बाहर रखने की कोशिश की जाती हैI कांग्रेस का अध्यक्ष कौन बने और कौन भारतीय जनता पार्टी के एकाधिकारवादी रवैये का मुकाबला करे और कैसे करे, […]

देश एक बड़े राजनीतिक संकट से गुज़र रहा है, इस संकट की बुनियाद में पूँजीवादी लूट को सहज और सुगम बनाने की साजिश है जिसे अमूमन सियासी बहसों से बाहर रखने की कोशिश की जाती हैI कांग्रेस का अध्यक्ष कौन बने और कौन भारतीय जनता पार्टी के एकाधिकारवादी रवैये का मुकाबला करे और कैसे करे, ये दोनों सवाल आपस में जुड़े हुए हैंI

कांग्रेस को एक वंशवादी पार्टी कहा जाता है और ये अनुशंसा की जाती है कि गाँधी-नेहरू परिवार को कांग्रेस की लीडरशिप से अलग हो जाना चाहिए, इससे कांग्रेस का प्रदर्शन अच्छा होगा, क्या इस अनुशंसा में कोई दम है? इस पर आगे चर्चा करेंगेI

एक राजनीतिक दल क्या सिर्फ़ अपने संगठन और लीडरशिप की बदौलत किसी देश में हुकूमत करने की सलाहियत पैदा कर सकता है? क्या सियासी नज़रिए और सियासी प्रोग्राम का भी एक पार्टी की तरक्क़ी में कोई भूमिका है, इस पर भी विचार किया जाएगा I

गाँधी-नेहरू परिवार से बाहर कई लोग हैं, जिन्हें कांग्रेस का अध्यक्ष बनाये जाने पर चर्चा हो रही हैI इन चर्चाओं में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का नाम सबसे ऊपर हैI इसलिए ये देखना ज़रूरी है कि आज के सियासी परिप्रेक्ष्य में अशोक गहलोत को कांग्रेस की कमान सौंपना सही फ़ैसला होगा या नहीं!

कांग्रेस की आलोचना में ये बात अक्सर कही जाती है कि इसे गाँधी-नेहरू परिवार से आज़ाद किया जाना चाहिए या कि कांग्रेस एक ही परिवार की जागीर बनकर रह गई हैI लेकिन ये आलोचना पक्षपातपूर्ण भी हैI देश की सभी पार्टियों में कुछ ख़ानदानों के ही लोग मुख्य सियासत कर रहे हैंI समाजवादी पार्टी में मुलायम सिंह के बाद उनके बेटे अखिलेश, राजद में लालू के बाद उनके बेटे तेजस्वी, इसी तरह दक्षिण की भी पार्टियों को देखा जा सकता हैI ये तो वंशवाद की एक शक्ल हैI वंशवाद की दूसरी शक्ल है, जिसमें एक सांसद या विधायक की संतान अपने पिता के सहयोग से सियासत में करियर बनाती हैI सभी पार्टियों के नेताओं को देखें, आप पाएंगे कि उनकी संतानों ने सियासत में जो मुकाम हासिल किया है वो अपने बल पर नहीं बल्कि अपने पिताओं के बल पर ही हासिल किया हैI इसलिए ये तर्क कि बस नेहरू-गाँधी परिवार को वंशवाद से दूर रहना चाहिए, नेहरू-गाँधी परिवार के ख़िलाफ़ साजिश के सिवा और कुछ नहीं हैI

सियासी दलों में पार्टी के ताक़तवर नेताओं के प्रति वफ़ादारी भी एक बहुत बड़ा गुण माना जाता है, अभी सोशल मीडिया में एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक सांसद गृहमंत्री के जूते उठाकर उनके पैरों के पास रख रहा हैI इस तरह के हरकत की कोई ज़रुरत नहीं है, लेकिन सार्वजनिक रूप से एक सांसद का ऐसा करना पार्टी के ताक़तवर नेताओं की कृपा और पार्टी लोकतंत्र के बारे में बहुत कुछ कहता हैI

वंशवाद को लेकर ये भी देखना ज़रूरी है कि क्या आम जनता को इससे कोई परेशानी है? अगर ऐसा होता तो सभी राजनेताओं की संतानें जनता का वोट हासिल कर सियासत में शानदार मुक़ाम हासिल नहीं कर पातीI इसलिए ऐसा लगता है कि नेहरू-गाँधी परिवार को लेकर वंशवाद की बहस करने वाले कांग्रेस पार्टी के ही वो नेता हैं, जिन्हें लगता है कि नेहरू-गाँधी परिवार को रिप्लेस करके वो और उनका खानदान पार्टी पर कब्ज़ा कर सकता हैI

इसके बावजूद वंशवाद है तो ग़लत ही, तमाम पार्टियों में काबिल और योग्य कार्यकर्ताओं को आगे बढ़ने का अवसर नहीं मिल पाता क्योंकि, बड़े नेता अपने ही संतानों को आगे बढ़ाने की कोशिश करते हैंI लेकिन इस बीमारी को पूरे राजनीतिक परिप्रेक्ष्य में देखना होगा और देश के स्तर पर इस बहस को आगे बढ़ाना होगा, ताकि जनता तय करे कि उसे वंशवादियों को सपोर्ट करना है या नहीं, अकेले कांग्रेस के संदर्भ में इस बहस को उचित नहीं ठहराया जा सकताI इसके बावजूद भी क्या वंशवाद ख़त्म हो सकता है? दरअसल, राजनीति अब सेवा नहीं व्यवसाय हैI एक नौकरी करने वाला आदमी जीवन भर इतने पैसे नहीं जोड़ पाता है कि वो अपने लिए एक ढंग का मकान भी बना ले, लेकिन सांसद और विधायक अपनी आमदनी से हज़ार गुना ज़्यादा संपत्ति इकठ्ठा कर लेते हैं और उनसे जनता, मीडिया और सियासत कोई सवाल नहीं करताI ऐसे में हजारों करोड़ का लाभ देने वाले व्यवसाय को कोई अपनी संतान के बजाय किसी और को सौपेंगा, ये सोचना ही बेमानी हैI हाँ, जिस दिन देश की जनता इस मुद्दे पर सोचने लगेगी, हालात बदल जाएँगेI

पिछले लगभग तीन-दहाई का राजनीतिक इतिहास कांग्रेस के तेज़ी से डाउनफाल का इतिहास हैI इस दौर की दो मुख्य धाराएँ हैं जिन पर विचार किए बिना कांग्रेस के डाउनफाल को नहीं समझा जा सकताI ये वही वक्त है जब देश में आर्थिक संकट बढ़ा है लेकिन कांग्रेस इन हालात से निपटने का कोई माकूल तरीका इज़ाद नहीं कर पाई है, हालांकि उसके पास मनमोहन सिंह जैसे अर्थशास्त्री भी थेI ये वही दौर है जब जीवन से जुड़े मुद्दों पर बहस को दरकिनार करने के लिए जाति और धर्म के मुद्दे पर सियासत हुई और इसे जनता का व्यापक समर्थन मिला, आगे चलकर जाति आधारित सियासत को धर्म आधारित सियासत निगल गयीI साम्प्रदायिक सियासत को जन-जन तक पहुँचाने में कॉर्पोरेट मीडिया ने भी भरपूर योगदान दियाI इस पूरे दौर में साम्प्रदायिकता के ज़रिये राजनीतिक ध्रुवीकरण का मुकाबला करने का कोई तरीका कांग्रेस नहीं निकाल पाईI दरअसल, कांग्रेस के दामन पर भी साम्प्रदायिक सियासत के दाग हैं जिन्हें मिटाने की उसने कोई कोशिश नहीं की बल्कि समय-समय पर इस दाग को और गाढ़ा ही किया है, ताकि लोग इसे देख सकेंI इसके अलावा पिछले कुछ दशकों में जिस तेज़ी से बहुसंख्यक जनता का साम्प्रदायिक सियासत ने ध्रुवीकरण किया है, उसने जहाँ भाजपा को फ़र्श से अर्श पर पहुँचाया, वहीं दूसरी पार्टियों से चुनाव जिताऊ मुद्दे भी छीन लिएI

यह भी पढ़ें…

कहाँ है ऐसा गाँव जहाँ न स्कूल है न पीने को पानी

हिंदुत्व की सियासत को छोड़ दिया जाए तो दूसरी सभी पार्टियाँ तात्कालिक जीत को मद्देनज़र रखकर सियासत करती हैं, ऐसे में बहुसंख्यक तुष्टिकरण के मैदान में ही सभी खेलने लगते हैं, नतीजा सबके सामने हैI उग्र हिंदुत्व के सामने कांग्रेस सहित सभी दूसरी पार्टियों का नर्म हिंदुत्व लगातार परास्त हो रहा है लेकिन इससे सबक लेने को कोई तैयार नहीं हैI

आज कांग्रेस देश को जोड़ने के लिए बड़े पैमाने पर कार्यक्रम बना रही है, राहुल गाँधी देश के एक सिरे से दूसरे सिरे तक पैदल यात्रा करने जा रहे हैं, लेकिन उन्होंने या उनकी पार्टी ने साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण और कॉर्पोरेट लूट के विरुद्ध कोई कार्यक्रम जनता से साझा नहीं किया हैI ऐसे में कांग्रेस का अध्यक्ष कोई भी हो देश पर उसका कोई असर नहीं पड़ेगाI नेहरू गाँधी परिवार कांग्रेस में रहे या पार्टी ही छोड़ दे, कांग्रेस की सेहत पर सकारात्मक असर नहीं पड़ेगा हाँ पार्टी ज़रूर बिखर जाएगी, क्योंकि तब पार्टी हथियाने के लिए कई नेता आपस में ही लड़ने लगेंगेI

अंतिम सवाल, क्या अशोक गहलोत कांग्रेस के अध्यक्ष बनकर पार्टी को प्रगति पथ पर ले जा सकेंगे? हालांकि, नीति और कार्यक्रम पर काम किए बिना सिर्फ़ नेता बदलने से बहुत ज्यदा फ़र्क नहीं पड़ता, बावजूद इसके किसी पार्टी का नेता पार्टी को दिशा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैI उदाहरण के लिए बिहार के संदर्भ में माना जाता है कि लालू यादव के जेल जाने से बिहार ही नहीं केंद्र की सियासत में भी भाजपा को आसानी हुई है और विपक्ष कमज़ोर हुआ हैI इसलिए ये बहुत महत्वपूर्ण है पार्टी का नेता ऐसा हो जो तात्कालिक चुनौतियों का सामना भी करे और पार्टी को एकजुट रखकर निश्चित दिशा में आगे बढ़ेI इन मापदंडों पर अशोक गहलोत को देखा जाना चाहिएI

ये बात बहुत दिलचस्प है कि 1971 में जब अशोक गहलोत पर इंदिरा गाँधी की नज़र पड़ी तब वो बंगलादेशी शरणार्थियों की सेवा में लगे हुए थे, गहलोत साहब की सांगठनिक क्षमता ने गाँधी को बहुत प्रभावित किया था और इसी वजह से उन्होंने गहलोत साहब को NSUI का राज्याध्यक्ष बनाया थाI इसके बाद वे लगातार सियासत में एक के बाद एक कामयाबी हासिल करते रहे, पार्टी में भी समय-समय पर महत्वपूर्ण भूमिका निभाईI बावजूद इसके पार्टी और पार्टी के बाहर से उन्हें चुनौतियाँ भी मिलीं, लेकिन इनका उन्होंने बड़ी कामयाबी से  सामना किया, राजनीति एवं कूटनीति दोनों के इस्तेमाल में इन्होंने ख़ुद को साबित किया हैI

हाल के दिनों में कांग्रेस पार्टी के भीतर सचिन पायलट की ओर से इन्हें ज़ोरदार चुनौती मिली है, जनता के भी एक खेमे की ओर से कहा जा रहा था कि गहलोत साहब को खुद सचिन जैसे युवा को नेतृत्व सौंपकर खुद उनका मार्गदर्शक बनना चाहिए, लेकिन गहलोत साहब न सिर्फ़ आज भी मुख्यमंत्री हैं बल्कि पार्टी में भी एकता बनाए रखने में सफल हुए हैंI गहलोत साहब के राजनीतिक जीवन को देखने से ये बात तो बिलकुल साफ़ है कि वे अच्छे संगठनकर्ता हैं और अपने विरोधियों से भी तालमेल मिलाकर चलना जानते हैंI लेकिन इन सबके बावजूद उनके प्रशासन पर कुछ दाग धब्बे भी हैंI

राजस्थान उन राज्यों में से है, जहाँ दलितों में पर आए दिन जातिगत अत्याचार होते रहते हैंI भंवरी देवी के केस ने तो अन्तराष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियाँ बटोरी थींI लेकिन राज्य की सत्ता कांग्रेस के हाथ में हो या भाजपा के, दलितों के उत्पीड़न पर प्रशासन का रवैया एक जैसा रहता हैI पानी का मटका छू लेने से एक बच्चे की पिटाई और परिणामस्वरूप उसकी मौत के मामले में भी गहलोत प्रशासन पर सवाल उठे हैंI इसी तरह कांग्रेस के ही दौरे हुकूमत में हिन्दू-मुसलमान दंगे हुए, (ऐसे हर दंगे में मुख्यतः मुसलमानों का ही जानमाल का नुकसान होता है, इसलिए इसे दंगा कहने के बजाय हमला कहना चाहिए, लेकिन ऐसे हर मामले को दंगा ही कहने का चलन हैI) ऐसे मामलों में मुसलमानों के प्रति कांग्रेस प्रशासन का रवैया न्यायसंगत नहीं रहा है, पिछले साल की घटना जो पहलू खान के साथ घटित हुई, उस मामले में भी कांग्रेस के इस पुराने रवैये को देखा जा सकता हैI

यानि देश के स्तर पर जो हालत कांग्रेस की है, यानि साफ्ट हिंदुत्व का दामन पकड़े हार्ड हिंदुत्व से पिटते रहना, गहलोत भी उसी राह के राही हैंI इसलिए विचारधारात्कम तल पर अशोक गहलोत कांग्रेस में कोई बदलाव कर पाएँगे, इसकी दूर-दूर तक कोई संभावना नज़र नहीं आतीI सांगठनिक स्तर पर काम करते हुए उन्होंने अपने को बार-बार साबित किया है, लेकिन जब वो राज्य से बाहर देश के स्तर पर नेतृत्व देंगे तब उनका मुक़ाबला सियासत के बड़े खिलाड़ियों से होगा, ऐसे में उनकी सांगठनिक क्षमता क्या रंग लाएगी, ये तो वक्त ही बताएगाI

देश की मुख्य सियासी पार्टी इस वक्त भाजपा है, जिसके बहुत से बड़े नेता आरएसएस में लम्बे समय तक काम करने के बाद भाजपा में आए हैं, ये देश की जनता से सहजता से जुड़ते हैं, इनके पास अच्छी भाषा और आक्रामक शैली है, कई नेता ऐसे हैं जिनके पास अच्छी भाषा नहीं है लेकिन अपनी आक्रामक शैली से वो अपनी दूसरी कमियों को छुपा ले जाते हैंI दूसरी तरफ, कांग्रेस के पास ऐसे नेता कम हैं जो भाजपा के उग्र सियासत का मुक़ाबला कर पाएँ, अशोक गहलोत को भी इनका सामना करना होगाI इस लिहाज़ से देखने पर गहलोत भाजपा नेताओं से कमज़ोर नज़र आते हैंI

सियासी दलों में पार्टी के ताक़तवर नेताओं के प्रति वफ़ादारी भी एक बहुत बड़ा गुण माना जाता है, अभी सोशल मीडिया में एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक सांसद गृहमंत्री के जूते उठाकर उनके पैरों के पास रख रहा हैI इस तरह के हरकत की कोई ज़रुरत नहीं है, लेकिन सार्वजनिक रूप से एक सांसद का ऐसा करना पार्टी के ताक़तवर नेताओं की कृपा और पार्टी लोकतंत्र के बारे में बहुत कुछ कहता हैI कांग्रेस में भी कई नेता ऐसे हैं जिन्हें गाँधी परिवार के सदस्यों के प्रति वफ़ादार बताया जाता है, अशोक गहलोत साहब के बारे में माना जाता है कि वो सोनिया गाँधी के कृपा पात्र हैं, सच क्या है पता नहीं, पर ऐसा है तो ये उनकी ताक़त में इज़ाफा ही करेगाI

अगोरा प्रकाशन की किताबें Kindle पर भी…

कुल मिलकर अशोक गहलोत की सांगठनिक क्षमता ही वो महत्वपूर्ण तत्व है जो उनके कांग्रेस के अध्यक्ष बनने की सूरत में पार्टी के काम आ सकती है, हालांकि राष्ट्रीय स्तर पर उनकी ये क्षमता कितना कारगर साबित होगी, ये तो भविष्य ही बताएगा, लेकिन कांग्रेस की चुनौतियों को देखते हुए ऐसा बिल्कुल नहीं लगता कि अशोक गहलोत के आने से पार्टी को भीतर या बाहर से कोई बड़ा लाभ मिलेगाI बाकी सियासत अनिश्चितताओं का खेल है, किस बाल पर कब कौन छक्का जड़ दे कुछ कहा नहीं जा सकताI

डॉ. सलमान अरशद स्वतंत्र पत्रकार हैं।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

1 COMMENT

  1. Good day,

    My name is Eric and unlike a lot of emails you might get, I wanted to instead provide you with a word of encouragement – Congratulations

    What for?

    Part of my job is to check out websites and the work you’ve done with gaonkelog.com definitely stands out.

    It’s clear you took building a website seriously and made a real investment of time and resources into making it top quality.

    There is, however, a catch… more accurately, a question…

    So when someone like me happens to find your site – maybe at the top of the search results (nice job BTW) or just through a random link, how do you know?

    More importantly, how do you make a connection with that person?

    Studies show that 7 out of 10 visitors don’t stick around – they’re there one second and then gone with the wind.

    Here’s a way to create INSTANT engagement that you may not have known about…

    Talk With Web Visitor is a software widget that’s works on your site, ready to capture any visitor’s Name, Email address and Phone Number. It lets you know INSTANTLY that they’re interested – so that you can talk to that lead while they’re literally checking out gaonkelog.com.

    CLICK HERE http://boostleadgeneration.com to try out a Live Demo with Talk With Web Visitor now to see exactly how it works.

    It could be a game-changer for your business – and it gets even better… once you’ve captured their phone number, with our new SMS Text With Lead feature, you can automatically start a text (SMS) conversation – immediately (and there’s literally a 100X difference between contacting someone within 5 minutes versus 30 minutes.)

    Plus then, even if you don’t close a deal right away, you can connect later on with text messages for new offers, content links, even just follow up notes to build a relationship.

    Everything I’ve just described is simple, easy, and effective.

    CLICK HERE http://boostleadgeneration.com to discover what Talk With Web Visitor can do for your business.

    You could be converting up to 100X more leads today!

    Eric
    PS: Talk With Web Visitor offers a FREE 14 days trial – and it even includes International Long Distance Calling.
    You have customers waiting to talk with you right now… don’t keep them waiting.
    CLICK HERE http://boostleadgeneration.com to try Talk With Web Visitor now.

    If you’d like to unsubscribe click here http://boostleadgeneration.com/unsubscribe.aspx?d=gaonkelog.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें