Browsing Tag

नरेंद्र मोदी

और अब भाड़े की फौज (डायरी 15 जून, 2022) 

 शासक और व्यापारी में अंतर होता है। कहने का मतलब यह कि शासक का काम व्यापार करना नहीं है और कोई भी देश कोई कंपनी नहीं होती है। भारत तो ऐसे भी…
Read More...

दस मार्च के परिणाम का संभावित असर (डायरी 7 मार्च, 2022)

सूचनाओं के निहितार्थ भी कमाल के होते हैं और हर सूचना के पीछे समाजशास्त्रीय पृष्ठभूमि होती है। ये सूचनाएं आज के समय में कितनी कारगर हैं, इसका…
Read More...

किसके लिए हैं हिंदी के ‘अखबार’? (डायरी 28 फरवरी, 2022)

ब्राह्मण धर्म के जैसे ही लेखन धर्म भी विशुद्ध रूप से धंधा है। धंधा का मतलब व्यापार है। कुछ लोगों के लिए यह रोजगार भी है। और जैसा कि हर धंधे…
Read More...

कांग्रेस ने फिर खुद को बहुजनों का वर्ग-मित्र साबित किया!

23 फ़रवरी को जब उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव 2022 के चौथे चरण का वोट चल रहा था, इसी दरम्यान एक ऐसी खबर राजस्थान से आई, जिसे सुनकर पूरे देश…
Read More...

आरएसएस का खिलौना बन रहे नरेंद्र मोदी, नीतीश और मायावती जैसे शूद्र (डायरी  21 फरवरी, 2022) 

सत्ता महत्वपूर्ण है। इतनी महत्वपूर्ण कि सत्ता जिसके पास जबतक रहती है, उसे इस बात का अहसास होता है कि वह सर्वशक्तिमान है और वह जो चाहे सो…
Read More...

 कथनी और करनी में फर्क (डायरी 17 जनवरी, 2022) 

बचपन से सुनता आया हूं कि कथनी और करनी में बहुत फर्क होता है। हालांकि बचपन में यह महसूस नहीं होता था। इसकी वजह शायद यह कि कथनी को करनी में…
Read More...

पौराणिक ग्रन्थों पर रोक लगनी चाहिए, जिनसे समाज में डर और विद्वेष पैदा होता है..

अभी हाल ही में डॉ ओमशंकर द्वारा फेसबुक पर परशुराम को लेकर की गई टिप्पणी पर उनके खिलाफ एफआई आर दर्ज की गई। यह अभिव्यक्ति के मौलिक अधिकार पर…
Read More...

अच्छे शासक लोगों से प्यार करते हैं, डरते नहीं हैं (डायरी 6 जनवरी, 2022)

 अक्सर एक विचार आता है कि अपने गृहप्रदेश बिहार पर नाज करूं। जब यह विचार आता है तो मेरा मन खुद ही अनेकानेक सवाल सृजित करता है और जवाब तलाशने…
Read More...

प्रधानमंत्री की सभा (मेंहदीगंज) के लिए काटी गयी कई एकड़ फसल के नहीं मिला मुआवजा, किसानों ने एसडीएम…

अक्टूबर के 25 तारीख को रिंग रोड उद्घाटन कार्यक्रम के लिए मेंहदीगंज में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की सभा के लिए लगभग अठारह एकड़ धान की…
Read More...

क्या नेहरू की समाजवादी धर्मनिरपेक्ष विरासत अराजकता के वर्तमान दौर का मुकाबला कर पाएगी?

भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की 133 वीं जयंती पर लोग उन्हें याद कर रहे हैं और अपने-अपने तरीके से उनको श्रद्धांजलि दे रहे हैं।…
Read More...